loading...

राजा बेटा चोदो अपनी माँ को

प्रेषक : विनीत

हेलो फ्रेंड्स…..में विनीत हूँ उम्र 23 और लंड का साइज़ 6 इंच है और में कामुकता का बहुत बड़ा फैन हूँ जो स्टोरी में आप को बताने जा रहा हूँ वो रियल स्टोरी है तो अब में स्टोरी पर आता हूँ.

सुबह के 8 बजे अश्विन को जगाने उसकी माँ उसके कमरे में गयी अश्विन, 19 साल का लड़का जो की बी.कॉम II ईयर मे पढ़ता है  सुबहा जल्दी उठने की आदत मे लगा था जो उससे ज़्यादा उसकी माँ करती थी अश्विन की माँ की उम्र 44 साल है और एक माल औरत है उसका नाम शिल्पा है और औरत एकदम कामुक भी है छोटे से चिपके हुये उसके 38 साइज के संतरे देखकर किसी नपुंसक का भी लंड खड़ा हो जाये और गांड ऐसी की हर लंड को चुम्बक की तरह अपनी तरफ खीचती जाये शिल्पा के पति की मौत एक कार एक्सिडेन्ट मे 6 साल पहले हुई थी लेकिन इस बात का उसकी सेक्स लाइफ पर कोई असर नही हुआ वैसे भी वो कई बार अपने पति को धोखा दे चुकी थी कभी अपने बॉस से या कभी अपने कॉलेज के लडको से कभी अपने पति के बॉस से या फिर कभी उसके दोस्तो से उसकी चूत की भूख कभी कम नही हो सकी अश्विन जो की अब बड़ा हो चुका था और पिछले 3 सालो से अपनी माँ के जिस्म को देखने लगा था दिन रात उसे चोदने के सपने देखने लगा लेकिन सपना सपना ही रहा हकीकत नही बन पाया लेकिन आज कुछ होने वाला था कुछ अलग जो उसकी जिंदगी बदल देने वाला था सुबह 8 बजे जब उसकी माँ उसे जगाने गयी तब वो नाह कर आई थी.

शिल्पा : अश्विन!! चलो उठो बेटा सुबह हो गयी तुम जल्दी उठो मुझे नहाने जाना है.

अश्विन : हाँ हाँ माँ में उठ गया हूँ.

जैसे ही अश्विन ने आँखे खोली तो उसकी आँखे फटी की फटी रह गयी उसकी माल माँ उसके सामने सिर्फ़ टावल मे थी उसके बड़े बड़े दो संतरे और उनके बीच की धारी वो टावल छुपा नही पाया और टावल इतना ही लंबा था की चूत के नीचे सिर्फ 1 इंच तक का बदन छुपा सके अश्विन की आँखे उसकी माँ के बोबो पर गड़ गयी ये सब देखकर शिल्पा थोड़ा शर्मा गई और थोड़ा अजीब सा फील करने लगी की उसका अपना बेटा उसको हवस भरी नज़रो से देख रहा है.

अश्विन की नज़र अब उसकी जाँघो पर पड़ी उसके पलंग पर बैठी उसकी माँ की गोरी गोरी जाघें  देखकर उसका लंड पजामे में टाइट हो गया वो किसी भूखे शेर की तरह अपनी माँ के बदन को देखने लगा उसका हाथ उसका हाथ उसके टावल पर था और टावल उस जगह पर पड़ा था जहा  पलंग पर कुछ पड़ा था और टावल उस मे फंस गया था जैसे ही उसकी माँ रूम से बाहर जाने के लिये खड़ी हुई उसका पूरा टावल उसके बदन से उतर कर अश्विन के हाथ पर पड़ गया.

शिल्पा! अश्विन की माँ उसी के सामने उसके कमरे में एकदम से नंगी हो गयी घबराहट मे उसने जल्दी से टावल खीच लिया और उससे अपने बोबो और चूत को छुपा लिया और वहा से भाग निकली लेकिन इससे उसकी बड़ी गांड के चूतड़ अश्विन को नज़र आ गये ये सब इतनी जल्दी मे हो गया की अश्विन को कुछ समझ मे ही नही आया वो जल्दी से बाथरूम मे घुस गया और मूठ मारने लगा वो इतना एग्ज़ाइटेड था की दरवाजा भी लगाना भूल गया जब उसकी माँ साड़ी पहनकर हॉल मे जाने के लिये निकली तो उसने देखा की बाथरूम का दरवाजा खुला है और जब उसे बंद करने गयी तो देखा की अश्विन मूठ मार रहा है वो समझ गयी की वो किसके बारे मे सोचकर मूठ मार रहा है शिल्पा अचंभे मे बोली.

शिल्पा : अश्विन! ये तुम क्या कर रहे हो?

अश्विन : [शॉक्ड] ओह!!! सॉरी सॉरी सॉरी…आइ एम सॉरी माँ.

शिल्पा : तुम मेरे बारे में सोचकर मूठ मार रहे थे ना? तुम्हे शर्म नही आती ऐसा करते हुये ऐसे सोचते हुये?

अश्विन : आइ एम सॉरी माँ आगे से ऐसा नही करूँगा!!

शिल्पा : क्या तुम मेरे बारे मे ऐसी सोच रखते हो?

अश्विन : बिल्कुल नही माँ !

शिल्पा : झूठ मत बोलो! अगर नही सोचते तो ये सब नही करते!

अश्विन : आइ एम सॉरी माँ आज तुम्हे ऐसा देखकर मुझसे रहा नही गया.

शिल्पा : ऐसा? ऐसा मतलब?

अश्विन : मतलब…नंगा!

शिल्पा : बेशर्म.

शिल्पा गुस्से से वहा से अपने कमरे मे जाकर ऑफीस के लिये तैयार हो गयी और नाश्ता बनाकर चली गयी अश्विन भी 11 बजे कॉलेज के लिये निकल गया लेकिन दोनो के दिमाग़ मे एक ही बात चल रही थी अश्विन पूरे दिन अपनी माँ के नंगे बदन के बारे मे सोचता रहा और शिल्पा अपने बेटे की बेशर्मी के बारे मे सोचती रही लेकिन शिल्पा उसे थोड़ी देर बाद उस स्थिति  के बारे मे एक अलग नज़रीये से देखने लगी शिल्पा सोचने लगी अश्विन ने कुछ ग़लत तो नही किया.

शिल्पा सोचने लगी की आख़िर वो अब बड़ा हो गया है 19 साल का हो गया है तुम्हे जो भी मर्द नंगा देखेगा वो तो सीधा तुझे चोदने ही लगे वो तो फिर भी मूठ ही मार रहा था वैसे उसका लंड था बड़ा अच्छा 7 इंच का तो होगा ही  और मोटा भी बिल्कुल मेंरे पति की तरह क्यों ना अपने बेटे से खुद को चुदवा लूँ?  हफ्ते दो हफ्ते मे लंड मिलने से तो अच्छा है रोज का और घर का  लंड कुछ बुरा नही शिल्पा रानी चुदवा अपने बेटे से उसका लंड भी खुश और तेरी चूत भी खुश शाम 5 बजे अश्विन कॉलेज से वापस आ गया था और टी.वी देख रहा था 6 बजे शिल्पा ने  डोर बेल बजाई उसने दरवाजा खोला लेकिन अपनी माँ से नज़र ना मिला पाया शिल्पा समझ गयी की वो शर्मिंदा है लेकिन आज बेशर्म तो वो खुद होने वाली थी वो सीधा बेडरूम मे चली गयी और आधे घंटे बाद गाउन पहन कर अश्विन के पास मे आकर बैठ गयी और ऐसे बर्ताव  करने लगी जेसे सब कुछ नॉर्मल है.

शिल्पा : कौनसी फिल्म देख रहे हो बेटा?

अश्विन : इंग्लीश फिल्म है.

शिल्पा : अच्छा…तुम्हे इंग्लिश फ़िल्मे बहुत अच्छी लगती है ना?

अश्विन : हाँ माँ!

शिल्पा : और क्या क्या अच्छा लगता है तुम्हे?

अश्विन : क्रिकेट, म्यूज़िक और घूमना

शिल्पा : और लड़कियां? क्या तुम्हे लड़कियां पसंद नही?

अश्विन : [घबराता हुआ और शर्माता हुआ] में कुछ समझा नही माँ!!!

शिल्पा : [कामुक आवाज़ मे] तुम सब समझते हो बेटा एक सवाल का सच सच जवाब दो गे?

अश्विन : क्या?

शिल्पा : पहले मेरी कसम खाओ की सब सही जवाब दो गे.

अश्विन : हाँ दूंगा.

शिल्पा : क्या में तुम्हे अच्छी लगती हूँ?

अश्विन : ये तुम क्या…..

शिल्पा : सिर्फ़ हाँ या ना मे जवाब दो!

अश्विन : उउम्म्म्म……….हाँ.

शिल्पा : तुम अच्छे लड़के हो अब बताओ क्या में तुम्हे सेक्सी लगती हूँ?

अश्विन : हाँ.

शिल्पा : मेरे बोबे तुम्हे अच्छे लगते है ना बेटा?

अश्विन : हाँ.

शिल्पा : क्या तुम मेरे बारे मे गंदी गंदी बाते सोचते हो? क्या तुम मुझे चोदना चाहते हो?

अश्विन : [सर्प्राइज़्ड] वॉट?

शिल्पा : हाँ या ना?

अश्विन : चुपचाप.

शिल्पा : अब बोलो भी बेटा में तुम्हारी माँ हूँ मुझसे क्या शर्माना?[और ये कहते हुये अपना हाथ उसकी जाँघ पर रख दिया]

अश्विन : हाँ माँ.

शिल्पा : फिर से कहना.

अश्विन : क्या?

शिल्पा : वही जो तुम बहुत दिनो से कहना और करना चाहते हो चलो बोलो भी.

अश्विन : हाँ माँ…………में तुम्हे…..च..च..चोदना चाहता हूँ.

शिल्पा : तो फिर किसका इंतजार कर रहे हो?

ये सुनते ही अश्विन का दिमाग़ काम करना बंद कर दिया शिल्पा ने अश्विन का हाथ अपने सीधे बोबे पर रख दिया और उसके होठो पर अपने होठ रख दिये कुछ ही सेकेंड्स मे माँ बेटे फ्रेंच किस करने लगे अब अश्विन अपने आपे मे आ गया और अपनी माँ की कामुकता मे खो गया वो उसे उठाकर उसे उसके ही रूम मे ले गया और उसे बेड पर फेक दिया शिल्पा अब एक माँ नही बल्कि एक रंडी की तरह हरकते करने लगी.

शिल्पा : आ जाओं बेटा…चोद दो आज अपनी माँ को!

अश्विन : हाँ माँ…..इसके लिये तो कई दिनो से इन्तजार कर रहा था लेकिन तुम्हारी चुदाई का मौका आज जा के मिला है! अश्विन ने किसी जानवर की तरह अपनी माँ का गाउन फाड़ दिया और उसे फेक दिया शिल्पा अब बस अपनी ब्रा और पेंटी मे थी उसके 38 साइज के बूब्स उसकी ब्रा से बाहर आने के लिये तड़प रहे थे अश्विन उन्हे बिना तड़पाये उनकी ब्रा को भी फाड़ दिया   उसकी माँ के बूब्स देखकर उसका लंड टाइट हो गया और वो उन्हे बेरहमी से दबाने लगा शिल्पा दर्द से तड़प उठी ”आअहह…धीरे बेटा धीरे….मेरे बोबे कही भागे नही जा रहे आराम से करो बेटा…आराम से  अश्विन ने अपनी स्पीड कम कर दी और अब बारी बारी एक एक बूब को चाटा और एक एक निपल को चूसा शिल्पा के निपल टाइट हो गये उसकी हवस जाग उठी और वो अपने बेटे को और उकसाने लगी ”आह….बेटा ऐसे ही बेटे..चूसो और चूसो….एक बार फिर से पी लो मेरा दूध सारा पी जाओ…..”

अश्विन : माँ तुम्हारे बोबे इतने बड़े है तुम्हे दूधवाली होना चाहिये.

शिल्पा : हट बेशर्म…अपनी माँ का दूध सारी दुनिया को पिलायेगा.

अश्विन : आज तो सिर्फ़ में ही पीऊंगा माँ.

शिल्पा : आआआआहह……और चूसो.

शिल्पा के निपल्स एकदम टाइट हो गये वो अपने बेटे कि हवस मे पागल हो रही थी अश्विन ने अब उसकी पेंटी उतार दी उसकी माँ अब उसके सामने उसके ही पलंग पर बिल्कुल नंगी थी  चुदने के लिये तैयार थी शिल्पा अपने बेटे को नंगा करने लगी उसका 7 इंच का मोटा लंड देखकर उसके मुँह में पानी आ गया और बिना किसी देरी के उसे चूसने लगी कई मर्दों से चुदी  हुई औरत आज अपने बेटे का लंड चूस रही थी जैसे की वो कोई लोली पोप हो. “ओह माँ तुम तो लंड चूसने मे बहुत अच्छी हो……”अश्विन ने कहा शिल्पा ने उसे और ज़ोर से चूसना शुरू किया अब अश्विंन से रहा नही गया वो तड़पने लगा ”माँ….में झड़ने वाला हूँ!!!”.

लेकिन उसकी माँ ने लंड अपने मुँह से नही निकाला और अश्विन ने अपना सारा पानी अपनी माँ के मुँह में ही छोड़ दिया शिल्पा ने सारा का सारा पानी पी लिया और अपने बेटे का लंड चाट चाट कर साफ कर दिया और कहा चलो बेटा अब तुम्हारी बारी  और अपनी टांगे फैलाकर अपनी चूत सहलाने लगी अश्विन समझ गया की उसकी माँ क्या चाहती है उसने अपना चेहरा अपनी माँ की चूत के सामने रख दिया और उसे सूंघने लगा और अपनी ज़बान उसकी चूत के दाने पर रख दी शिल्पा एकदम काप उठी उसका बेटा अब उसकी चूत को चाटने लगा.

शिल्पा अब रंडी की तरह उसका साथ देने लगी वो अब धीरे धीरे गर्म हो रही थी और उसे अपने मोन से और बढ़ावा दे रही थी अपनी माँ की चूत का स्वाद और उसकी सुगन्ध से अश्विन पागल हो गया और किसी आइस्क्रीम की तरह उसे चाट रहा था.”उूऊऊउउ….आआअहह…ऐसे ही करो बेटा….आहह……ओह गॉड….चाट मेरे बच्चे…चाट अपनी माँ की चूत को…..चाट  ले…आज से ये आअहह…….आज से ये चूत….आअहह…..तेरी है बेटा….जो चाहे वो करना इसके साथ….उम्म….चाट!” शिल्पा से अब रहा नही जा रहा था और ना ही अश्विन से दोनो अब चुदाई के लिये तड़प रहे थे वो अब झड़ चुकी थी और उसकी चूत एकदम गीली थी.

अश्विन : माँ!

शिल्पा : हाँ?

अश्विन : माँ अब रहा नही जा रहा में तुम्हे चोदना चाहता हूँ!

शिल्पा : तो रोका किसने है बेटा डाल दे मेरी चूत मे अपना लंड.

ये सुनते ही अश्विन ने अपना लंड अपनी माँ की चूत के उपर रखा और एक ज़ोर का धक्का लगाया शिल्पा ना तो कोई कुवांरी औरत थी और ना ही उसने बिना लंड के सालो गुजारे थे इसीलिये अश्विन का लंड उसकी माँ की चूत मे आधा घुस गया शिल्पा की एक हल्की सी चीख निकली अश्विन ने अपना लंड बाहर निकाला और एक बार फिर से पहले से जोर का धक्का दिया और अपना सारा का सारा लंड उसकी चूत मे घुसा दिया इस बार शिल्पा की एक जोरदार चीख निकली…

शिल्पा : अवववव! अबे मादरचोद!!!! इतनी ज़ोर से डालने के लिये किसने कहा था हरामखोर मेरी चूत को फाड़ दिया हरामी अश्विन बिना कुछ बोले अपनी माँ के निपल चूसने लगा और अपना सात इंच का लंड अपनी माँ की चूत मे आगे पीछे करने लगा धीरे धीरे चोदने के बाद अब शिल्पा भी मज़े लेने लगी एक हाथ से अश्विन अपनी माँ का लेफ्ट बूब दबाता और राइट  बूब को चूस रहा था उसने अपनी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी.

शिल्पा : आअहह….और ज़ोर…और ज़ोर……… से चोद दे मुझे साले हरामी…..अपनी माँ को बना दे  अपनी रंडी…..उमुऊऊ!

अश्विन : हाँ माँ आज से तुम बाहर तो मेरी माँ हो  लेकिन घर में मेरी रंडी हो और मेरी ही  नही मेरे दोस्तो की भी रंडी बनाऊंगा तुम्हे!

शिल्पा : मादरचोद……अपनी माँ को अपने दोस्तो से चुदवायेगा!

अश्विन : रंडी को ऐसे ही चुदवाते है माँ!

शिल्पा : आअहह……चोद मेरे राजा….अपनी माँ की चूत का भोसड़ा बना दे!

अश्विन : आअहह माँ में झड़ने वाला हूँ

शिल्पा : मेरी चूत में ही झड़ना अपना सारा पानी मेरी चूत मे डाल दे….आअहह

अश्विन : आअहह….ऊऊओ…माआआ…..ऊहह……फक…..ओह फक माँ ! और अश्विन अपनी माँ की चूत मे झड़ गया और उसके उपर ही लेट गया 10 मिनिट के बाद उसकी माँ मूत ने के लिये टायलेट जाने लगी और थोड़ी देर में अश्विन टायलेट मे घुस गया.

शिल्पा : तुम टायलेट मे क्या कर रहे हो? तुम जाओ में मूत कर आती हूँ.

अश्विन : नही माँ में तुम्हे मूतते हुये देखना चाहता हूँ!

शिल्पा : बेशर्म कही का!

शिल्पा मूत कर जब खड़ी हुई तो अश्विन ने कहा माँ में तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ.

शिल्पा : चल हट बेशर्म चूत से प्यास नही बुझी क्या जो अपनी माँ की गांड भी माँग रहा है.

अश्विन : प्लीज़ माँ….गांड मारने दो ना! प्लीज़…..

लेकिन शिल्पा बिना कुछ कहे बेडरूम मे चली गयी अश्विन बाथरूम मे उदास खड़ा रहा और लंड को सहलाते हुये बेडरूम मे चला गया बेडरूम मे जाते ही वो खुश हो गया उसकी माँ बेड पर  डॉगी स्टाइल मे थी उसकी गांड दरवाजे की तरफ थी और उसकी गांड का सुराख अश्विन को साफ नज़र आ रहा था वो गांड को हल्के हल्के लहराते हुये अपने बेटे को अपनी गांड मारने के लिये इन्वाइट कर रही थी.

शिल्पा : मादरचोद….ले मेरी गांड मारना चाहता है ना….ये ले अपनी रंडी माँ की गांड कुत्ते घुसा दे अपना लंड इस कुत्तिया की गांड मे और फाड़ दे मेरी गांड मेरे बच्चे!

अश्विन : ऐसी गांड मे से तो में सारी जिंदगी अपना लंड ना निकालु!

शिल्पा: बेशर्म!

फिर अश्विन अपनी माँ की गांड मारने लगा उस रात अश्विन अपनी माँ को हर पोज़िशन मे हर होल चोदता रहा उन माँ बेटे की चुदाई सुबह 4 बजे तक चलती रही शिल्पा इस बीच कई बार झड़ गयी थी और अश्विन भी दोनो अपनी हवस पूरी करने के लिये अपने माँ बेटे का रिश्ता भूलकर एक रंडी और रंडवे का रिश्ता बना चुके थे चुदाई करने के बाद दोनो थक गये और सोने की कोशिश करने लगे और बाते करने लगे

अश्विन : माँ आइ लव यू.

शिल्पा : बेटा आइ लव यू टू….तो बताओ अपनी माँ को चोद कर कैसा लग रहा है मेरे बेटे को?

अश्विन : बहुत अच्छा माँ

शिल्पा : मुझसे पहले किसी को चोदा है क्या?

अश्विन : नही माँ तुम्हारी चूत मेरी जिंदगी की पहली चूत है!!!

शिल्पा : रियली…मेरे बेटे ने अपनी इज्जत अपनी माँ पर लुटाई है? सच?

अश्विन : हाँ माँ में तुमसे एक सवाल पूछु तुमसे?

शिल्पा : हाँ पूछो…एक क्या एक हजार पूछो.

अश्विन : मेरे और पापा के अलावा…..तुम्हे और किसने चोदा है

शिल्पा : [हंसते हुये] किसने? ऐसे पूछ किसने नही चोदा है?

अश्विन : मतलब तुम सच मे एक…..एक चुदकड़ औरत हो.

शिल्पा : बेशर्म अपनी माँ से ऐसे बात करते हुये शर्म नही आती?

अश्विन : अपने बेटे से चुदते वक़्त अगर तुम्हे शर्म नही आई तो अपनी माँ को चुदकड़ कहते मुझे भला शर्म क्यों आयेगी? प्लीज़ माँ बताओ ना तुम्हे किसने किसने चोदा है?

शिल्पा : उम्म्म्म ज़रा सोचने दो……..तुम्हारे पाप ने चलो शुरुवात से याद करती हूँ जब कॉलेज मे थी तब मेरे 2 दोस्तो ने….मेरे टीचर ने…फिर मेरे ऑफीस के 5 लड़के और 3 लड़कियां ओके एकसाथ ग्रूप सेक्स….फिर मेरे बॉस ने….शादी के बाद तुम्हारे पापा….तुम्हारे चाचा से…..मेरे जीजू से..तुम्हारे पापा के 3 दोस्तो से……और फिर.

अश्विन : और फिर? और किससे चुदी हो माँ?

शिल्पा : और फिर एक ग्रूप सेक्स मे तुम्हारे 4 दोस्तो के साथ!

अश्विन : वॉट ? तुम्हे मेरे दोस्तो ने भी छोड़ा है?

शिल्पा : हाँ मेरे राजा…..तुम्हे क्या लगता है में हर शनिवार दोपहर को 3 बजे क्या फिल्म देखने जाती हूँ? नही…..में तो हर शनिवार को अपनी चुदाई के लिये जाती हूँ कभी तुम्हारे दोस्तो से, कभी तुम्हारे पापा के दोस्तो से या फिर कभी अपने दोस्तो से, हाहहहः

अश्विन : माँ तुम सच मे रंडी हो….दुनिया की सबसे प्यारी रंडी माँ!

शिल्पा : थैंक्यू मेरे मादरचोद बेटा!

अश्विन : माँ अपनी चुदाई की कहानियां सूनाओ ना प्लीज़!

शिल्पा : सुनाउंगी सुनाउंगी लेकिन अभी नही अभी हमें सोना चाहिये और दोनो वही पलंग पर नंगे सो गये शिल्पा ने वादे के मुताबिक सभी कहानीयां अपने बेटे को बताई अगर आप भी वो कहानियां जानना चाहते हो तो इस कहानी को शेयर करो. अगर पॉज़िटिव रिप्लाई आया तो आगे की कहानीयां भी आपके सामने पेश करूँगा.

धन्यवाद..

Leave A Reply

Your email address will not be published.

7 Comments

  1. Anonymous says

    nice story

  2. rakrsh says

    very good story

  3. pari says

    Haaye kya mast kahani hai yrr

    1. raj says

      Pari call me

      1. Anonymous says

        I.love.you

    2. Deepak says

      Hello pari

    3. vickey says

      हलो मुझे आचछी लगी ये कहनी मै भी किसी को चोदना चाहता हू पर किसे चोदु

      हलो परी कया तुम मुजसे चुदना चाहगी