Antarvasna Kahniyan, Kamukta, Desi Chudai Kahani
loading...

गीता का सपना पूरा किया

प्रेषक : राकेश
हाय दोस्तों. ये स्टोरी 3 साल पुरानी है हमारे पड़ोस मे सालों से एक फेमिली रहती थी राजू अंकल और मीना आंटी उनका बेटा राजन और बेटी रीना अक्सर वो लोग गर्मी की छुट्टियों मे अपने गावं जाते थे इस बार उन्होने बताया की गावं मे अंकल के छोटे भाई रमेश की शादी है और वो भी शादी के बाद मुंबई आकर उनके साथ रहेगा वैसे हमने अपने घर साथ में ही बनाये थे इसलिये पहले माले पर जाने के लिये एक ही रास्ता था जून के पहले हफ्ते मे जब वो लोग लोट के आये तो उनके साथ एक नया जोड़ा भी था रमेश और उसकी वाइफ गीता क्या बताऊं दोस्तों साले रमेश की तो लौटरी लग गयी थी गीता इतनी खूबसूरत थी की बस उसे देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था धीरे धीरे मैंने भी उनके घर आना जाना शुरू किया वैसे कभी कभी मीना आंटी राजन और रीना को पढ़ाने के लिये मुझे बुला लेती थी लेकिन अब गीता आ गई थी जिसने बी.कॉम किया हुआ था.

एक दिन मीना आंटी ने मुझे बुलाया और कहा की मैं ज़रा गीता की हेल्प करूँ उसे मुंबई की पढ़ाई थोड़ी हार्ड पड़ रही है और वो बच्चो को ठीक से पढ़ा नही पाती है बस मुझे उस दिन से मौका मिल गया गीता के क़रीब आने का मैं हर वक़्त गीता के चेहरे पर उदासी देखता था इसी लिये मुझे थोड़ा टेन्शन था लेकिन फिर राजू अंकल से पता चला की रमेश अब शराब का आदि हो गया है और बहुत मोज करने लगा है और इसलिये गीता भी परेशान है बस मुझे मौका मिल गया मैने गीता से बात करते करते उसे खुश करने की कोशिश की और वो मेरी बातें सुन कर खुश हो जाती.

फिर मैं उसे पढ़ाने के बहाने यहाँ वहां टच करने लगा पहले लगता था की उसे पता नही चलता होगा पर थोड़े दिनो बाद वो मुझसे थोड़ा दूर रहने लगी एक दिन बच्चो को पढ़ाते हुये मैने गीता से पूछ लिया क्या वो मुझसे नाराज़ है पर उसने कहा नही आपको ऐसा क्यों लगता है तो मैने बहाना बना दिया ऐसे ही पूछा फिर शायद वो समझ गई थोड़ी देर के बाद मैने बहाना करके उसके बूब्स को टच किया और उसने कुछ नही कहा फिर मैं उस दिन उसे यहा वहाँ टच करता रहा और वो बस मुस्कुराती रही फिर मैने उससे पूछा क्या वो गावं से मुंबई आकर खुश है तो उसने मुझे बताया की वो बचपन से यही चाहती थी की वो मुंबई मे रहे घूमे फिरे और इन्जॉय करे लेकिन उसकी क़िस्मत ने उसे ये मौका ही नही दिया अचानक ये कहने के बाद वो डर गयी शायद उसे बाद मे एहसास हुआ की उसने ये क्या कह दिया लेकिन मैने उसे समझाया की मैं ये बात किसी को नही बताऊंगा वो मुझसे दिल खोलकर अपनी बात कर सकती है.

फिर कुछ दिनों तक गीता ने मुझसे ज़्यादा बात नही की जितना मैं उसे पूछता वो उतना ही बताती फिर एक दिन मुझे राजा ने बताया की 3 दिन बाद संडे को उनके स्कूल का एन्यूयल डे है और उसने स्लो सिंगिंग मे हिस्सा लिया है मैने उसको सिंगिंग मे हेल्प करी मैने मीना आंटी से कहा की अब से मैं राजू और रीना को उपर के कमरे मैं पढाऊंगा और उनको सिंगिंग भी सिख़ाउंगा आंटी ने कहा कोई बात नही साथ मे गीता को भी ले लो उसका भी मन लग जायेगा मैने कहा ठीक है फिर दूसरे दिन जब हम उपर के कमरे मे गये तो मैने राजू की ट्रैनिंग शुरू की और उसे सिंगिंग सीखाने लगा गीता भी खुश थी और मुस्कुरा रही थी मैने उससे कहा गीता तुम ऐसे ही मुस्कुराया करो तुम मुस्कुराते हुये बहुत अच्छी लगती हो उसकी मुस्कुराहट और बड़ गई.

रीना कोई बुक लेने बुक स्टोर गयी तो मैने राजू को भी बहाना बनाकर बुक स्टोर भेज दिया और कहा की रीना को ये बुक भी लाने के लिये कहो राजू जैसे ही उतरा मैने गीता से कहा की मैं उसे गले लगाना चाहता हूँ वो मुझे आज बहुत सुंदर लग रही है उसने मुस्कुराते हुये मना किया लेकिन मैने ज़बरदस्ती उसे अपनी बाहों में ले लिया मैने देखा की उसकी नज़रे दरवाज़े पर थी और वो मुझे बार बार कह रही थी की कोई आ जायेगा मैं समझ गया उसके मन मैं क्या है बस मैने उसके बूब्स आहिस्ता से दबाने शुरू किये और उसे किस करने लगा थोड़ी देर में वो भी गरम हो गई और मेरा साथ देने लगी मैने धीरे से अपना हाथ उसकी चूत पर लगाया फिर धीरे धीरे उसकी साड़ी के उपर से ही उसकी चूत सहलाने लगा वो और ज़्यादा गर्म हो गयी और उसने मुझे कस कर पकड़ लिया.

थोड़ी देर ओरल सेक्स करने के बाद मैने अपना लंड निकाल कर उसके हाथ मे दे दिया वो जैसे घबरा गयी उसकी आँखे मेरे लंड को घूर घूर कर देखने लगी फिर उसने कहा आपका इतना बड़ा और मोटा कैसे है आपकी तो अब तक शादी भी नही हुई तो मैने उससे कहा की जान ये मुंबई है यहाँ ऐसे ही अनमोल चीज़ मिलती है अचानक मेरी नज़र सीढियों पर पड़ी की राजू और रीना उपर आ रहे है मैं गीता से दूर हो गया और पलट कर अपना लंड पैंट मे डाल दिया उस दिन गीता मुझे प्यासी नज़रों से देखती रही उस दिन रात को मैने देखा रमेश बहुत ज़्यादा शराब पी कर घर आया और उसे चलने का भी होश नही था मैने उसे सहारा दिया और उसे उपर ले गया जाते वक़्त मैने देख लिया था की आंटी अंकल सो गये थे और उनका दरवाज़ा बंद हो गया था बस मैने प्लान बना लिया रमेश को उपर ले जा कर मैने बेड पर एक कोने मैं सुला दिया और गीता से बात करने लगा गीता रोने लगी.
ये देखकर मैने गीता को अपनी बाहों में ले लिया और उसे समझाने लगा जब मुझे यक़ीन हो गया की अब रमेश सुबह तक नही उठने वाला है तो मैने गीता को किस करना शुरू किया वो भी समझ गयी थी की ये मौका अच्छा है उसने भी मेरा साथ दिया किस करते करते मैने गीता का ब्लाउज खोल दिया यारों इतने बड़े बूब्स होंगे मैने सोचा नही था और मैं ज़ोर ज़ोर से उसके बूब्स चूसने लगा धीरे धीरे मैने अपना हाथ उसकी साड़ी मैं डालना शुरू किया पर ये क्या गीता ने खुद अपनी साड़ी निकल दी और दोनो पैर खोल कर मुझे किस करने लगी मैने जैसे ही उसकी पेंटी मैं हाथ डाला पता चला वो झड़ गयी है मैं अपनी उंगली उसकी चूत मैं डालकर कर फिंगरिंग करने लगा वो बहुत ज़्यादा गर्म हो गई थी फिर मैने धीरे धीरे उसके सारे कपड़े उतार दिये.

अब गीता मेरे सामने पूरी नंगी खड़ी थी आह दोस्तों क्या फिगर था उसका शायद 38-34-36 होगा मैने अपना लंड निकाला लेकिन उसने भी मुझे उपर से नीचे तक चूमते हुये मेरे सारे कपड़े निकाल दिये फिर मैने उसे अपना लंड मुँह में लेने को कहा उसने मना किया फिर मैने अपनी ज़ुबान उसकी चूत मैं डाल दी वो तो उछल गई ओर मेरे बालों को सहलाने लगी मैं उसे ज़ुबान से चोदने लगा और वो उचक उचक कर मेरा साथ देने लगी थोड़ी देर के बाद उसे मैने फिर से अपना लंड मुँह मैं लेने को कहा पर उसने नही लिया और मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के उपर रगड़ने लगी मैं समझ गया अब इसे चुदाना है मैने आहिस्ता से अपना लंड उसकी चूत मैं डालने की कोशिश की लेकिन शायद उसकी चूत का होल बहुत छोटा था.

मेरा लंड अंदर नही गया फिर मैने पास ही पड़ी हुई तेल की बोतल को उठाया और उसे अपने लंड पर मल दिया और थोड़ा उसकी चूत पर भी लगाया फिर कोशिश करने के बाद मेरा लंड उसकी चूत मैं 3 इंच घुस गया शायद उसे बहुत दर्द हो रहा था उसके आँसू निकल आये मैने आहिस्ता आहिस्ता धक्का मारना शुरू किया और धीरे धीरे मेरा पूरा लंड अंदर चला गया और अब गीता को भी मज़ा आने लगा उसने भी उछल उछल कर मेरा साथ दिया और तकरीबन 15 मिनिट के बाद मैने उससे कहा की मैं झड़ने वाला हूँ उसने कुछ नही कहा और वो बस मेरा साथ दे रही थी वो शायद अपनी वासना का पूरा आनन्द ले रही थी मैने अपनी पूरी मलाई उसकी चूत मैं ही छोड़ दी उस रात मैने उसे 4 बार चोदा कभी लेटा कर कभी उल्टा कभी वो मेरे उपर और कभी डॉग शॉट मारा बस उस दिन के बाद से शायद गीता मेरी हो गई.

फिर सुबह मैं जल्दी उठकर अपने कमरे मैं चला गया और एन्यूयल डे के दिन अंकल आंटी साथ नही आये प्रोग्राम शायद 5 घंटे चलने वाला था मैं गीता को पास ही के एक लॉज मे ले गया वहाँ भी जमकर उसको चोदा उसके बदन का ऐसा कोई हिस्सा नही बचा जहाँ मैने उसे किस नही किया हो वो भी बहुत खुश थी उस दिन के बाद जब भी उसे मौका मिलता वो मुझे किस कर लेती और हम ऐसे ही मज़ा करते रहते है अब गीता को एक लड़का हुआ है वैसे तो गीता और रमेश दोनो गोरे है पर उनका लड़का थोड़ा सांवला है दोस्तों आप समझ ही गये होंगे वो सांवला क्यों है वैसे कैसी लगी मेरी स्टोरी शेयर ज़रूर करना .

धन्यवाद …

Leave A Reply

Your email address will not be published.

1 Comment
  1. value says

    Aayas