Home / घर में चुदाई का खेल / मामा की शादी में मौसी की चुदाई

मामा की शादी में मौसी की चुदाई

प्रेषक : संदेश

हैलो दोस्तों में इस साईट को रोजाना पड़ता हूँ, मेरा नाम संदेश है उम्र 33 साल है और मेरा लंड 8 इंच लंबा 3 इंच मोटा है लम्बाई 5’10″ है, यह 18 साल पुरानी कहानी है तब मैं 12 वी क्लास मैं था और मेरी छुट्टिया चालू थी हमारी जॉइंट फेमिली है और मेरे 2 अंकल और उनकी वाईफ सब मिलकर हम 7 लोग है जब मैं कॉलेज मैं था तब से  मुझे बड़ी उम्र वाली औरते बहुत ही प्यारी लगती थी और उनके साथ सेक्स करने का मन करता था तभी मैने कई बार ब्लू फिल्म भी देखी थी तब से मैं सोच रहा था किसी ना किसी बड़ी उम्र वाली औरत को चोदूगां लेकिन ये नही मालूम था की मैं अपनी चाची और मौसी को एक साथ चोदूंगा यह मेरा पहला अनुभव था और पहली बार मैने किसी की चूत मारी थी.

यह उसकी कहानी है  तो दोस्तो शुरू करता हूँ मेरे मामा की शादी थी इसलिये हम सब लोग नानाजी के यहा गये थे वहा पर मेरे सब रिश्तेदार आये थे जिस दिन हम पहुँचे उस दिन मेरी बड़ी मौसी नाम रानी उम्र 39 साल लम्बाई 5’2″ फिगर 38-40-42 वो भी आई थी लेकिन उसके साथ मौसाजी नही आये थे वो शादी के दिन आने वाले थे  मौसी दिखने मैं बहुत सेक्सी थी और गोरी थी स्किन बहुत ही मुलायम थी मौसी सिर्फ़ साड़ी ही पहनती थी और उसका साड़ी बाँधने का तरीक़ा भी कुछ अलग था हमेशा वो नाभि के नीचे साड़ी पहनती थी जिसके कारण वो और भी ज्यादा सेक्सी लगती  उसको कोई लड़का नही था इसलिये वो मुझे अपने औलाद जितना चाहती थी.

ये हुआ मेरी मौसी के बारे मैं और मेरी बड़ी चाची नाम नम्रता उम्र 42 साल हाइट 5 फुट फिगर 36-38-40 उनको भी कोई औलाद नही थी वो भी हमारे साथ आई थी चाची थोड़ी सांवली थी और थोड़ी मोटी थी सांवली होने से बहुत ही ज्यादा सेक्सी थी उन्हे हमेशा मैने साड़ी मैं ही देखा है लेकिन ब्लाउज टाइट ही पहनती थी जिस कारण बूब्स और बीच की धारी ब्लाउज से दिखाई देते थे और देखने वाले का लंड टाइट हो जाता था मैने अपनी चाची के नाम से बहुत बार मूठ भी मारी है और मन ही मन मैं उनको कई बार चोदा भी है लेकिन ये नही जानता था मैं उनको हकीकत में चोदूंगा और वो मौक़ा मेरे मामा की शादी मैं आया.

मेरे नाना का घर बहुत छोटा था सिर्फ़ 4 ही रूम थे और मेंबर बहुत ज्यादा थे रात का खाना हो गया था और यहा के लोग रात को जल्दी सोते थे छोटा ही गावं है और यहा लाइट का प्रोब्लम भी ज्यादा था मेरे नाना ने कहा जो लोग सुबह जल्दी नही उठते वो सब खेत पर जो मकान है वहा जाकर सोये और मुझे कहा तू उनको साथ लेकर जा मैने पूछा कौन आ रहा है तो मेरी मौसी ने कहा मै तो थक गयी हूँ बहुत लंबा सफ़र था मैं तो सुबह जल्दी नही उठ सकती हूँ तो मैं आ रही हूँ और उन्होने चाची को भी कहा आप भी थकी लग रही है आप भी चलो मेरे साथ चाची ने हाँ कहा और और हमारे 5 रिश्तेदार थे वो भी आने के लिये तैयार हो गये हम सब लोग हमारे खेत के मकान पर चले गये सब मिलकर 8  लोग थे जिनमे 2 कपल्स थे और 1 बच्चा था साथ मैं और मौसी चाची और मैं वहा मकान पर 5 रूम थे एक हॉल, 3 बेडरूम और किचन मौसी और चाची एक बेडरूम मैं और 2 कपल्स दूसरे दो रूम मैं सोने को गये सिर्फ़ मैं हॉल मैं मैने अपना बिस्तर लगाया और वहा पर सो गया.

थोड़ी ही देर मैं मौसी रूम से बाहर आई और   मुझे नींद से जगाया और बाजू मैं लेट गयी और कहा तेरी चाची तो बहुत खर्राटे लेती उसकी आवाज़ से नींद ही नही आ रही थी इसलिये बाहर तेरे साथ सोने चली आई मौसी ने मेरे सीने पर हाथ रखा और मेरी तरफ मुँह करके सो गई पर मुझे नींद नही आ रही थी क़िसी औरत के इतने करीब कभी नही सोया था और फिलहाल मेरे दिमाग़ मैं ब्लू फिल्म ही थी और इस साइट की स्टोरी जो पढ़ी थी मौसी के हाथ का मुलायम स्पर्श होते ही मेरे अन्दर करंट लग रहा था और मेरा लंड खड़ा हो चुका था और उसको चोदने के लिये तैयार था लेकिन डर भी लग रहा था की मौसी ने अगर माँ को बताया तो मार पड़ेगी.

फिर सोचा जो भी होगा देखेंगे मैने मौसी की तरफ अपना मुँह किया और ध्यान से उसको देखा वो एकदम गहरी नींद मैं थी और जब वो सांस ले रही थी तब उसके बूब्स आगे पीछे हो रहे थे ये देखने मैं मज़ा आ रहा था फिर मैने अपना हाथ उसके उपर डाला और थोड़ा नज़दीक गया अब मेरे और मौसी के बीच मैं कुछ भी जगह नही थी उसके बूब्स मेरी छाती को टच कर रहे थे और मेरा हाथ उसकी कमर के उपर से उसकी पीठ पर था और उसका हाथ मेरे पीठ पर था ऐसा लग रहा था हम एक दूसरे की बाहों मैं सो गये है  थोड़ी देर बाद मैने अपना एक पैर भी उसके पैर के उपर डाला और थोड़ा नीचे हुआ अब मेरे लिप्स को उसके बूब्स टच कर रहे थे फिर मैने अपना मुँह और उसके करीब लिया.

अब जब वो सांस लेती थी तब उसके बूब्स मेरे लिप्स को टच कर रहे थे मुझे बड़ा मज़ा आने लगा और मेरे पजामे मैं लंड अब बहुत ही ज्यादा उछलने लगा था फिर मैने अपना हाथ उसकी पीठ से हटा के उसके पिछवाड़े पर रखा और उसको अपने हाथ से मेरी तरफ दबाया ताकि मेरे लंड का टच उसको हो जाये जैसे ही मैने उसकी गांड को दबाया वेसे ही मौसी ने आँख खोली और मेरी तरफ देखा मैने तुरंत आँख बंद करके सोने का बहाना किया मौसी को लगा मैं नींद मैं ही हूँ और उसने मुझे और अपने नज़दीक खींचा और मेरे पैर के नीचे से उसने अपना पैर मेरे दूसरे पैर पर डाला और वापस सो गई अब तो हमारे बीच मैं चींटी को भी जाने की जगह नही थी इतने करीब थे हम हमारी सांस की हवा एक दूसरे को महसूस हो रही थी मेरा लंड पूरा तना हुआ था और मौसी की जांघ पर रगड़ रहा था और कुछ ही समय मैं मेरे लंड से वीर्य निकल गया जिससे मेरा पजामा और चड्डी दोनो गीली हो गई थी मेरा लंड अब सिकुड गया था.

अब मुझे कुछ आराम आया था और थकान महसूस होने लगी और कब मेरी आँख लगी ये पता नही चला कुछ देर बाद महसूस हुआ की कोई मेरे लंड को पकड़कर हिला रहा है तब मैने आँख खोल कर देखा तो मौसी ने मेरी चड्डी के अन्दर हाथ डाल कर मेरे लंड को सहला रही थी शायद वो भी गर्म हो चुकी थी तभी मैने उसका हाथ पकड़ा और कहा क्या कर रही हो मौसी तो उसने कहा साले मुझे सब मालूम था तू क्या कर रहा है तेरे लंड के टच से मेरी चूत मैं आग लगी है और कह रहा है क्या कर रही हो और उसने तुरंत मेरे लिप्स पर अपने लिप्स रखकर एक जोरदार किस किया मैने भी उसका साथ देते हुये उसकी जीभ को अपनी जीभ से चाटने लगा और अपना एक हाथ उसके बूब्स पर रखा और उसको दबाने लगा.

मौसी ने अपना एक हाथ मेरे बदन के नीचे से लेकर मेरी पीठ को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरे लंड को तभी उसने मेरे पजामे का नाडा खोला और पजामे को नीचे कर दिया अब मैं सिर्फ़ चड्डी में था फिर मैने मौसी को कहा तुम भी अपनी साड़ी खोलो तो उसने कहा मेरी साड़ी खोलने का मज़ा तुम ही ले लो फिर मैने उसकी साड़ी निकाल दी और उसके पेटीकोट के उपर से ही उसकी चूत पर अपना हाथ फेरना चालू किया मौसी ने मुझे अपने उपर खींच लिया और मुझे किस करना चालू किया और अपने हाथ से मेरी गांड को दबा रही थी मेरा लंड उसके पेट पर चुभ रहा था और वो उसका मज़ा ले रही थी और मैं भी .

तभी मैने अपने हाथ से उसका ब्लाउज और ब्रा दोनो निकाल फेके और उसकी चूचीयों को आज़ाद कर दिया और एक चूची को अपने मुँह मैं लेकर चूसने लगा वेसे मौसी ने आआहाईयईईई ससस्स करके आवाज़ निकाली और अपने दायें हाथ से उसकी दूसरी चूची को दबाने लगा उसके मुलायम चूची के स्पर्श से मेरा लंड बहुत ही जोश मैं आ गया था और मौसी भी इसका आनंद ले रही थी अब उसने मेरे सिर को अपनी चूची के उपर दबा के रखा था और मुँह से आआाआया  चूस मेरी चूची को बहुत दिनो से किसी ने चूसा नही है तू चूस और चुस्स्स्स्स और अपने दूसरे हाथ से मेरी चड्डी के अंदर डाल कर मेरे लंड के सूपड़े को खींच रही थी मैने अब उसकी दूसरी चूची को मुँह में लेकर चूस रहा था और राइट चूची के निपल खींच रहा था और वो जोर से ईएईईईईईई आहह मोन कर रही थी करीब 10 मिनिट तक मैं उसकी चूची को चूस रहा और दबा रहा था अब उसके निपल कड़क हो गये थे और चूचीयां लाल लाल हो गयी थी.

अब मैने चूसना बंद कर दिया और उसके लिप्स पर लिप्स रख के किस करना चालू किया और दोनो हाथ से उसकी चूचियों को दबा रहा था अहहाह्ह्ह क्या मज़ा आ रहा था कुछ मिनिट के बाद मौसी ने मुझे खड़ा किया और मेरी चड्डी उतार दी और टी शर्ट भी निकाल दिया अब मैं उसके सामने पूरा नंगा था मैने भी उसका पेटीकोट और पेंटी निकाल फेकी और उसको नंगा कर दिया अब मौसी पैर फैलाकर बैठ गयी और उसने मेरे लंड को अपने मुँह मैं लेकर चूसने लगी मेरे मुँह से एकदम आहह करके आवाज़ निकली  मेरे लंड को कोई पहली बार चूस रहा था  मैने मौसी का सिर पीछे से पकड़ा और अपने लंड पर उसको दबाने लगा ताकि मेरा सारा लंड उसके मुँह मैं जाये और सिर को आगे पीछे करने लगा मेरा एक पैर उसकी चूत के पास था जिसकी उंगलियों से मैं मौसी की चूत के ऊपर फेर रहा था.

उसकी चूत के घने बालो का स्पर्श मुझको गर्म कर रहा था और मैं तेज़ी से उसके सिर को पकड़ कर अपनी कमर हिला रहा था और लंड उसके मुँह मैं डाल रहा था एक हाथ मैं उसकी पीठ पर घुमा रहा था और कभी कभी चूची को दबा रहा था मौसी मेरा लंड ऐसे चूस रही थी जैसे वो लोलीपोप चूस रही हो ये क्रिया 4-5 मिनिट तक चल रही थी और मैने महसूस किया अब मेरे लंड से पानी निकलने वाला है तो मैने मौसी को कहा मौसी मेरा पानी निकलने वाला है उसने मेरी तरफ़ देखा और आँख से इशारा किया छोड़ दे मेरे मुँह मैं और वो जोर से चूसने लगी कुछ ही पल मैं मेरे लंड ने उसके मुँह मैं पानी छोड़ दिया और मौसी सारा पानी पी गयी फिर भी उसने मेरे लंड को अपने मुँह से बाहर नही निकाला था.

मैं थोड़ा झुक के उसकी चूची को मसल रहा था मौसी ने मेरे लंड को पूरा अपनी जीभ से साफ कर दिया और फिर ही उसे बाहर निकाला फिर मैं मौसी के पैर के उपर बैठ गया और उसको अपनी बाहों मैं लेकर उसके गाल पर और लिप्स पर किस करने लगा और एक हाथ उसकी पीठ पर घुमा रहा था मौसी भी मेरा साथ दे रही थी मौसी ने मुझे कहा सेंडी तेरा लंड तो बहुत मोटा और लंबा है बड़ा मज़ा आया इससे चूसने मैं बहुत दिनो के बाद मेरी चूत इतने बड़े लंड से चुदेगी मैने कहा क्या अंकल (मौसाजी) नही चोदते क्या? मौसी ने कहा महीने मैं एक या दो बार करते है लेकिन जल्दी पानी छोड़ देते है और उनको ये सब पसंद नही है लंड को हाथ भी लगाने नही देते तो चूसने की बात तो बहुत दूर हो गयी.

मैं अब उसके बगल मैं बैठ गया और अपने दायें हाथ से उसकी चूत को सहला रहा था आहिस्ता आहिस्ता मैने अपनी एक उंगली मौसी की चूत के अंदर डाल कर उसको अंदर-बाहर करने लगा वेसे मौसी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और उसको ज़ोर से मेरे हाथ को आगे- पीछे करने लगी में बायें हाथ से उसकी चूची को मसल रहा था और मौसी दायें हाथ से मेरे लंड को अपनी मुट्ठी मैं लेकर हिला रही थी और मुँह से आआआएयययाहह करके आवाज़ निकाल रही थी मौसी ने कहा सेंडी मेरी चूत को चूसेगा क्या? मेरी ये बहुत दिनो की तमन्ना है कोई मेरी चूत चूसे मैने हाँ कहा मौसी आज तू जो कहेगी वो करूँगा मौसी ने तुरंत मुझे जोरदार किस किया और कहा मुझे तू सिर्फ़ रानी कहना मौसी मत कहना मैने कहा ठीक है रानी.

फिर मैने उसको लेटाया और उसके माथे को फिर नाक को फिर गाल को, लिप्स को, गले को, चूची को, निपल्स को चूमता हुआ उसकी नाभि तक गया और उसकी नाभि मैं जीभ को घुमा रहा था और दोनो हाथ से उसकी चूचियों को मसल रहा था और मौसी अपने एक हाथ से मेरे लंड को हिला रही थी और दूसरे हाथ से मेरे सिर को दबाये जा रही थी फिर मैने आहिस्ता से उसकी कमर को चूमा और उसकी जांघ को चूमते हुये उसकी चूत तक पहुँच गया फिर मैने अपने हाथ से उसकी चूत की दीवार को अलग किया और अपनी जीभ से चूत को चाटने लगा जैसे ही मैने चूत के अंदर जीभ रखी वेसे ही मौसी ने अपने हाथ से मेरे सिर को दबाया और मुँह से आहहाईयईई आवाज़ निकल गयी मौसी ने कहा और चाट मेरी चूत को खा जा इसे ह उउईईईई ऊओह ह मैं जोरो से अपनी जीभ को अंदर बाहर करने लगा.

मौसी मेरे सिर को अपनी चूत पर दबा रही थी और नीचे से अपनी कमर को उपर उठा कर मेरा साथ दे रही थी और तेज़ और तेज़ चूस मेरी चूत को हहह्ह्ह रुकना नही और अंदर डाल अपनी जीभ को मेरे चूत के दाने को चूस आहह जैसे ही मैने उसके दाने को अपनी जीभ से टच किया वो तो पागल हो गयी और अपनी कमर ज़ोर से हिलाने लगी और मुँह से ऊहहआहाहह आईईई की आवाज़ निकालने लगी फिर मौसी ने कहा तेरा लंड भी मैं चूसती हूँ और हम लोग 69 की पोज़िशन मैं थे वो मेरा लंड और मैं चूत चूस रहा था करीब 10 मिनिट तक हम एक दूसरे को चूस रहे थे बाद मैं मौसी ने कहा सिर्फ़ चूत को चूसेगा अपने बड़े लंड से अपनी रानी की चूत की प्यास बुझा दे फिर मैं सीधा हो गया और उसकी चूत के छेद के उपर लंड को रगड़ने लगा और हाथ से उसकी चूचियां दबाने लगा वो मछली की तरह तड़प रही थी और अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर चूत मैं डाल रही थी.

मौसी ने कहा क्यों तड़पा रहा है अपनी रानी को डाल दे अंदर और भोसड़ा बना दे मेरी चूत का बहुत दिनो से प्यासी है लंड की मेरी चूत फिर मैने समय ना बिताते हुये एकदम से मेरे लंड को ज़ोर से पुश किया मेरे लंड का सुपाड़ा ही सिर्फ़ अंदर गया था मौसी के मुँह से हल्की सी चीख निकल गयी आअहह आआईइ फिर मैने मौसी को किस किया और फिर ज़ोर से लंड को पुश किया इस बार पूरा का पूरा लंड अन्दर गया था और मौसी छटपटाने लगी और ज़ोर से चिल्लाई आईईई हहहाह्ह्ह्ह मैने मौसी को किस करना चालू किया और मौसी मुझे अपने उपर से हटा रही थी कुछ देर तक मैं शांत रहा और सिर्फ़ उसको किस कर रहा था और चूचियां दबा रहा था.

अब मौसी भी शांत हो गयी थी फिर में धीरे धीरे लंड को अंदर बाहर करने लगा मौसी मुँह से सिसकारी ले रही थी आईईई मारररर डालल्ल्ला तेरररा लंड तो बहुत ही मोआआटा और लम्बा है ऊहह माँ हाहहः निकाल दे बाहर इसे मुझसे सहन नही हो रहा है फिर मैं थोड़ी देर तक अपना लंड मौसी की चूत के अंदर बाहर करना बंद कर दिया और उसको लिप्स पर चूमने लगा और उसके सिर को अपने हाथ से सहला रहा था मौसी भी चूमने मैं मेरा साथ दे रही थी और अपने दोनो हाथ मेरी पीठ पर घुमा रही थी कुछ पल के बाद मैने अपना लंड बाहर निकाला और ज़ोर से एक वापस धक्का मारा मेरा लंड अब उसकी चूत के दाने को जाकर टकराया मौसी ने अपनी आँखे बंद कर ली.

मौसी ये धक्का सहन नही कर पाई और वो नीचे से अपने पैर छटपटाने लगी थोड़ी देर के लिये मैं चुपचाप हो गया और उसकी चूची को मुँह मैं लेकर चूसने लगा जैसे ही उसका मुँह खुला हो गया वेसे ही वो चीख पड़ी मैने उसके मुँह पर अपना हाथ रखा तो उसने मेरे हाथ को काटा कुछ 1 मिनिट के बाद मौसी थोड़ी शांत हुई फिर मैने अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा मौसी आअहह ईईईईई उूउुआअ आईईईईई चोद दे चूत को भोसड़ा बना दे मेरी चूत का बहुत दिन की प्यासी है मेरी चूत  मीटा दे इसकी खुजली को तेरा लंड तो बहुत तगड़ा है तेरे अंकल से भी मोटा और लंबा है बुझा दे अपनी मौसी की चूत की आग को मैं मौसी की चूची को दबा रहा था और ज़ोर से धक्के मार रहा था अब मौसी भी मेरा साथ दे रही थी वो नीचे से अपनी कमर को उपर उठा कर मेरे लंड का आनन्द ले रही थी और अपना एक हाथ मेरी पीठ पर और दूसरा मेरी गांड  पर घुमा रही थी.

मैं अपने लंड को जोर से अंदर डाल रहा था और ज़ोर से बूब्स दबा रहा था मौसी बहुत ही गर्म और पागल हो रही थी और कह रही थी और जोर से चोद फाड़ देगा मेरी चूत को तेरा मोटा लंड पर मैं ये सब सुनने को तैयार नही था और ज़ोर से मैं उसको धक्के मार रहा था और मौसी को चोद रहा था जब मैं उसको धक्के मार रहा था जिससे मौसी को मज़ा भी आ रहा था और दर्द भी हो रहा था और वो ईईईईए आईई मररररर गईईईई और जोर से और जोर जोर से चोद मुझे आआईईईईई ह मजाआाअ आ गयायायाया कह रही थी और नीचे से कमर भी उठाकर मेरा लंड अंदर ले रही थी.

मैने पूछा मौसी कैसा लग रहा है तो उसने कहा मौसी नही रानी कहना मैने कहा रानी मज़ा आया क्या तो उसने कहा हाँ मज़ा आ गया अब मैं अपना पूरा लंड बाहर निकाल के वापस पूरा अंदर डाल रहा था और हाथ से चूचियां दबा रहा था रानी मुँह से सिसकारियां निकाल रही थी और उससे एक अलग ही माहोल बन रहा था करीब 10 मिनिट तक चोदने के बाद मुझे महसूस हुआ की मेरा पानी निकलने वाला है तो मैने बड़े बड़े और लंबे लंबे धक्के मारने चालू किये 10-12 धक्के के बाद मुझे लगा अब पानी निकलने वाला है तब मैने कहा आहह ऑश रानी मेरा पानी निकलने वाला है तो मौसी ने अपने पैर को मेरे कमर से जकड़ लिया और कहा मेरा भी पानी छूटने वाला है.

मेरी चूत मैं ही छोड़ दे अपना सारा पानी भर दे मेरी चूत को तेरे लंड के पानी से और हम दोनो ने एक साथ पानी छोड़ा और झड़ गये थे  मौसी और मैं पूरे पसीने से भीग गये थे मैं वेसे ही उसके उपर लेटा था और हम किस कर रहे थे कुछ देर तक हम वेसे ही लेटे थे मौसी मेरी पीठ पर हाथ फेर रही थी और किस कर रही थी  फिर 3-4 मिनिट के बाद मैं उसके बगल मैं लेट गया मौसी ने मेरी तरफ अपना मुँह किया और मेरे पैर के ऊपर अपना पैर डाला मैने अपना हाथ उसकी गांड पर रखा और हम सो गये..

धन्यवाद …

One comment