Home / कॉलेज सेक्स / मुहं में लूँ क्या

मुहं में लूँ क्या

प्रेषक : आर्यन

हैल्लो दोस्तों में आर्यन, यहाँ आने वाले सभी सेक्स प्रेमियों को मेरा नमस्कार। में बहुत टाईम से यहाँ लिखी गयी कहानियों को पढ़ रहा हूँ और सच बताऊँ तो उनमे से ज़्यादातर कहानियां लंड खड़ा करने वाली होती है। में कभी कभी तो कहानियां पढ़कर मुठ भी मारता हूँ। यह कहानी जो में लिखने जा रहा हूँ इस पर ये मेरी पहली कहानी होगी। में आशा करता हूं की आप सभी लोगों को यह कहानी ज़रूर पसंद आएगी। दोस्तों यह मेरी लाईफ की एक सच्ची स्टोरी है।

मेरी उम्र 21 साल है और स्लिम बॉडी हाईट 6 फिट में दिखने मे बहुत अच्छा लगता हूँ। मैंने अपना लंड बाकी लोगों की तरह कभी नापकर तो नहीं देखा है लेकिन फिर भी में ये बात यकीन के साथ कह सकता हूँ कि मेरा लंड किसी भी प्यासे की प्यास मिटा सकता है।

दोस्तों बात अभी कुछ ही दिन पहले की है। में दिल्ली के पास ही गुडगाँव में रहता हूँ और पढ़ाई कर रहा हूँ। उस दिन में कॉलेज से घर आते ही टीवी देखने लग गया। में बहुत थका हुआ था तो ऐ.सी. की ठंडी हवा में पता ही नहीं चला कि मेरी आंख कब लग गयी। तभी कुछ देर बाद अचानक फोन के कम्पन से मेरी आंख खुल गयी कोई अपरिचित नंबर था। तो मैंने ध्यान ना देते हुए सोने का फ़ैसला किया लेकिन कॉल्स आने बंद नहीं हुए। काफ़ी कॉल्स आने के बाद मैंने सोचा कि देखा जाए कि कौन है। जैसे ही मैंने फोन उठाया तो दूसरी तरफ से एक लड़की की आवाज आई। तभी मैंने पूछा कि आप कौन हो तो उसने कहा कि कोई भी समझ लो में सिर्फ़ फोन फ्रेंड हूँ।

फिर धीरे धीरे हम कई दिनों तक बात करने लगे। लेकिन मुझे अब शक़ था कि वो मेरे पड़ोस में रहने वाली एक लड़की थी। उसकी अभी कुछ समय पहले ही शादी हुई है। फिर एक दिन बात करते करते उसने कहा कि आज बड़े अच्छे लग रहे थे। उसकी यह बात सुनकर तो मुझे पक्का यकीन हो गया था कि वो वही लड़की थी जिसके बारे मे मैंने सोचा था। बातों बातों मे में आप लोगो को उसके बारे में बताना भूल गया। दोस्तों उसकी उम्र 24 है और हाईट कारीब 5’8 की है। वो एकदम दूध की तरह गौरी है, 32-29-38 उसकी साईज है और 29 के बूब्स जो हमेश सूट में से बाहर निकलने की कोशिश करते रहते है। कई बार साड़ी में जब मैंने उसे देखा था तो हम सब दोस्त मिलकर उसे चोदने के सपने देखकर बातें किया करते थे। कितने ही लोग उसे देखकर अपने घर जाकर मुठ मारते होंगे। उसे चोदने की इच्छा हमेशा से ही मेरे मन में थी। तो जब मुझे पता चल गया था कि वो कौन थी। में एक दिन उसके घर पर बुक वापस करने के बहाने से गया। में उससे पहली बार मिल रहा था तो में बहुत उत्साहित हो रहा था।

तभी में उसके घर गया तो पता चला कि वहाँ कोई भी नहीं था। फिर उसने मुझे अंदर बुला लिया। उसने कहा कि अभी एक घंटा है उसके पति को आने मे तो फिर उसने मुझे बैठने को कहा और फिर किचन से पीने को पानी लाकर दिया। फिर हम दोनों बैठकर बातें करने लगे। वो मुझसे आंखे मिलाकर बात कर रही थी। मुझे ये मालूम पड़ चुका था कि वो फोन उसी ने किया है। तभी धीरे से हिम्मत करके मैंने उसका हाथ पकड़ लिया लेकिन उसने मुझे कुछ भी नहीं कहा अब मेरी हिम्मत और बड़ चुकी थी और फिर में उसके हाथ को सहलाने लगा उसे अच्छा लग रहा था शायद, क्योंकि उसने अपना हाथ नहीं हटाया। में मन ही मन खुश हो रहा था। में जिसे हमेशा चोदने के सपने देखा करता था। जिसके बारे में सोच सोचकर मुठ मारता रहता था। वो आज मेरे बिलकुल पास में बैठी थी। तभी मैंने उसे गाल पर किस किया तो उसने अपनी दोनों आंखे बंद कर ली। फिर मैंने उसे लिप पर किस किया वो मुझे सपोर्ट कर रही थी। फिर उसने अपनी जीभ मेरे मुहं में डाल दी और हम बेड पर लेट गये। फिर बहुत देर किस करने के बाद मुझे इतना मज़ा आ रहा था कि शब्दो में नहीं बता सकता। फिर में वहाँ से उठकर आ गया अपने घर और उसके बारे में सोचने लगा कुछ दिन ऐसे ही निकल गये। हम लोग अब सेक्स चेट भी कर लिया करते थे। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

एक दिन उसने मुझे सुबह कॉल किया और पूछा कि “तुम आज आ सकते हो क्या घर? मैंने हाँ में जवाब दिया और टाईम का इंतज़ार करने लगा और हर टाईम उसके बारे में सोचता रहा और मेरा लंड अब एकदम टाईट हो गया था। तभी जैसे ही में उसके घर पहुंचा उसने दरवाज़ा अंदर से बंद कर लिया और मुझे किस करने लगी। में भी उसे किस करता रहा हम दोनो एक दूसरे के मुहं में जीभ डालकर मज़े ले रहे थे।

इस बीच किस करते करते में उसके बूब्स दबाने लगा कितने सॉफ्ट और बड़े बूब्स थे उसके, मैंने धीरे से अपना एक हाथ उसकी गांड पर फेरा और उसे और कसकर पकड़ लिया। अब में उसे स्मूच कर रहा था और उसके बूब्स और गांड दबा रहा था। वो भी पागल हो रही थी। मेरे बाल नोच रही थी और सिसकारियां ले रही थी। फिर मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और उसे किस करने लगा और अब में उसकी चूत पर सूट के ऊपर से ही हाथ लगा रहा था। उसकी आखें बंद थी और वो अपनी कमर को धीरे धीरे झटके दे रही थी। तभी मैंने उसका सूट उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को प्रेस करने लगा। वो बहुत मस्त हो चुकी थी। फिर उसने मेरी शर्ट उतार दी और मैंने उसकी ब्रा के हुक खोल दिए उसके पिंक निप्पल देखकर मेरा नशा और बड़ गया और मैंने झट से उसके निप्पल मुहं में ले लिये और चूसने लगा और दूसरे हाथ से उसका दूसरा बूब्स दबाने लगा।

अब तक वो बहुत गर्म हो चुकी थी। उसने मेरा लंड अपने हाथ में लिया और ज़ोर ज़ोर से दबाने और ऊपर नीचे करने लगी और धीरे से उसने मेरे कान मे कहा में मुहं में लूँ क्या? मैंने उसे किस करते हुए हाँ मे जवाब दे दिया में दिवार की तरफ कमर करके खड़ा हो गया और वो अपने घुटनो पर बैठ गयी। उसने मेरी जीन्स का बटन खोला और मेरा लंड चाटने लगी। अब मेरे जिस्म मे जैसे एक अजीब सी हलचल पैदा हो रही थी जैसे ही उसने मेरा लंड अपने मुहं में लिया मेरे आनंद की कोई सीमा नहीं रही। में मानो जैसे स्वर्ग की सैर कर रहा था। तभी मैंने उसके बाल पकड़ लिए और एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसके मुहं में डाल दिया। कुछ देर बाद मेरा लंड झड़ने वाला था। तभी मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और दो तीन और झटके मारने के बाद में उसके मुहं में ही झड़ गया।

फिर वो मुझे और जोर से किस करने लगी और मेरे लंड के साथ खेलने लगी, तभी मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया। मैंने उसकी शलवार और पेंटी उतार दी और उसकी गीली चिकनी चूत देखकर मन ही मन खुश हो रहा था। मैंने धीरे से उसकी चूत पर हाथ लगाया तो वो सिहर उठी और मुझसे लिपट गयी में अब उसकी चूत में उंगली डाल रहा था और उसके बूब्स चूस रहा था। वो दो बार झड़ चुकी थी। तभी उसने कहा कि अब और नहीं सहा जाता। अब अपना लंड अंदर डाल दो, में उसे थोड़ा और परेशान करना चाहता था तो मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया वो आआअहह सीईईई आवाज़े निकाल रही थी। फिर मैंने एक ही झटके में अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया। तभी उसकी तो जैसे एकदम से साँस ही रुक गई थी लेकिन धीरे धीरे अब मज़ा आने लगा। मेरा लंड अंदर बाहर हो रहा था और में साथ में उसकी चूत को भी मसल रहा था और उसके बूब्स दबा रहा था। फिर मैंने उसकी गांड के नीचे तकिया रख दिया और तभी उसकी चूत थोड़ी और खुल गयी। फिर मैंने उसकी दोनों टाँगे अपने कंधो पर रख ली और में उसे जोर जोर से चोदे जा रहा था और वो मदहोशी की हालत में बस आखें बंद करके सेक्स का पूरा पूरा आनंद उठा रही थी। फिर मैंने कहा कि चल आज पीछे से भी करते है तो उसने हाँ कर दी फिर मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकाला, तभी वो जल्दी से घोड़ी बन गयी और उसने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर लगा दिया। फिर मैंने एक ही झटके मे अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया मुझे उसे चोदने में बहुत मज़ा आ रहा था। में बीच बीच मे उसके बूब्स भी दबा रहा था, तभी मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और उसे और ज़ोर से चोदने लगा उसकी सिसकारियां भी बढ़ गयी और वो सेक्स का पूरा आनंद उठा रही थी फिर करीब पांच मिनट बाद ही में उसकी चूत में ही झड़ गया और फिर उसके बाद उसने मेरा लंड अपने मुहं में लेकर चाट चाटकर साफ किया। अब में जब भी टाईम मिलता है उसके घर जाकर चोदता हूँ ।।

धन्यवाद …

One comment