Antarvasna Kahniyan, Kamukta, Desi Chudai Kahani
loading...

ऑटो वाले ने सील तोड़ी

प्रेषक : साक्षी चौहान

हैल्लो फ्रेंड्स.. मेरा नाम साक्षी चौहान है और में दिल्ली की रहने वाली हूँ और मेरी उम्र 21 साल है। दोस्तों आज में वास्तविक कहानी आप सभी को बताने जा रही हूँ। दोस्तों यह मेरी अपनी एक सच्ची स्टोरी है। अब पहले में अपना परिचय कराती हूँ.. दोस्तों में एक अच्छे घर की लड़की हूँ.. मेरे बूब्स 34 साईज़ के है, मेरी कमर 28 और मेरी गांड 36 की है।

तो दोस्तों यह बात आज से दो साल पहले की है.. जब में 19 साल की थी और मैंने पहले साल कॉलेज में प्रवेश लिया था और मुझे अकेले में अपनी फोटोग्राफी करने की आदत थी.. मेरे मोबाइल में मेरे कई सारे सेक्सी हॉट फोटो थी। फिर उस दिन शनिवार था और फिर में नीले कलर की शर्ट के अंदर काले कलर की ब्रा और नीचे काले कलर की पेंटी और काले कलर की जीन्स पहन कर कॉलेज के लिए निकली। फिर मैंने जाने के लिये एक ऑटो किया और करीब 40 मिनट के बाद में कॉलेज पहुँच गयी। फिर जैसे ही में कॉलेज के गेट तक पहुँची तभी अचानक मुझे याद आया कि मेरा मोबाईल तो ऑटो में ही रह गया। तभी में झट से ऑटो के पीछे भागी लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ और वो चला गया था। फिर मुझे टेंशन उस बात की नहीं थी कि मेरा मोबाईल ग़ुम हो गया है लेकिन इस बात की टेंशन थी कि उसमे मेरी कई पर्सनल फोटो है जो मैंने खींची थी और वो बहुत ही सेक्सी और बोल्ड थी।

फिर मैंने दिन भर बहुत ट्राई किया लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ.. सिर्फ़ मोबाईल की घंटी बज रही थी। फिर पूरा दिन टेंशन में बीतने के बाद जब में घर पहुंची और फिर रात को करीब 9 बजे मैंने फिर से ट्राई किया और उस वक़्त फोन किसी ने उठाया और उस तरफ से किसी लगभग 35 साल के आदमी की आवाज़ थी। तभी उसने कहा कि क्यों अपना मोबाईल चाहिए? फिर में झट से बोली कि हाँ चाहिए। तभी उसने कहा कि ठीक है कल दोपहर में आकर ले जाना। फिर मैंने पूछा कि आप कौन हो? और मुझे कहाँ आना होगा मोबाइल लेने। तभी उसने कहा कि कल ठीक 2 बजे आप अपने पास वाले पार्क आ जाना और फिर बोला वैसे तुम्हारी फोटो बहुत सेक्सी है और तुम्हारी कमर तो बड़ी लचीली है और तुम्हारी गांड भी.. मज़ा आ गया तुम्हारी फोटो देखकर। यह बात सुनते ही मानो जैसे मेरे पैर के नीचे से ज़मीन खसक गयी और में रात भर सो नहीं पाई।

फिर अगले दिन रोज़ की तरह कॉलेज गयी और कॉलेज से थोड़ा जल्दी निकल गयी और पास वाले पार्क में जाकर मैंने एक दुकान से कॉल किया अपने नंबर पर.. फिर से उस आदमी ने फोन उठाया और कहा कि तुम आ रही हो ना? फिर मैंने कहा कि हाँ में पार्क में आ चुकी हूँ कहाँ हो आप? और प्लीज मेरा मोबाईल मुझे दे दो मुझे घर जाना है। तभी उसने मुझे बिलकुल सही जगह बताई और कहा कि एक बार आ तो जाओ में तुम्हे दे दूंगा। फिर में घबराते हुए चल पड़ी वहाँ पर लड़के और लडकियों के बहुत जोड़े थे और सभी एक दूसरे से मज़े ले रहे थे.. मुझे थोड़ी शरम आ रही थी और कई लोग मुझे घूर घूरकर देख रहे थे। तभी अचानक आवाज़ आई आ गयी तुम? फिर मैंने पीछे मुड़कर देखा तो ये तो वहीं ऑटो वाला था.. जिसने मुझे उस दिन कॉलेज छोड़ा था और उसकी उम्र करीब 35 साल की थी। तभी मैंने कहा कि अंकल प्लीज मेरा मोबाईल मुझे दे दो। फिर उसने कहा कि दे दूँगा ऐसी कौन सी जल्दी है ज़रा आगे चलना। तभी मैंने मना किया तो उसने मेरा कंधा पकड़ लिया और ज़ोर से धक्का दिया.. वो बहुत मजबूत था और उसने शायद शराब भी पी रखी थी। फिर में भी उसके साथ चुपचाप चलने लगी फिर चलते चलते हम लोग बहुत आगे आ गये वहाँ पर तो ऐसा लग रहा था कि यहाँ शायद कोई कभी आया ही ना हो। फिर एक जगह आकर वो रुक गया और बोला कि ये ठीक जगह है। फिर मैंने कहा कि तुम मुझे यहाँ क्यों लाए हो?.. दे दो मेरा मोबाईल आपको पैसे चाहिए तो ले लो जीतने चाहिए।

तभी उसने कहा कि मेरी जान पैसा ही सब कुछ नहीं होता और तेरी जैसी मस्त माल के सामने पैसा क्या है? तू थोड़ा मज़ा तो लेने दे मेरी जान आज तो तू क़यामत लग रही है मेरी रानी। तभी मैंने मना किया तो उसने मुझे जोर से थप्पड़ लगाया और फिर कहा कि साली रांड में ना सुनने के लिए नहीं आया यहाँ पर और अब ज्यादा नाटक करेगी तो नंगी करके तेरी फोटो खीचकर ले जाऊंगा और मोबाईल भी नहीं दूँगा और फिर सभी को तेरी फोटो भेज दूँगा और फिर बन जाना पूरी दिल्ली की रंडी। तभी मैंने अपने आप को उसको सौंपने का फ़ैसला मन में कर लिया था और में रोने लगी और रोते रोते मैंने कहा कि ठीक है में तुम्हारी हर बात मानूँगी लेकिन प्लीज मेरा मोबाईल मुझे दे दो।

फिर उसने कहा कि अब हुई ना बात में तुझे तेरा मोबाईल दूंगा लेकिन काम खत्म होने के बाद। फिर उसने मुझे अपनी बाहों में भर लिया और पागलो की तरह मुझे चूमने लगा उसके मुहं से दारू की बदबू आ रही थी। फिर उसने अपनी जीभ को मेरे मुहं में डाल दिया और एक हाथ से मेरे बूब्स दबा रहा था और वो एक हाथ मेरी गांड पर रखकर रगड़ रहा था और फिर वो मेरी ब्रा की डोरी खोलने लगा और थोड़ी देर में उसने मेरी ब्रा उतार दी। फिर में उसके सामने ऊपर से पूरी नंगी थी। फिर उसने मेरे बूब्स ज़ोर से दबाए और मसलने लगा और फिर मसलते हुए वो मेरा मुहं अपनी जीभ से चाट रहा था.. अब तो में भी उसका साथ देने लगी और अब मेरे भी तन बदन में आग लग रही थी। फिर हम घास पर कब लेट गये में समझ ही नहीं पाई।

फिर उसने मुझे गांड के बल नीचे सुला दिया फिर वो मेरा सारा बदन चाटने लगा और वो कह रहा था कि रंडी तेरे बदन पर हज़ारो लंड कुर्बान, भोसड़ी की आज तेरी ऐसी चुदाई करूँगा कि दस दिन तक चल नहीं पाएगी आज के बाद तू मेरी पर्सनल रंडी बनेगी और मुझे रोज एक शॉट देगी। में यह सब सुनकर मदहोश होने लगी और फिर उसकी मजबूत बाहों में समा गयी। फिर में उसकी बाहों में ऐसे लग रही थी जैसे कोई अपने बच्चे को गोद में खिला रहा हो। फिर उसने मेरे बाल पकड़ कर कहा कि चल मेरी रांड अब फटाफट अपने रसिया का लंड चाट। फिर में तो कब से तैयार थी और झट से मैंने उसका तना और कसा हुआ, काला, मोटा, बड़ा लंड हाथ में पकड़ा और फिर चूसने लगी। फिर मैंने 1/2 घंटे तक उसका लंड चूसा और फिर उसने सारा वीर्य मेरे मुहं में छोड़ दिया और कहने लगा कि ले मेरी छीनाल तेरे लिए ताज़ा ताज़ा माल है पी ले सारा, कुछ भी मत छोड़ना और भी मिलेगा डर मत अभी तूने इसका जलवा देखा नहीं है। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर वो अपने एक हाथ से मेरी चूत रगड़ने लगा और एक हाथ से मेरे बूब्स दबाने लगा और कहने लगा कि कुतिया बता तेरे बूब्स इतने कसे हुए कैसे है? तभी उसने मेरी जीन्स उतार दी और मेरी पेंटी के ऊपर से मेरी चूत को चूमने लगा। तभी उसने जल्दी से मेरी पेंटी भी उतार दी और फिर मेरी चूत को पागलों की तरह चाटने लगा और चूमने लगा। फिर में तो अब पूरी तरह से मदहोश हो चुकी थी और मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। तभी उसने मेरी चूत पर ज़ोर से थप्पड़ मारा और अब वो मेरी चूत के अंदर उंगली डाल रहा था। तभी में तो जैसे पागल सी हो गयी थी। फिर उसने मेरी चूत के ऊपर थूक दिया फिर उसने अपना लंड मेरी चूत पर रखा और फिर धीरे धीरे उसे अंदर डालने लगा लेकिन मुझे बहुत दर्द हो रहा था और फिर में चिल्लाने लगी।

तभी उसने अपने मुहं को मेरे मुहं पर रख कर मेरी आवाज़ को बंद कर दिया। फिर मेरे भी सेक्सी सपने सच होने वाले थे। तभी अचानक उसने एक ज़ोर सा झटका लगाया और फिर उसका पूरा लंड मेरी चूत के अंदर था। मुझे बहुत दर्द हुआ मैंने दर्द से उसके बाल पकड़ कर खीच दिए। फिर वो करीब 5 मिनट तक ठीक वैसे ही रहा.. उसने लंड को जरा भी नहीं हिलाया। फिर मेरा दर्द भी कम हो चुका था और मुझे अब और भी ज्यादा मज़ा आने लगा और फिर में उसके होंठो को चूसने लगी। फिर करीब 15 मिनट तक वो अपना लंड मेरी चूत के अंदर डालकर जोर जोर से झटके मारता रहा। फिर उसने अपना मोटा लंड मेरी चूत से निकाला और फिर वो अब मेरी गांड को सहलाने लगा और फिर मेरी गांड को चूमने लगा और फिर उसने मेरी गांड पर थूक लगाया और फिर अपना काला मोटा लंड मेरी गांड के छेद के पास रखकर मेरे बूब्स दबाने लगा और फिर धीरे धीरे अपने लंड को मेरी गांड के छेद में डालने लगा। फिर अपनी गांड मरवाने के लिये में भी तैयार थी.. और तभी मैंने ज़मीन पर घास को पकड़ लिया। तभी उसने अचानक एक ज़ोर का झटका लगाया और उसका मोटा, काला लंड मेरी गांड के अंदर आधा घुस गया और फिर मेरी आँख से आँसू आने लगे।

फिर उसने अपना लंड और पीछे लेकर और जोर से झटका दिया इस बार में मर गयी.. ऐसा लगा कि जैसे मेरी गांड फट गयी और उसका पूरा लंड मेरी गांड के अंदर समा गया। तभी में दर्द से चिल्ला उठी.. लेकिन उसने अपने दोनों हाथों से मेरा मुहं बंद कर दिया। फिर धीरे धीरे वो अपना लंड मेरी गांड के अंदर बाहर करने लगा। फिर धीरे धीरे मुझे भी मज़ा आने लगा। फिर वो मेरी गांड और जोर जोर से चोदने लगा में आअहह उहह ओउउच कर रही थी। फिर करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद उसने मेरी गांड में अपने लंड का सारा वीर्य झाड़ दिया और मेरा भी दो बार पानी निकल चुका था। फिर मुझे भी मज़ा आ गया था.. हम वैसे ही 10-15 मिनट उस घास पर लेटे रहे। उस समय वो मेरी पीठ चूम रहा था और मेरी चूत को हाथ से रगड़ रहा था।

दोस्तों मुझे बिलकुल भी पता नहीं था कि गांड मरवाने में इतना दर्द होता है में तो बस यही सोचती थी कि बस थोड़ा सा ही दर्द होता होगा लेकिन मुझे आ पता चल चुका था कि गांड मरवाना बच्चो का खेल नहीं है।

अब उसने मेरा मोबाईल लिया और फिर मेरी नंगी फोटोग्राफ खींचने लगा। फिर उसने मुझे कपड़े पहनने को कहा और मेरा मोबाईल मुझे दे दिया और फिर से मुझे चूमने लगा और मेरे बूब्स दबाने लगा और फिर उसने कहा कि चल में तुझे अपने ऑटो से तुझे तेरे घर पर छोड़ देता हूँ। तभी जब में उठी तो मुझे चलने में बहुत तकलीफ़ हो रही थी और मेरा गोरा चेहरा पूरा पूरा लाल था। फिर उसने मुझे अपनी बाहों का सहारा दिया और हम एक साथ चलने लगे, चलते चलते वो मेरी गांड पर सहारा दे रहा था और आज मुझे लग रहा था कि में एक प्रोफेशनल रंडी हूँ। फिर हम ऑटो में बैठ गये और फिर उसने मुझे मेरे घर पर छोड़ दिया। फिर मैंने उसे किस दिया और अपने घर आ गयी ।।

धन्यवाद …

Leave A Reply

Your email address will not be published.

16 Comments
  1. ritika says

    Nice see my website

  2. Rajesh says

    Love you,

  3. viraj says

    I m ready for fuck u

  4. Ajit singh says

    Kya mast khani he yar koi bhi femele who want sex call me

  5. Yogesh says

    Call me only gril 9672746978

  6. yogesh says

    Hamare saath bhi kar lo 9672746978

  7. valuedev says

    deva

  8. j k says

    Nice

  9. anu says

    9026626293

    1. Anonymous says

      Hi m Rahul.

    2. Anonymous says

      Hii

  10. anu says

    9026626293 coll me boy

    1. Anonymous says

      Chal makilodi

    2. manish kumar says

      Hye meri dost bnogi kya

      1. sonu singh says

        Yea

    3. Anonymous says

      To
      Hi