loading...

आखिर चूत मिल ही गई

प्रेषक : राज

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम राज है मेरी उम्र 24 साल की है। दोस्तों मेरी हाईट 5’10 इंच है और मेरा लंड 7 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा है और दोस्तों में दिखने में हेंडसम हूँ। में कामुकता डॉट कॉम का बहुत बड़ा फैन हूँ लेकिन दोस्तों ये मेरी पहली स्टोरी है। आज में आपको एक ऐसी चुदाई के बारे में बताने जा रहा हूँ.. जिसे पड़कर लंड के राजाओ का लंड एकदम टाईट और चूत की रानीयों की चूत गीली हो जाएगी। तो दोस्तों में समय बर्बाद न करके सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ।

दोस्तों ये कहानी 2 साल पहले की है जब में अपनी कज़िन सिस्टर की शादी में गाँव गया था। में वहाँ पर अपनी फेमिली के साथ शादी के 4 दिन पहले ही पहुँच गया था। में वहाँ पर सबसे मिला और कुछ टाईम के बाद में सब से घुल मिल गया और इस तरह वो एक दिन निकल गया। फिर दूसरे दिन एक फेमिली आई उसमें एक लड़की थी जिसे में देखता ही रह गया। वो बहुत गोरी थी और उसका बहुत मस्त फिगर था। उसने टीशर्ट और जीन्स पहनी थी। टीशर्ट में उसके बूब्स मस्त सेक्सी लग रहे थे। बिल्कुल टाईट जैसे अभी बाहर आ जाएँगे। फिर वो जब चल कर आगे गई तो उसकी गांड देखी तो में उसका दीवाना हो गया और फिर मैंने सोच लिया कि मुझे कैसे भी इसकी तो गांड मारनी ही है।

अरे माफ़ करना दोस्तों.. में तो आप सभी को उसका फिगर और अपने लंड का साईज़ बताना ही भूल गया। दोस्तों उसकी उम्र 22 साल की है और फिगर 32-28-36 था और वो दिखने में एकदम सेक्सी लगती है उसकी गांड। जब वो चलती है तो पूरी की पूरी महफिल को अपनी तरफ देखने पर मजबूर कर देती है। उसके दोनों बूब्स एकदम बड़े बड़े सुडोल है। उसकी टाईट जिन्स से उसकी चूत का उभार साफ साफ दिख रहा था। दोस्तों अब में उससे बात करने का मौका खोज रहा था। फिर शाम को मुझे भूख लगी तो घर पर में खाने को कुछ ढूंड रहा था। इतने में वो लड़की आई और फिर वो बोली कि क्या खोज रहे हो? फिर में उसे देखता रह गया। में बिलकुल भूल गया कि में क्या करने आया था। फिर उसने बोला कि हैल्लो.. तभी में अचानक बोला कि कुछ खाने को ढूंढ रहा हूँ। तभी उसने बोला कि रूको में लेकर आती हूँ। तभी मेरी ख़ुशी का तो ठिकाना नहीं था। फिर वो मेरे लिए नमकीन और रसगुल्ला लेकर आई जो शादी में अक्सर बनाया जाता और फिर मैंने उसे धन्यवाद दिया।

फिर मैंने उसका नाम पूछा? तो उसने कहा कि मेरा कामिनी है उसका नाम सुनते ही में सोचने लगा कि राज की काम वासना को पूरा करने आई है कामिनी। तभी वो जाने लगी तो मैंने बोला कि दो मिनट रुको मुझे कुछ बात करनी है। तभी वो बोली अभी मुझे काम है बाद में बात करेंगे। फिर में बोला कि ठीक है और वो चली गई। फिर 1-2 घंटे  बाद वो आई और बोली कि क्या बात है। तभी मैंने कहा कि दो मिनट बैठो तो और फिर में उसे देखने लगा। तभी उसने कहा कि क्या देख रहे हो? फिर मैंने उससे पूछा कि क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है? फिर वो थोड़ा हिचकिचाई और फिर बोली कि ये क्या पूछ रहे हो? तभी मैंने कहा कि शरमा क्यों रही हो.. तो उसने कहा कि नहीं कोई भी नहीं है। तभी मैंने कहा कि क्या तुम मुझसे दोस्ती करोगी? फिर वो बोली कि में सोच कर बताउंगी। तभी मैंने कहा कि में दोस्ती करने के लिए बोल रहा हूँ.. शादी के लिये नहीं बोल रहा हूँ और तभी वो स्माईल देकर चली गई। फिर रात में नाच गाना चल रहा था जो शादी के माहोल में अक्सर होता है। फिर में और वो अलग अलग बैठ कर देख रहे थे की तभी नाचती हुई एक लड़की ने उसका हाथ खींचकर उसको भी नाचने के लिए कहा कुछ देर मना करने के बाद वो भी नाचने लगी। उसका डॅन्स बहुत अच्छा था। फिर ज़्यादा रात हो गई तो मुझे नींद आने लगी और में वहाँ से उठकर जाने लगा और फिर सब जगह देखा कहीं पर जगह नहीं थी। तभी वो आई और मेरा हाथ पकड़ कर बोली कि ऊपर चलो नीचे बिल्कुल जगह नहीं है। फिर में उसके साथ चल गया और देखा कि छत पर कॉर्नर में थोड़ी सी जगह है। तभी हम दोनों वहाँ पर जाकर बैठ गई और बातें करने लगे।

मजेदार कहानी:  मम्मी की फ्रेंड को उनके घर में चोदा

फिर उसे नींद आने लगी तो वो बोली कि अब लेट जाओ बाकि बातें सुबह करते है। फिर में भी उसी के पास में लेट गया और हम दोनों एक दुसरे से मुहं घुमाकर लेटे थे लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी। फिर मैंने कुछ देर के बाद उसकी तरफ मुहं कर लिया और सोने का नाटक करते हुए अपना हाथ उसके ऊपर रख दिया। तभी उसकी तरफ से कोई हलचल नहीं हुई। तभी मैंने सोचा कि वो सो गई है फिर में अपना एक हाथ धीरे धीरे उसकी गांड तक ले आया और उसकी गांड पर अपना हाथ फैरने लगा और फिर मुझे ऐसा मज़ा आ रहा था की बस उसी समय उसकी गांड मार दूं। लेकिन कंट्रोल करके थोड़ा रुका और अपना लंड निकाल लिया जो कि बहुत ही टाईट हो चुका था.. उसकी गांड में उसकी सलवार के ऊपर से ही रगड़ने लगा.. बड़ा मस्त लग रहा था।

फिर में उसकी बॉडी से पूरा चिपक गया और फिर उसकी बॉडी की खुशबू मुझे दीवाना बना रही थी और फिर में रुक नहीं सकता था। तभी मैंने अपना हाथ बड़ाकर उसके बूब्स को पकड़ने के लिए आगे किया। तभी उसमे कुछ हलचल हुई और तभी मैंने अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा लिया और अपना लंड पाजामे के अंदर किया और कुछ देर ऐसे ही लेटे रहने के बाद पता नहीं कब में सो गया। फिर जब सुबह उठा तो में वहाँ से जल्दी चला गया.. क्योंकि वहाँ पर सभी लेडीस थी और फिर जब मैंने कामिनी को देखा तो वो मुझे देखकर मुस्कुरा रही थी।

में कुछ समझा नहीं था। तभी कुछ देर के बाद मैंने उससे पूछा कि तुम मुझे देखकर हंस क्यों रही हो? तभी वो बोली कि क्यों रात में नींद अच्छी आई ना? तभी में समझ गया कि मैंने रात में जो उसके साथ किया उसे सब पता है। फिर मेरे अंदर का डर अब खत्म हो गया था.. तभी मैंने उसी समय टाईम खराब ना करते हुए उसे कहा कि.. में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ। तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो। फिर वो शरमा कर वहाँ से चली गई और जाते जाते वो मुस्करा रही थी। फिर में समझ गया कि लड़की हंसी तो फंसी। फिर में उसे चोदने का प्लान बनाने लगा। फिर मुझे याद आया कि छत पर एक छोटा सा रूम है तो फिर में वहाँ पर गया और खोलकर देखा तो उसके अंदर बहुत सारा सामान पड़ा था जिसमे एक बेड भी था और उस पर भी थोड़ा सा सामान रखा था। तभी मैंने बेड से सामान हटाया और अलग जगह पर रख दिया और फिर रूम को थोड़ा साफ किया। फिर बेड पर एक गद्दा और बेड शीट बिछाकर रूम लॉक करके चला गया।

फिर में रात होने का इंतजार करने लगा फिर कुछ देर के बाद वो आई और मुझे छत पर ले गई और फिर मुझे उसने कहा कि में भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ। तभी में बहुत खुश हो गया.. हम दोनों के चहरे इतने पास थे कि दोनों की सांसे एक दूसरे को महसूस हो रही थी। फिर मैंने उसके होंठो पर किस कर दिया। उसके होंठ बहुत मुलायम थे.. लेकिन वो कुछ नहीं बोली और तभी उसने अपनी आँख बंद कर ली मुझे तो अब ग्रीन सिग्नल मिल गया और फिर से मैंने अपने होंठ उसके होंठो पर रख कर उसे किस करने लगा। फिर धीरे धीरे हम एक दूसरे को फ्रेंच किस करने लगे। में अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर ले जाकर दोनों बूब्स को दबा रहा था। क्या मुलायम बूब्स थे उसके। तभी में कुछ देर के बाद उसके बूब्स को बहुत ज़ोर से दबाने लगा। फिर वो एकदम से दूर हो गई और बोली कि कोई आ जाएगा तो? आप मुझे अभी छोड़ो.. प्लीज ये सब बाद में और वो चली गई। फिर जब भी हमे मौका मिलता हम एक दूसरे को किस कर लेते। फिर रात हो गई और फिर वही नाच गाना हुआ और सब सोने के लिए जाने लगे। तभी मैंने उसे ऊपर आने का इशारा किया.. फिर वो जल्दी से आ गाई और हम चुपके से उस रूम में चले गये। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे हो।

मजेदार कहानी:  जयपुर वाली साली बनी घरवाली - 2

तभी उसने रूम में आते ही कहा कि यहाँ तो बहुत सामान बिखरा पड़ा था। तभी मैंने उसे कहा कि वो सब मैंने साईड में करके ये बेड लगाया है। तभी उसने कहा कि क्या इरादा है? फिर मैंने कहा कि कुछ भी नहीं है और उसे पकड़ कर किस करने लगा। वो भी अब मेरा साथ दे रही थी। फिर में और वो एक दूसरे की जीभ चूस रहे थे और में ज़ोर ज़ोर से उसके दोनों बूब्स दबाने में लगा हुआ था और तभी उसकी साँस और तेज़ होने लगी फिर मैंने 15 मिनट किस किया और फिर उसको गले पर और कान पर किस करने लगा.. वो पागलो की तरह मचल रही थी। वो अब पूरी तरह गरम हो चुकी थी और तभी एक हाथ से मैंने उसके हाथ को पकड़ा और अपने पाजामे के अंदर अपने लंड पर रख दिया।

फिर उससे लंड हिलवाने लगा और फिर वो धीरे धीरे हिलाने लगी। तभी मैंने उसकी टीशर्ट और लोवर निकाल दी उसने अंदर सफेद ब्रा और काली पेंटी पहनी हुई थी। तभी मैंने एक एक करके उसकी ब्रा और पेंटी भी उतार दी और फिर बूब्स आँखों के सामने आते ही मुझसे अब रुका नहीं गया और में उसके बूब्स पर भूखे जानवर की तरह टूट पड़ा और फिर उसके निप्पल काटने लगा। वो अब मदहोश होती जा रही थी। तभी उसके मुहं से बस आअहह ईईईईइ मरी में.. छोड़ दो मुझे आअहह मेरे मालिक.. की आवाजें आ रही थी। फिर में धीरे धीरे नीचे आया फिर उसके पेट और चूत पर किस किया और अपने दोनों पैर उसके पैरों में डाल दिये। तभी उसके मुहं से गजब की आवाज़ निकल रही थी आअहह उूउउम्म्म्म चोदो मुझे प्लीज जल्दी में मरी। अब वो और भी ज्यादा उत्तेजित हो गयी थी।

अब में और नीचे आया और अपनी जीभ उसकी चूत के ऊपर से ही घुमाई और फिर धीरे धीरे से चूत को दोनों हाथों से खोल दिया। उसकी चूत में से थोड़ा पानी निकला और पूरा पानी मैंने अपनी जीभ से चाट कर साफ कर दिया। फिर उसने मुझे ऊपर उठाया और फिर मेरी टी-शर्ट, पाजामा और अंडरवियर भी खोल दी और मेरा 7 इंच का लंड बाहर आते ही ऐसा लग रहा था कि जैसे उसे सलामी दे रहा हो। फिर मैंने उसे नीचे बैठाया और फिर उसे मेरा लंड अपने मुहं में लेने को कहा लेकिन उसने मना कर दिया और फिर मेरे बहुत समझाने पर वो मान गई और लंड को थोड़ा सा मुहं में लेकर बाहर निकाल दिया। तभी वो बोली यह सब मुझसे नहीं होगा। फिर में बोला होगा.. तुम फिर से ट्राई करो इस बार उसने 1-2 मिनट लंड को अपने मुहं में लेकर रखा। तभी मैंने अपने दोनों हाथों से उसके बाल पकड़े और उसके सर को आगे पीछे करने लगा मानो तभी मुझे तो जैसे जन्नत मिल गई हो और फिर एक अजीब सा करंट दौड़ रहा था पूरे शरीर में। अब उसे भी अच्छा लग रहा था।

मजेदार कहानी:  मोनिका की गजब चुदाई

फिर वो बहुत मज़े से लिलिपोप की तरह मेरे लंड को चूस रही थी जैसे उसको इसका पहले से ही अनुभव हो और फिर 15-20 मिनट बाद में उसके मुहं में झड़ गया। तभी उसने मेरा सारा का सारा वीर्य पी लिया और फिर उसने मेरे लंड को चाट चाट कर साफ कर दिया। फिर में उसको बेड पर ले गया और हम 69 की पोज़िशन में एक दूसरे पर लेट गये और वो मेरे लंड को बहुत प्यार से जोर जोर से खींच खींच कर चूस रही थी। तभी में भी उसकी चूत पर अपनी जीभ घुमा रहा था। तभी मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी चूत का मुहं खोलकर उसमे अपनी जीभ डाली तो वो उछल पड़ी और पागलो की तरह मेरे लंड को चूसने लगी। उसकी चूत का छेद बहुत छोटा था वो वर्जिन थी।

तभी मैंने चूत के साथ साथ उसकी गांड के होल में अपनी उंगली डाल दी फिर से वो उछल पड़ी उसका छेद बहुत टाईट था जिससे कि बहुत मुश्किल से उंगली अंदर गई और फिर में उंगली को अंदर बाहर करने लगा। जिससे कि उसे पहले थोड़ा दर्द हुआ लेकिन थोड़ी देर में उसे बहुत मज़ा आने लगा। तभी उसने मेरे लंड को चूस चूस कर फिर से टाईट कर दिया और फिर कहा कि अब रहा नहीं जा रहा है प्लीज अब डाल दो मेरी चूत में अपना लंड और फाड़ दो इसे। तभी उसके मुहं से ऐसी बात सुनकर मुझे जोश आ गया और फिर मैंने सीधा होकर उसकी तरफ देखा तो वो आँख बंद किए हुए अपने होठों को दांतों से दबा रही थी। फिर मैंने उसे किस किया उसके बूब्स चूसे और अपना लंड उसकी चूत के मुहं पर लगा दिया और फिर चूत पर रगड़ने लगा। तभी उसके मुहं से आअहह उउउंम्म की आवाज़ आने लगी। और फिर मैंने देर ना करते हुए अपने लंड पर थोड़ा सा थूक लगाया और उसकी चूत में डालने लगा उसकी चूत गीली थी फिर भी बहुत मुश्कील से मेरे लंड का टोपा अंदर ही गया था कि उसके मुहं से आवाज़ आ गई और वो बोल रही थी कि निकालो इसे बहुत दर्द हो रहा है।

फिर में कुछ किये बिना उसके ऊपर ही लेटा रहा और अपने होंठ उसके होंठो पर रख दिये ताकि उसकी आवाज़ ना निकले सके और फिर कुछ देर रुकने के बाद मैंने एक झटके में अपना आधा लंड उसकी चूत में डाल दिया जिससे कि उसकी आँखों से आंसू आ गये और फिर में बिना रुके हुए अपना लंड उसकी चूत में जोर जोर से आगे पीछे करने लगा। तभी कुछ देर बाद वो भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी। तभी मुझे और जोश आ गया और में ज़ोर ज़ोर के धक्के मारने लगा। तभी मैंने देखा कि मौका अच्छा है और फिर मैंने पूरा लंड डाल दिया और उसकी चूत से खून निकलने लगा और वो छटपटाने लगी और फिर में अपना लंड बिना रोके आगे पीछे किए जा रहा था। वो एक बार झड़ चुकी थी.. जिससे मेरा लंड उसकी चूत में गीला होने से बड़ी आसानी से जा रहा था और पूरे रूम में मस्त फच फच की आवाज़ आने लगी थी और वो उूउउंम आह की आवाज़ निकालने लगी। फिर लगभग आधे घंटे की चुदाई के बाद में भी झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर उसके मुहं में दे दिया और 10-12 धक्को के बाद में उसके मुहं में ही झड़ गया। फिर से उसने मेरा पूरा पानी पी लिया और मेरे लंड को चाट चाटकर साफ कर दिया। हम दोनों बेड पर एक दूसरे से चिपक कर लेट गये और उस रात मैंने उसे 2 बार और चोदा ।।

धन्यवाद …