Home / जवान लड़की / मिस्ड कॉल ने बदल दी जिंदगी – 2

मिस्ड कॉल ने बदल दी जिंदगी – 2

प्रेषक : राजा

“मिस्ड कॉल ने बदल दी जिंदगी – 1” से आगे की कहानी … फिर उसने देर से अपने गुलाबी होठ खोले और अपनी थोड़ी सी जीभ निकाल दी मेने बिना देर किये उसे अपने मुँह मे लेकर चूसने लगा पहले धीरे फिर फ्रेंच किस करने लगे उसके लाल होठों  को चूसे जा रहा था और हम दोनो के थूक एक्सचेंज होने से हम दोनो के होठ गीले हो गये मेने एक हाथ से उसके ब्लाउज के बटन खोल दिये और नाज़ुक बूब्स को ब्रा के उपर से मसलने लगा आइषा ने अपना एक हाथ नीचे ले जाकर मेरे लंड पर रख दिया मे तो पागल हो गया मे फटाफट अपनी जीन्स और टी-शर्ट उतारने लगा. वो भी समझ गयी उसने अपना ब्लाउज और साड़ी उतार कर सिर्फ़ ब्रा और पेंटी मे लेट गयी काले कलर की ब्रा पेंटी मे उसका गोरा भरा बदन किसी का भी लंड खड़ा कर सकता था मेने अपने हाथो से उसकी पेंटी उतारी और ब्रा की स्ट्रीप खोल दी वो उसे उतारने लगी तो मेने उसे रोक दिया और ब्रा को थोड़ा नीचे कर दिया फिर मे उसके उपर आ गया और उसकी ब्रा से उसका लेफ्ट बूब्स निकाल कर उसके गुलाबी निपल पर हाथ फेरा और उसे मुँह मे ले लिया और ज़ोर से चूसने लगा जितना हो सकता था.

मेने उतना बूब्स अपने मुँह मे भर लिया की आइषा ने जोश मे अपना सीना उठा लिया और मेरे सर को पूरा ज़ोर से दबा लिया और बोलने लगी और ज़ोर से जान और ज़ोर से और ये कहकर उसने मुझे बगल मे लेटा दिया मेरे मुँह मे अभी भी उसका बूब्स था उसने अपने हाथ से अपने बूब्स को पकड़ा और मेरे मुँह मे डालने लगी और ज़ोर जोर से साँस लेने लगी उसने मुझे बगल मे लेटा दिया मेरे मुँह मे अभी भी उसका बूब्स था उसने अपने हाथ से अपने बूब्स को पकड़ा और मेरे मुँह मे डालने लगी और ज़ोर जोर से साँस लेने लगी मे तो मे एक बच्चे की तरह उसके बूब्स चूस रहा था शीतल भी ऐसे मुझे बूब्स पीला रही थी जेसे उसमे से दूध निकलने वाला हो. मुझसे रहा नही गया और मेने उसे झट से पीठ के बल लेटा कर उसके बूब्स के उपर दोनो तरफ टाँग डालकर उसके बड़े बूब्स को चोदने लगा वो मुँह से अहह उहह करके सिसकियां भरने लगी मेने उसकी सूरत को देखा उसके होठों के शेप भी खुले थे जिससे वो और भी सेक्सी लग रही थी.

मेने उसकी आँखो पर से उसकी ज़ुल्फो की लट को किनारे पर किया और अपने लंड को उसके दोनो बूब्स मे दबाकर चोदने लगा जब मे आगे करता तो मेरा लंड उसके होठों के पास तक जाता तब उसने झट से होठ खोले और मेरे लंड के अगले भाग को मुँह मे ले लिया दोस्तो मे बता नही सकता मे किस जन्नत मे था मे थोड़ा आगे बड गया ताकि मेरा पूरा लंड उसके मुँह मे जा सके मेने अपने दोनो हाथ बेड के हेडल पर रखे और उसका मुँह चोदने लगा उसके गर्म थूक की वजह से हल्की चप्प्प्प्प्प…चप्प्प्प्प्प की आवाज़ आ रही थी मे और उत्तेजित हो गया और उसके मुँह मे लंड को गले तक जोर लगा कर डालने लगा तो उसके आंसू निकलने लगे थे तभी मुझे अपने लंड की नसो मे तनाव सा महसूस हुआ और मेने अपना पूरा पानी उसके मुँह मे छोड़ दिया पर अपना लंड दबाये रखा उसने मेरे लंड पर अपने होठ जोर से कस लिये ताकि मेरा पानी बाहर ना निकले फिर धीरे धीरे पूरा पानी पी गयी.

फिर धीरे से अपने होठ खोले मेने देखा मेरे लंड के बाल उसके थूक और मेरे पानी की वजह से गीले हो गये मेने वही पड़ी चादर को उठाकर अपना लंड साफ किया फिर मेने उसको सॉरी बोला उसके मुँह मे झड़ने के लिये क्योकि उसने मुझसे पहले कहा था की मे उसकी चूत मे ही डिस्चार्ज हूँ शीतल ने बोला कोई बात नही मे समझती हूँ उस वक़्त कुछ याद नही रहता ओर वेसे भी तुम अभी यंग हो इसलिये कुछ जल्दी ही एग्ज़ाइटेड हो जाते हो फिर मे लेट गया वो अपना सर मेरे मेरे सीने पर रखकर अपनी गोरी जाँघ मेरे लंड पर रख ली और अपने हाथ मेरे सीने पर फेरने लगी और एक हाथ से मेरे लंड को सहला रही थी मे भी उसके बालो मे अपनी उंगली फेर रहा था करीब 5 मिनिट मे मेरे लंड मे फिर हरकत होने लगी वो झट से उठी मेने कहा तुम 69 की पोजिशन मे आ जाओ.

फिर उसने मेरा लंड अपने मुँह मे लेकर उसे उत्तेजित करने लगी मेरी आँखो के सामने उसकी बड़ी बड़ी गोल जाघें थी और उसमे से देखती उसकी फूली हुई चूत मेने अपने होठ उसकी चूत पर रख दिये उसे एक झटका सा लगा फिर मेने अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल दी और शीतल मेरे लंड को ज़ोर जोर से अंदर बाहर कर रही थी और अपनी गांड मेरे मुँह पर दबा रही थी पूरा कमरा हमारी तेज़ सांसो से भर गया……..करीब 10 मिनिट तक हम ये खेल खेलते रहे. क्योकि मे एक बार झड़ चुका था इसलिये इस बार जल्दी नही झड़ने वाला था उसने मेरे लंड को तो पूरी तरह तैयार कर दिया था.

वो फिर मेरी तरफ जल्दी से पलटी और मेरे सीने पर आकर लेट गयी उसके बड़े बड़े बूब्स मेरे सीने पर दब गये फिर उसने कहा तैयार हो???????मेने कहा मे तो मरा जा रहा हूँ फिर उसने मुझे एक छोटा सा किस किया और अपने एक हाथ को नीचे ले गयी और मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के मुँह पर रख लिया मेरा लंड वेसे भी उसके थूक से गीला था फिर अपनी चूत का थोड़ा सा दबाव डाला मेरे लंड का अगला हिस्सा थोड़ा सा उसकी चूत मे गया उसकी चूत गीली होने की वजह से मुझे चिकनाहट फील हो रही थी. मे तो पागल हो गया और पीठ पर से हाथ डालकर उसके कंधे पर हाथ रख दिये और उसके शोल्डर पर प्रेशर डालने लगा एकदम से उसने थोड़ा ज़ोर लगाया और पचह की आवाज़ से मेरा आधा लंड उसकी चूत मे चला गया मुझे रहा नही गया और मेने उसे अपनी तरफ खीच लिया और उसकी पीठ पर अपने हाथ कस लिये और एक ज़ोर का झटका अपने लंड का दिया मेरा पूरा लंड उसकी चूत मे समा गया.

मेने अपना लंड झटके से उसकी चूत की गहराई मे डाला था उसकी एक ज़ोर की चीख निकली अहह. मेने झट से उसे अपने सीने मे दबोच लिया एक हाथ उसकी कमर पर था और दूसरे हाथ से उसके सर को अपने चेहरे पर झुकाते हुये उसके होठों को अपने होठों पर दबा लिया और उसके रस भरे होठ चूसने लगा ताकि वो थोड़ी नॉर्मल हो जाये मेरा लंड उसकी चूत की गहराई मे था और उसकी गर्मी से मुझे ऐसा लग रहा था की किसी आग की भट्टी मे हो. जब मुझे लगा की वो थोड़ा नॉर्मल हो गयी तो मेने अपने लंड को उसकी चूत मे धीरे धीरे हिलाने लगा वो भी जवाब मे अपनी कमर हिलाने लगी उसकी चूत की दीवारो के अंदर मेरा लंड फिसल रहा था मेने शीतल से कहा शीतल प्लीज ज़ोर से और ज़ोर से अहह मे जन्नत मे था वो तेज़ी से अपनी गांड को हिलाने लगी उसके बड़े बड़े माखन जेसे सॉफ्ट बूब्स मेरे सीने मे दब रहे थे.

उसने अपना सीना थोड़ा उठाया और अपना एक बूब्स को हाथ से पकड़ कर निपल मेरे मुँह मे डाल दिया और मेरे बाल पकड़ कर अपने बूब्स पर प्रेस कर रही थी. मे उसके निपल को एक बच्चे की तरह चूसने लगा मे हम दोनों की स्पीड बड़ गयी शीतल चुदाई मे पूरा साथ दे रही थी जेसे ही मे लंड उसकी चूत मे डालता वो भी तेज़ी से अपनी गांड को मेरे लंड पर झटका मारती जिससे पूरे कमरे मे हम दोनो की जांघो के टकराने की आवाज…ठप्प्प्प…ठप्प्प्प गूँज रही थी उसने एकदम से मेरे मुँह से अपना बूब्स निकाला और मेरे सीने पर हाथ रख कर बेठ गयी और मेरे लंड पर उपर नीचे होने लगी उसके दोनो माखन जेसे बूब्स हर धक्के के साथ उपर नीचे होते तो मे और भी एग्ज़ाइटेड होकर नीचे से अपने लंड को चूत की जड़ तक मे घुसेड देता मेने अपना सर उठा कर उसको देखा तो लंड उसकी चूत मे पूरा चला जाता और निकल आता मुझे अपनी किस्मत पर यकीन नही हो रहा था.

एक खूबसूरत औरत जो उम्र मे मुझसे बड़ी है में उसे मे चोद रहा हूँ. उसकी भरी हुई गोल जांघे गले मे छोटा सा मंगलसूत्र और हाथो मे लाल चूड़िया, और लाल लिपस्टिक वाली रसीले होठ जिससे वो एग्ज़ाइटेड मे खोले हुये कह रही थी और आवाज़ निकाल रही थी……राजा और ज़ोर से….. प्लीज…और ज़ोर से अहुहूह….उहह…पूरा कमरा हमारी सांसो और हमारी चुदाई से होने वाली आवाज़ से भर गया मेने अपने दोनो हाथ उसके उछलते हुये बूब्स पर रख कर उन्हे मसलने लगा उसने मेरे हाथो को हटाकर अपने हाथो की उंगलीयो मे फसा लिया और मुझ पर झुक गई और अपनी कमर को ज़ोर जोर से हिलाने लगी उसकी चूत पानी छोड़ने लगी थी जिसका गीलापन मुझे एहसास हो रहा था. मेने उसके कान मे कहा शीतल मेरा निकलने वाला है इतना सुनते ही उसने झट से मेरे उपर लेटकर करवट बदलकर मुझे अपने उपर कर लिया और अपनी जांघे फेला दी उसने अपनी भरी हुई गोल जांघे मेरी कमर पर लपेट ली.

हम दोनो पसीने से लथपथ हो गये थे पसीने से भीगी हुई उसकी बॉडी जब धक्के से हिलती तो और भी सेक्सी लगती अचानक उसने पानी छोड़ दिया मेने भी 3,4 धक्के लगाये और उसकी चूत की गहराई मे जाकर अपना ढेर सारा पानी छोड़ दिया उसने ज़ोर से मुझे अपनी बाहों मे भीच लिया और जाँघो को और टाइट मेरे कमर पर लपेट कर अपनी गांड को उठा लिया मेरा लंड उसकी चूत मे रुक रुक कर फुहार मार रहा था उसका पानी मेरे पानी मे घुल कर अजीब सा एहसास दे रहा था.

हम दोनो हाफने लगे मे शीतल के उपर लेट गया उसने मेरा सर पकड़ कर अपने सीने पर रख लिया और मेरे बालों मे धीरे धीरे उंगली फेर रही थी उसके दोनो बूब्स तेज़ सांसो के कारण उपर नीचे हो रहे थे मे अपना लंड उसकी चूत से निकालने लगा तो उसने मुझे रोक दिया मेने कहा  क्या हुआ? शीतल नही उसे बाहर मत निकालो वरना पानी बाहर निकल आयेगा तुम्हे मालूम हे ना मे किसी भी हाल मे प्रेग्नेंट होना चाहती हूँ 1 बूँद भी वेस्ट मत करना इस बार पहली बार मे तुम्हारी ख़ुशी के लिये अपने मुँह मे तुम्हे डिस्चार्ज होने दिया क्योकि तुम्हे शायद ब्लोवजोब पसंद है मेने उससे कहा इसलिये तुम जल्दी से पलट कर मेरे नीचे आ गयी थी.

वो इस बात पर हंस दी और मुझे खीच कर किस करने लगी उसे मालूम था की मे उसके लिप्स को चूसने से जल्दी गर्म हो जाता हूँ. वो पूरी तरह से मुझे किस कर रही थी 10 मिनिट मे ही मेरा लंड उसकी चूत के अंदर ही टाइट होने लगा उसे भी एहसास हो गया तो उसने अपनी जांघे  चोडी कर ली मे भी धीरे धीरे धक्के मारने लगा क्योकि मेने लंड नही निकाला था इसलिये थोड़ा सा ही पानी उसकी चूत से बाहर निकला था मेने अपनी स्पीड बड़ा दी और हर धक्के से उसका शरीर हिल जाता और वो पलंग मे उपर खिसक जाती मे उसकी एक टांग उठा कर घुटने से मोड़ दिया और दूसरा सीधे ही रहने दिया और थोड़ा झुक कर एक हाथ से उसका लेफ्ट बूब्स मसलते हुये उसे ज़ोर जोर से धक्के मार रहा था मेरा लंड पिस्टन की तरह अंदर बाहर हो रहा था.

उस वक़्त वो किसी हिरोइन से कम नही लग रही थी. करीब 15 मिनिट तक मे पागलो की तरह उसे चोदता रहा उसने जल्दी से मुझे अपनी तरफ खीचा और मेरे मुँह मे अपनी जीभ डाल दी. मे समझ गया वो अब फिर से झड़ने वाली है मे भी उसके साथ ही झड़ना चाहता था मे उसकी जीभ चूसते हुये धक्के लगा रहा था हर धक्के पर उसकी चूड़िया खनकने से मे और गर्म हो जाता पूरे कमरे मे उसकी सिसकियों अहहोहमाआ में गयी प्लीज ज़ोर से करो..ह..उहह…पलंग की चरमराहट औट हमारे जाँघो की आपस मे टकराने की चप्प्प्प.छाप….ठप…ठप्प्प्प..की आवाज़ ही आ रही थी एकदम से उसने मेरे पेठ पर ज़ोरो से अपने नाख़ून गड़ा दिये और झड़ गयी मे भी 8,10 धक्को के बाद अपना पानी छोड़ कर उस पर ढेर हो गया. हम दोनो की साँसे ऐसे चल रही थी जेसे दुगुनी.

मे उसके गोरे माखन जेसे बूब्स पर सर रखकर लेट गया और नॉर्मल होने लगा. वो धीरे धीरे कभी मेरे पीठ पर तो कभी सर पर उंगली फेरती जा रही थी मेरा लंड उसकी चूत मे ही अंदर फसाँ था करीब हम 15 मिनिट तक ऐसे ही नंगे एक दूसरे पर लेटे रहे. हम दोनो पसीने से तर हो गये थे. फिर उसने धीरे से हाथ नीचे ले जाकर मेरे लंड को पकड़ा और धीरे से बाहर निकाला उसकी चूत से ढेर सारा पानी निकला.

मेने उसके चेहरे की तरह देखा उसके सुर्ख लाल होठों की लिपस्टिक फेल गयी थी. मेने अपने हाथ की उसकी लिपस्टिक साफ की उसने मुझे एक स्माइल दी और चादर डाल कर बाथरूम चली गयी उसके बाद उसने नाह कर 2 कप चाय बनाई और मेने उससे कहा. ये मेरी ज़िंदगी का सबसे हसीन दिन था उसने कहा मेरा भी मेने कहा केसे? उसने कुछ नही कहा मेने ज़ोर दिया तो बोली मेरी एक इच्छा थी की अपने से कम उम्र वाले के साथ सेक्स करूँ जो आज पूरी हो गयी इसी तरह हम लोग बात करते रहे फिर मे जाने लगा तो वो मुझे दरवाजे तक छोड़ने आई और मुझे एक मीठी सी किस दी फिर मे वहा से आ गया.

शाम को उसका कॉल आया हमने खूब बातें की उसने मुझे अपने पति के बारे मे बताया की वो हमेशा काम मे बिज़ी रहते हे और बहुत चिड़चिड़े हे उसने कहा मे अपने पति को चीट नही करना चाहती पर टेस्ट ट्यूब बेबी भी नही चाहती उसने कहा इसलिये मेने तुम्हे महीने भर तक परखने के बात मेने ये सब करने को तैयार हुई इसी तरह हम दोनो 4 दिन तक रोज जब भी मोका मिलता चुदाई करते फिर उसका पति आ गया तो सब बंद हो गया.

कुछ हफ्ते बाद उसने बताया उसके पीरियड नही आया प्रेग्नेन्सी स्ट्रीप से चेक किया तो पता चला वो प्रेग्नेंट हो गयी उसका पति भी खुश हो गया उसे लगा ये उसकी मेहनत का फल हे पर हम दोनो ही जानते थे की असली कमाल क्या हे. फिर वादे के मुताबिक हम अपनी अपनी लाइफ मे बिज़ी हो गये.

दोस्तो ये थी मेरी कहानी केसे एक मिस्ड कॉल ने मुझे इतना हसीन मोका दिया . .

धन्यवाद ….