Home / आंटी की चुदाई / अनु आंटी की तृप्ति – Hindi Aunty ki Chudai kahani

अनु आंटी की तृप्ति – Hindi Aunty ki Chudai kahani

प्रेषक : देव
हाय फ्रेंडस कैसे हो आप लोग ? मुझे आशा है की आप बहुत इन्जॉय कर रहे होगे ये मेरी पहली स्टोरी है तो अगर कुछ गलती हो तो माफ़ कर देना तो मैं अब स्टोरी पर आता हूँ ये कहानी आज से 4 साल पहले की है हमने अपना घर शिफ्ट किया था तो हमें एक खाना बनाने वाली रखनी थी लेकिन हमें कोई अच्छी काम वाली नही मिल रही थी तभी हमारी ही सोसाइटी मे एक आंटी रहती थी उनकी घर की स्थिति खराब होने के कारण उन्होने हमारे यहाँ खाना बनाना शुरू कर दिया उनका नाम अनुराधा है वो 38 साल की एक खूबसूरत ओरत है वो थोड़ी मोटी है लेकिन किसी कयामत से कम नही लगती है बिल्कुल गोरी 36 के बूब्स, नशीली आखें मेरे पास शब्द नही हैं जब वो चलती है तो उनकी गांड ऐसे मटकती है जैसे समुंदर मे मछलियाँ गोते लगा रही हो खेर उन्हे काम करते करते 2-3 महीने हो गये थे.

मेरी परीक्षा ख़त्म होने की वजह से मैं घर पर ही रहता था और सब जॉब पर जाते थे फिर मैने नोटीस किया की वो टाइम से 30-40 मिनिट पहले जल्दी आने लगी हमारी ऐसे कोई ज़्यादा बात नही होती थी लेकिन उनकी शायद मेरे उपर नज़र थी इसलिये वो जब सब्जी काटती तब चुन्नी नही पहनती थी और उनके बूब्स के दर्शन हो जाते थे मैं भी ठीक दिखता हूँ इसलिये वो ज़्यादा आकर्षित हो रही थी मेरी हाइट 6.1″ मीडियम बॉडी है और रंग भी फेयर है फिर हमारी बातें बढ़ती गयी वो सब्जी काटती और मैं उनके गोरे गोरे बूब्स को निहारता रहता और बात करता रहता उपर से वो बात करते करते बड़ी ही कातिल स्माइल देती तो मेरे जिस्म मे तो आग ही लग जाती.

हमारी दोस्ती बढ़ती जा रही थी मैं फिर उन्हे खाना बनाने मे हेल्प भी करने लगा इस बहाने से में कभी कभी उन्हे छू लेता था कभी गर्दन पर कभी कमर पर उन्हे भी ये सब अच्छा लगता था दिन रात मैं उनके ख्यालो मे रहता था वो थी ही इतनी कातिल 24 घंटे यह सोचता था उन्हे बिस्तर पर कैसे लेकर जाऊं फिर मैने एक प्लान बनाया अगले दिन वो 1 घंटा पहले आ गई फिर वो सब्जी काट रही थी तभी मैने कहा आंटी आप वैसे तो मोटी नही लगती पर आपके हाथ काफ़ी मोटे हैं.

मजेदार कहानी:  मौसी की लड़की को गर्म करके चोदा

फिर वो बोली कहाँ से. मैने उनका हाथ बगल से थोड़ा नीचे से पकड़ा और बोला यहाँ से देखो उन्होने अपना हाथ सीधा कर लिया और दोस्तों मुझे पहली बार उनके बूब्स की कोमलता का पता पड़ा क्या बूब्स थे वो मुझमे तो आग सी लगा दी और बाकी का काम आंटी ने खुद कर दिया आंटी ने बोला तू मुझे उठा सकता है अगर मैं मोटी नही लगती तुझे मैने कहा बिल्कुल तो उन्होने कहा उठा कर दिखा मैने उन्हे गोद मे उठाया और मेरे हाथ उनकी गांड को संभाल रहे थे और मेरा फेस उनके बूब्स पर था ये ऐसा ही था जैसे दूध को गर्म होने के लिये रखो और उसमे उबाल की वजह से उफान आये.

मेरी हालत बहुत खराब हो रही थी और मेरा 6 इंच का लंड खड़ा हो गया था और जब आंटी को मैने उतारा तो उनकी बॉडी मेरे लंड पर घिसती चली गयी उन्हे भी ये सब अच्छा लगा और उन्होने कमेंट किया “देव तुझमे तो बहुत जान है” मैने कहा “आंटी जान तो अभी आपने देखी कहाँ है” उन्होने बहुत की कातिलाना स्माईल की तभी मम्मी आ गई मेरा मूड ऑफ हो गया मम्मी जब चेंज करने गयी तब मैं थोड़ा उदास सा था आंटी ने मेरी हालत समझी और मेरे लोवर मे बने टेंट को भी देख लिया और फिर बड़े प्यार से फ्लाइंग किस दी मैने फिर इशारे मे कहा की गाल पर दो तो उन्होने बुलाया मैं किचन मे गया और उन्होने मेरे गाल पर बहुत ही स्वीट सी किस दी मेरा वो पूरा दिन मानो सदियों की तरह बीता रात को भी नींद नही आई बस ख्यालो मे अनु आंटी उनके बूब्स,उनकी सिसकारियाँ,वो किस और वो मेरा लंड उनकी बॉडी पर घिसना सदियों का इंतज़ार आख़िर ख़त्म हुआ और अनु आई बोली की वेट कर रहा था क्या? मैने कहा हाँ जी.
अनु : तेरे इरादे अच्छे नही लग रहे और हँसी.
मैं : आपने ही आग लगाई है आप ही अब ठंडा करोगी.
अनु : अच्छा कल मुँह क्यों बनाकर बैठ गया था? किस दी थी ना?
मैं : हाँ जी उस किस ने तो और बात बिगाड़ दी.
अनु : अच्छा बता क्या चाहिये?
मैं : मुझे लिप किस चाहिये.

मजेदार कहानी:  मामी और उनकी नौकरानी- Mami aur unki naukrani

तभी मैने अनु को पकड़ा और उनके होठों पर अपने होठ रख दिये फिर वो किस स्मूच मे होता बदल गया था फिर मैने अपनी जीभ उनके मुँह मे डाल दी और फिर हमारी जीभ टकराई ठीक वैसे जैसे लहरें चट्टानों से टकराती हैं मैं साथ साथ उनके बूब्स दबा रहा था उससे उनमे और उत्तेजना बड़ गयी और वो मेरा साथ देने लगी फिर मैने कहा आप बहुत सेक्सी हो वो बोली देव आहह अभी ये बातें छोड़ बस करते रहो उूउऊहह उनकी ऐसी बातों ने तो जैसे बारूद मे आग लगा दी हम दोनो वाइल्ड होते चले गये मैने उनके बाल पकड़ कर उनके लिप्स, नेक क्लीवेज पर लिक किया वो और उत्तेजित हो गई और मुझे जोर से पकड़ कर और तड़प कर कहा देव आई लव यू मुँह से तो बहुत अच्छे से करता है मैने तुरंत उनका सूट-सलवार दोनो निकाल दिये अब वो ब्रा पेंटी मे थी.

फिर उन्होने कंसते हुये मेरे भी कपड़े निकाल दिये और मैं भी अब अंडरवेयर मे था फिर हम एक दूसरे के जिस्म की गर्मी को बढ़ा रहे थे मैने उनकी ब्रा उतारी और उनके निपल्स को पकड़ के ज़ोर से दबाया हह्ह्ह्ह देव क्या कर रहा है म्ह उउफ़फ्फ़ जान निकालेगा क्या? फिर मैने उनके बूब्स को बुरी तरह मसला आअहह ऊउउच्च देव प्लीज़ मत तडपा मुझे मैने फिर उनकी पेंटी निकाल दी और मेरी आखें फटी की फटी रह गयी उनकी चूत एकदम गोरी बिल्कुल क्लीन मेरा भी अब कंट्रोल छूट गया था और मैने उनकी चूत पर मुँह रख दिया और पागलों की तरह चाटने लगा क्या ख़ूशबू थी क्या आनंद आ रहा था मुझे उन्होने कंसते हुये उूउऊहह आह आहहस्सिईईईई अपनी टांगे मेरे सिर पर जोड़ दी और जब वो झड़ने वाली थी उनकी गतिविधियाँ तेज़ होने लगी वो गांड उठा उठा कर मज़े लेने लगी देव आअहह कैसे करता है आज तक ऐसा मज़ा नही आया मुझे आअहह ससिईईई उनकी आवाज़ मे उतार चढ़ाव आ रहे थे.

तभी वो झड़ गयी आहह और सारा रस मेरे मुँह मे आ गया मैने सब चाट लिया फिर मैने कहा अब मेरा भी कुछ करो उन्होने बोला अभी लो डार्लिंग उन्होने मेरा अंडरवेयर उतारा और मेरे लंड को बुरी तरह चाटने लगी. वो पूरा लंड मुँह मे लेती फिर निकालती फिर चूसती फिर चाटती ग़ज़ब का मजा दिया उन्होने टाइम काफ़ी हो गया था और मम्मी आने वाली थी अनु बोली देव जल्दी से कर दे नही तो आज में जी नही पाऊँगी मैने उन्हे गोद मे उठाया बेड पर पटका और अपना लंड उनकी चूत मे डालने लगा लेकिन परेशानी हो रही थी मैने कहा ये जा क्यों नही रहा उन्होने कहा 2 साल से 1 बार भी नही चुदी हूँ.

मजेदार कहानी:  सुशीला आंटी की गांड ठोकी

मैने थोड़ा दम लगाया और मेरा आधा लंड उनकी चूत मे आहह आहह ओह सस्सिईईई थोड़ी देर ऐसे ही रह कर मैने धक्के मारना स्टार्ट किया आह देव तेज़ करो अहह और तेज़ और आज पहली बार सेक्स मे इतना मज़ा आ रहा है फिर मैने उन्हे गोद मे उठा कर चोदना स्टार्ट किया और अनु ने मुझे बहुत ज़्यादा टाइट्ली हग कर लिया ह आअहह उहह आअहह फिर मैने उनकी हाफ बॉडी बेड पर पटक दी और उनकी जांघें मेरे हाथ मे और मैने बहुत ज़बरदस्त धक्के मारे फिर अनु बस अपनी गर्दन के उपर टिकी हुई बाकी बॉडी उठी हुई थी हम झड़ने वाले थे.
मेरी स्पीड बहुत भयंकर हो गयी थी और अनु की गांड इंजन के पिस्टन की तरह उपर नीचे हो रही थी आहह देव आहह आहह उऊहह अनु मेरी जान हह्ह्ह्ह अया देव जल्दी मेरा होने वाला है मेरा भी होने वाला है अनु अया आहह अयाया उहह ऊऊहह ससिईईई सस्सिईइ आआआः बारूद फट गया हम दोनो साथ मे झड़ गये फिर हमने जल्दी से कपड़े पहने और घर को नॉर्मल कंडीशन मे कर दिया। आशा है दोस्तों आपको यह कहानी पसंद आई होगी …

धन्यवाद …

loading...

One comment