Antarvasna Kahniyan, Kamukta, Desi Chudai Kahani
loading...

आमिर लड़की की मदद की और चुत मिल गयी

Hello दोस्तो। मेरा नाम रवि है, amir ladki ki chudai chut ki. मै मुम्बई मे रहता हू। मेरी हाइट 5.4 है। मै मुम्बई मे कॉलेज का स्टूडेंट हूँ।
आज मै आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहा हूँ। जो कि पूरी तरह से सच्ची है।

हम 4 स्टूडेंट थे और हमारे कॉलेज की छुट्टियाँ चल रही थीं। तो हमने डिसाईड किया कि हम घर नहीं जायेंगे। हम यहीं पुणे मे रहेंगे और एन्जॉय करेंगे।
हम सभी पुणे मे ही रुक गए। हमे कुल 15 दिन की छुट्टी मिली थी। हमे ये दिन पूरी तरह से एन्जॉय करना था।

हम सब एक दिन घूमने गए और हम थोड़ा बहुत घूमने के बाद एक होटल मे बैठ गए और हमने वहाँ खाना खाया। उस होटल मे खाने के साथ बहुत मजे भी किए।

खाना खाने के बाद बाहर आए। तो हम मेन रोड के साईड मे थे। तो मेरे एक दोस्त को लॉटरी की शॉप दिख गई। जो कि ऑन:-लाईन गोल्डन लॉटरी थी और हम पैसे कमाने का सोच कर लॉटरी शॉप मे चले गए। वहाँ टाईम कैसे निकल जाता था। पता ही नहीं चलता था। उसके पास मे सिनेमा घर था। तो बीच मे हम वहाँ भी चले जाते थे।

जब मै लॉटरी की शॉप के बाहर खड़ा था। तो वहाँ एक पुलिस वाला कार को लॉक लगा रहा था। क्योंकि वो गाड़ी नो:-पार्किंग एरिया मे खड़ी हुई थी और मै उस गाड़ी के पास ही खड़ा था।

थोड़ी देर बाद वहाँ एक औरत आई। उसके साथ एक 6 साल का लड़का भी था। क्या औरत थी यार। कमाल की माल किस्म की लुगाई थी। उसने जींस पैन्ट और कुरती जैसा टॉप पहना हुआ था। उसके कपड़े स्किन टाईट थे। जिससे उसकी गाँड बाहर निकली हुई दिख रही थी। उसके मम्मे इतने बड़े थे कि मन कर रहा था कि बस अभी नजदीक जाकर साली के मम्मों को पूरी तरह से मसल दूँ।

वो बहुत गोरी थी और ऐसा लग रहा था कि वो किसी हाई प्रोफाईल अमीर फैमिली से हो। फिर जैसे ही वो गाड़ी के पास आई। तो उसने देखा कि उसकी गाड़ी को लॉक लगा हुआ है।

‘हैल्लो। ये लॉक किसने लगाया?’

उस औरत ने मुझसे पूछा। मै खुद को लकी महसूस कर रहा था कि उसने मुझसे पूछा।
मैने उनसे कहा:- मैडम वो पुलिस वाले आए थे। आपकी गाड़ी नो पार्किंग एरिया मे थी तो वे इसे लॉक लगा गए।

वो घबरा गई और उसके चेहरे पर घबराहट साफ नज़र आ रही थी।
तो मैने उनसे कहा:- घबराओ मत। वहाँ एक पुलिस वाला है। उससे पूछो।
वो अपने लड़के के साथ उस पुलिस वाले से पूछने चली गई।

जब पुलिस की गाड़ी पर मेरी नज़र गई। तो मैने मैडम को आवाज़ लगाई और उनके पीछे चला गया और मैडम से बोला:- वो पुलिस की गाड़ी वहाँ है।
वो गाड़ी निकलने ही वाली थी कि मै तुरंत उसके पीछे भागा और उस गाड़ी को रुकवाया और पुलिस से बोला:- उस गाड़ी को लॉक लगा हुआ है प्लीज। उसे खोलो।

जब तक वो मैडम अपने बच्चे को लेकर उस गाड़ी के पास आ गई थी। फिर पुलिस वाले ने उस मैडम को गाड़ी मे बैठने को कहा। मैडम बैठ गई और फिर उसने मुझे भी बैठने को कहा। क्योंकि मै भागकर बहुत थक गया था।

हम गाड़ी मे बैठ गए। मै मैडम के बगल मे बैठ गया। उसकी बॉडी मुझसे टच हो रही थी। मुझे उसकी बॉडी का नर्म एहसास हो रहा था। गाडी मे जगह कम होने की वजह से उसकी जींस पैन्ट मे से उसकी गाँड बाहर को निकली पड़ रही थी। उसकी पैन्ट के एक साईड से उसकी ‘जी:-स्ट्रिंग’ पैन्टी पहनी हुई साफ दिख रही थी। वाह। क्या मस्त नजारा था।

हम फिर उस मैडम की गाड़ी के पास आ गए। पुलिस वाले ने वो लॉक खोल दिया और पुलिस ने उससे 1000 रुपये जुर्माना माँगा। तो मैडम ने मुझसे बोला:- बहुत ज्यादा है। प्लीज कुछ कम करवाओ।

मैने पुलिस से बोला:- सर। मैडम दवाई लेने गई थीं। उनके पति बीमार हैं। मैने झूठ बोल दिया था।
‘हाँ जी। प्लीज़।।’ मैडम ने भी मेरी हाँ मे हाँ मिलाई।
तो पुलिस भी मान गई और उसने छोड़ दिया। अब मैडम रिलेक्स तो हो गई थी।

‘थैंक्स। आप नहीं होते तो शायद मुझे यहाँ बहुत इंतजार करना पड़ता।’
‘अरे। इट्स ओके। थैंक्स किस बात की। ये तो मेरा फ़र्ज़ था और आपकी जगह कोई भी होता। तो भी मै यही करता।’

मैने उनसे ऐसा कहा तो वो खुश हो गई। फिर उसने पार्किंग एरिया मे गाड़ी लगाई और वो चूंकि मॉल मे शॉपिंग के लिए जा रही थी। जैसे ही मै जाने लगा तो उसने मुझे आवाज़ दी:- ‍‌हैल्लो।
मै पलटा और देखा कि वो मैडम मुझे आवाज़ लगा रही है।

मै उनके पास गया और पूछा:- हाँ मैडम अब क्या काम है?

तो उसने बोला:- क्या हर बार काम ही रहेगा क्या?

मै कुछ समझा नहीं था कि वो क्या बोलने जा रही है।
फिर उसने बोला:- क्या तुम मेरे साथ शॉपिंग करने चलोगे?

मेरे मन मे लड्डू फूटने लग गए और मैने ‘हाँ’ कर दिया। उसके साथ उसका लड़का था। तो वो मुझसे खुलकर बातें नहीं कर सकती थी। उसने मुझसे मेरा नाम पूछा। फिर मैने मेरा नाम बताया और मेरे पूछने पर उसने अपना नाम सरिता बताया।

हम एक शोरुम मे गए। उसको वहाँ से जींस लेनी थी। फिर हम जींस देखने लग गए। वहाँ शॉप का एक वर्कर आया और उसने हमसे कहा:- क्या मै कोई हेल्प करूँ।?
मैडम ने उससे कहा:- नहीं। हम जींस पैन्ट लेने आए है। हम ही पसंद कर लेंगे।

वो चला गया और हम जींस पैन्ट देखने लगे। मैडम ने कुछ पैन्ट देखी।
उसने मुझसे कहा:- संदेश, यह जींस कैसी है?
तो मैने कहा:- अच्छी है। आपको आ जाएगी।
‘हम्म।’
फिर मैने उनसे कहा:- आपकी साईज़ क्या है?
उसने मुझसे कहा:- 38 है।

तो मेरे मुँह से एकदम से निकल गया:- वाह क्या साईज है। हाँ ये बिल्कुल ठीक रहेगी और फिट आ जाएगी।
वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा दी।
फिर हम जींस पैन्ट लेकर बाहर आ गए। हमने कुछ आईसक्रीम और कोल्ड ड्रिंक पी… जिसका बिल उसने ही दिया था।
फिर हम पार्किंग मे चले गए। उसने मुझे फिर से ‘थैंक्स’ कहा।
मैने उससे पूछा:- मैडम। क्या हम दोस्त बन सकते हैं?

उसने मुझसे कहा:- अरे यार ये भी कोई पूछने की बात है। हम पहले से ही दोस्त हैं।
हमने हमारे मोबाइल नम्बर एक्सचेंज किए।
उसने बोला:- मै आपको कॉल करूँगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.