Home / कॉलेज सेक्स / में चुद गई गोल्फ ग्राउंड पर

में चुद गई गोल्फ ग्राउंड पर

प्रेषक : मिली
हाय दोस्तों आज मे आपको अपनी स्टोरी बताने जा रही हूँ जो की मेरी चुदाई के अनुभव रियल की है आप सब को बता दूँ की मेरी माँ बड़ी चुदक्कड़ रंडी और उसने मुझे पहली बार चुदवाया था उसके बाद चुदाई मेरा जैसे काम ही बन गया मे कभी भी कॉलेज नही जाती थी और मेरी रंडी माँ मुझे रोज किसी ना किसी से चुदाई करवाती थी। और बहुत पैसे कमा रही थी। फिर एक दिन उसने मुझे कहा की कल रात को तुझे एक नाइट कॉल पर एक गोल्फ ग्राउंड क्लब पर जाना है मेने कहा की कितने आदमी होंगे? वो बोली तीन होंगे और वो सब मेरे खास दोस्त है और मेरे रेग्युलर कस्टमर है मेने कहा की ठीक है मे चली जाऊंगी तुम तो साथ मे आओगी? वो बोली मे नहीं आ सकती उसने तुझे अकेली को बुलाया है और ऐसे भी मेने यही घर पर एक आदमी को बुलाया है रात भर के लिए इसीलिये तुम्हे अकेली को जाना होगा.

मेने कहा ठीक है पर ये मेरा पहला अनुभव था की मे घर से बाहर चुदाई के लिए जा रही थी पर अब मेरे मे बहुत कॉन्फिडेन्स आ गया था मुझे पता था की ज़्यादा से ज़्यादा वो क्या करेंगे 10 से 12 बार चुदाई से ज़्यादा तो कुछ नही कर सकते इतना तो मे आराम से करवा लूँगी क्योंकी अब मेरी चूत और गांड दोनो बहुत बड़ी हो गयी थी मे शाम का इंतज़ार करने लगी माँ ने कहा था की शाम के 7 बजे एक कार आयेगी तुझे लेने के लिए उसमे तुझे जाना है मेने दोपहर का खाना खा लिया और मेरे रूम मे आराम से सो गयी शाम के 5 बजे उठी और बाथरूम मे जा कर चूत और हाथ के सारे बाल शेव कर दिये और एक वाइट टॉप और ब्लू जीन्स पहन लिया.

मेरी माँ ने मेरा नाइट का बैग तैयार कर दिया था जिसमे तीन नाइटी तीन ब्रा पेंटी और दो और पेंट शर्ट थे जो की मुझे रात मे सब बारी बारी पहनने थे मेने एक लूब्रिकेंट भी साथ मे ली और कन्डोम भी साथ मे लिया शाम के 6.30 बजे मेरी माँ को कॉल आया की कार आ रही है लड़की को भेज देना माँ ने कहा की लड़की तैयार है मे उसे भेज रही हूँ सुबह के 8 बजे से पहले यहाँ वापस रख जाना और जो बात हुई है उससे ज़्यादा आदमी नही चाहिये.

मेरी लड़की अभी बहुत छोटी है ये तो आप के साथ सालो पुरानी दोस्ती है इसलिये भेज रही हूँ थोड़ा उसका भी ख्याल रखना वरना मेने कभी उसको घर से बाहर नही भेजा तो उसने कहा की क्यों मेरी जान परेशान हो रही हो तुम्हारी लड़की भी तो हमारी लड़की है और ऐसे भी इस लड़की के जन्म के बाद से तो तुम्हारा पति ज़्यादातर बाहर ही रहता है ऐसे मे हमने तो तुम्हे पूरा सपोर्ट दिया है और पति जेसा प्यार भी दिया है थोड़ी देर मे कार आ गयी मे उसमे बेठ गयी मे पीछे की सीट पर बेठी थी और आगे ड्राइवर कार चला रहा था हम दोनो गाड़ी मे अकेले थे करीब एक घंटे की ड्राइव के बाद हम सिटी से बहुत दूर आ गये थे मुझे कही गोल्फ ग्राउंड दिखाई नही दे रहा था फिर ड्राइवर ने कार को रोड़ से छोटे रोड़ पर ले ली और हम थोड़ी देर मे गोल्फ ग्राउंड पर आ गये मेने देखा की ये तो बहुत बड़ा ग्राउंड है सब तरफ हरियाली थी बड़े बड़े पेड़ थे और कही कही पानी के छोटे तालाब बने थे मुझे ये रियल ग्राउंड जेसा लग रहा था जो की हम कई बार टी.वी मे देखते है वो मुझे एक कॉर्नर मे बने क्लब हाउस मे लेकर गया उसने कहा की तुम यही बेठो मे साहब को बुला के आता हूँ.

मे सोफे पर बेठ गयी 10 मिनिट के बाद एक आदमी आया जो की 55 साल का लग रहा था उसने हाफ पेंट और टी शर्ट पहनी हुई थी उसने बीयर के दो ग्लास बनाये और एक मुझे दिया मेने कहा की मे नही पीती उसने कहा ज़्यादा नाटक मत करो तुम्हारी माँ मेरी रंडी है और मे तेरे बारे मे सब जानता हूँ तो मेने चुपचाप से ग्लास उठा लिया और फिर हम दोनो पीने लगे थोड़ी देर मे हम दोनो ने दो दो पैक पी लिए थे और थोड़ी मस्ती चड रही थी फिर उसने मुझे अपने पास बुलाया और मुझे किस करने लगा मुझे भी मज़ा आ रहा था थोड़ी देर किस करने के बाद उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और खुद भी नंगा हो गया.

फिर वो मेरे बूब्स को सहलाने लगा मे भी उसके लंड को हाथ मे ले कर सहलाने लगी उसका बहुत बड़ा लंड था शायद 8 इंच का होगा उसके लंड को देख के ही लगता था की इस लंड ने बहुत चूतो की चुदाई की है फिर उसने मुझे सोफे पर लेटा दिया और मेरी चूत चाटने लगा थोड़ी देर मे मे बहुत एग्जाइटेड हो गयी और झड़ गयी जेसे ही मे झड़ गयी तो वो भी खड़ा हो के रूम से बाहर निकल गया मेने फिर से अपने कपड़े पहन लिए और वॉशरूम मे जा कर मुँह और चूत को साफ कर दिया और फिर से सोफे पर बेठ गयी दोस्तो ये कॉल गर्ल का काम होता है की एक चुदाई के बाद पूरी तरह से फिर से तैयार होना पड़ता है क्योकि जब दूसरा आता है तब उसे यही लगना चाहिये की फर्स्ट टाइम हो रहा है.

थोड़ी देर बाद दूसरा आदमी आया जो 50 साल के करीब का था वो पेंट शर्ट मे था उसने भी मुझे दो पैक बीयर पिलाई फिर उसने कहा की मेरा पेंट खोलो और लंड बाहर निकालो मेने उसकी पेंट उतार दी और चड्डी भी उसका भी बहुत बड़ा लंड था मेने लंड को किस करना शुरू किया उसने कहा चल रंडी पूरा मुँह मे कौन लेगी चल भोसड़ी की रंडी की औलाद पूरा मुँह मे ले साली मेरी पत्नी की तरह किस कर रही है मेरी वाइफ यही करती है इसलिये तो कितने सालो से तेरी माँ को अपनी रखैल बना के रखा है आज तू भी आ गयी चाट पूरा मुँह मे ले मे पूरा मुँह मे लेने की कोशिश कर रही थी पर उसका 10 इंच का लंड मेरी सहन शक्ति से ज़्यादा बड़ा था उसने मेरे बाल पकड़ के जोरो से मुँह मे देने लगा मे खांसने लगी मेरी सांस रुक गयी थी थोड़ी देर बाद उसने कहा की सारे कपड़े उतार मे उसके सामने नंगी हो गयी उसने मुझे अपनी गोद मे लिया और मेरे बूब्स को जोरो से प्रेस करने लगा मेरी निपल को दबाने लगा। में मज़े मे आ रही थी.

थोड़ी देर मे वो मेरी चूत को सहलाने लगा और एक उंगली मेरी चूत मे डाल के मेरी चुदाई करने लगा मे भी उसके हाथ को हिला रही थी अब मे कंट्रोल नही कर पाई और ज़ोर से झड़ गयी उसने फिर भी उंगली से चुदाई चालू रखी थोड़ी देर के बाद मे फिर से झड़ गयी वो अभी भी नही झड़ा था मेने कहा की चुदाई नही करनी है तो वो बोला करेंगे पूरी रात बाकी है मे बीयर के नशे मे थी वो भी रूम से चला गया मे फिर से वॉशरूम से तैयार हो कर वापस आई तो तीसरा सोफे पर बेठा था उसने भी ऐसा ही किया और 1 घंटे के फॉर प्ले मे दो बार और झड़ गयी अब तक मे 5 बार झड़ चुकी थी और फुल बीयर के नशे मे थी फिर उसने कहा की अब नाइटी पहन लो रात के 10 बज चुके है अब ग्राउंड पर जाना है.

सर्दी का मोसम था मेने रेड ब्रा और पेंटी के साथ एक नाइटी पहन ली वो तीनो मुझे क्लब हाउस से बहुत दूर ग्राउंड मे लेकर गये बहुत दूर एक टेंट बना हुआ था उसके बाहर तीन चार गद्दे बिछाये हुये थे वो लोग मुझे वहा टेंट के बाहर लेकर गये और मुझे पूरी नंगी कर दिया और तीनो ने मिल कर मेरे साथ सेक्स शुरू किया बहुत ठंड लग रही थी जिसके कारण मुझे भी गर्मी की ज़रूरत थी मे भी उन लोगो की बाहों मे मज़े ले रही थी 2 घंटे के बाद मेरा बीयर का नशा कम हो रहा था तब मुझे पता चला की मे तो अब तक 8 बार झड़ चुकी हूँ और उन तीनो मे से एक भी झड़ा नही है.
तब मुझे पता चला की ये लोग मुझसे चुदाई क्यों नही करते थे इस एक ही ख्याल ने मेरा सारा बीयर का नशा उतार दिया और मुझे पता चल गया था की अब मेरे साथ क्या होने वाला है मे अन्दर से पूरी तरह से खाली हो चुकी थी तभी एक ने मुझे टेंट मे अंदर जाने के लिए कहा जब मे नंगी ही टेंट मे गयी वो भी पीछे पीछे टेंट मे आ गया और मुझे कहा चल अब रंडी की औलाद अब मे तेरी चुदाई करूँगा और देखता हूँ की तेरी चूत मे अभी कितना पानी बचा है मे उसका लंड मुँह मे ले कर चूसने लगी वो मेरी पूरी बॉडी मसलने लगा 20 मिनिट के बाद उसने कहा चल मादरचोद अब बन जा घोड़ी मे तेरी चूत मारना चाहता हूँ जेसे ही मे डॉगी स्टाइल मे हो गयी तो मेरी चूत उसके सामने हवा मे थी मेरी गांड भी उसके सामने थी उसने मेरी चूत को ठीक से देखा और बोला बहुत मस्त चूत है तेरी ऐसी ही चूत थी तेरी माँ की जब तू पैदा नही हुई थी साली लौडी जब से तू पैदा हुई है तब से तेरी माँ की चूत भोसड़ा बन गयी है आज बहुत मज़ा आयेगा.

फिर उसने अपना लंड चूत पर रखा और धीरे से झटका मारा लंड का टॉप मेरी चूत मे चला गया था फिर उसने मुझे कमर से पकड़ के धीरे धीरे चुदाई शुरू की थोड़ी देर मे उसका पूरा लंड मेरी चूत मे समा गया अब वो बहुत जोरो से मेरी चुदाई कर रहा था मेरी चूत भी फट गई थी मे भी बोल रही थी थोड़ा धीरे चोदो मेरे राजा ये मेरी चूत है मेरी माँ का भोसड़ा नही की घोड़े की तरह पेल रहे हो कितना बड़ा है तेरा साले अपनी बीवी को भी ऐसे ही चोदता है मादरचोद वो बोला बंद कर बहन की लोड़ी तेरी माँ की तो बात ही अलग थी आज तेरी भी सहन शक्ति देख लेंगे साली मेरी बीवी तो गर्म ही नही होती साली पड़ी रहती है बेड पर साइड मे वो मेरी बहुत ज़ोर से चुदाई कर रहा था करीब 30 मिनिट की चुदाई के बाद वो अकड़ने लगा.
फिर उसने अपना लंड मेरी चूत से निकाल के मेरे मुँह मे दे दिया जेसे ही मेने मुँह मे लिया उसने अपना सारा पानी मेरे मुँह मे छोड़ दिया मे उसका सारा पानी पी गयी मे अपने कपड़े लेने बाहर जाने लगी तभी एक आदमी ने कहा रंडी जल्दी से क्लब हाउस मे जा और 10 मिनिट मे तैयार हो कर वापस आ वरना बहुत खराब हालत कर दूँगा तेरी मे झट से कपड़े उठा के दोड़ी और 10 मिनिट मे तैयार हो कर वापस भी आ गयी मेरी सांस फूल गयी थी क्योंकी मेने कभी चुदाई के बाद रन्निंग नही की थी जेसे ही मे वहा गयी दूसरे ने मेरी ब्रा पेंटी निकाल के फिर से चुदाई चालू कर दी ऐसे ही मे करीब 15 बार चुदी। दोस्तों आगे की स्टोरी बाद में लिखूँगी ..

धन्यवाद …

5 comments

  1. Kise ko cudanaa hai to coll 08440092049

  2. Mast ha chudna ka lea sampark kare mo namber:-8859447184

  3. Mast kahani hai kiski ko chudana hai to call09873787019

  4. Hi friend ek no.ka h