Home / रिश्तों में चुदाई / माँ को लंड टेस्ट करवाने का सपना

माँ को लंड टेस्ट करवाने का सपना

प्रेषक : देव
हाय फ्रेंड्स. मेरा नाम देव है में गुजरात से हूँ यह मेरी पहली स्टोरी है. मुझे आशा है की आप को मेरी यह स्टोरी जरुर पसंद आयेगी और अगर कोई गलती हो जाये तो मुझे माफ़ करना और मुझे जरुर मेरी गलती बताना. 
क्योकि मेरी पहली माँ का निधन हो गया था तो 2 साल बाद मेरे पापा ने दूसरी शादी कर ली और हम वापस से तीन हो गये अब मैं स्टोरी पे आता हूँ मेरी माँ जो की बहुत सेक्सी है मैं उन्हे देख कर रोज मूठ मारता हूँ ये उन दिनो की बात है जब मेरी माँ,  मेरे पापा ओर मैं हमारे गावं आये हुये थे शादी अटेंड करने के लिये एक शादी हमारे गावं मैं थी और एक मेरे बुआ के यहाँ. तो मेरे पापा दूसरी शादी अटेंड करने चले गये तो अब गावं में मैं और मेरी माँ ही थी.
 
जैसे की मैने पहले बताया मेरी माँ सेक्सी, हॉट लेडी है उनका फिगर कोई 39-28-38 होगा मस्त बड़े-बड़े बूब्स है मैं उनको चोदना चाहता था और उनको अपना लंड टेस्ट करवाना चाहता था अब मैं स्टोरी पर आता हूँ जब पापा चले गये और अब शादी को 3 दिन बचे थे और मैं इस टाइम को छोड़ना नही चाहता था इस समय मेरे दिमाग़ मैं आइडिया चल रहे थे की कैसे मैं अपनी माँ  को चोदू फिर 1 दिन ऐसे ही सोचते-सोचते निकल गया. फिर मैं और माँ शाम को डिनर से पहले बात कर रहे थे तो.
माँ : मैं शादी वालों के यहा जा रही हूँ 10 बजे तक आउंगी.
मे : माँ मैं कहाँ सोऊंगा.
माँ : सो जाना कही भी, बेडरूम मैं सो जाना मैं गेस्ट रूम मैं सो जाउंगी.
मे : नहीं माँ मुझे अकेले नहीं सोना.
माँ : ठीक है जब मैं आ जाउं तब हम साथ सो जायेगे ओके.
में : मैने ओके कहकर मेरे दोस्त के घर चला गया ओर प्लान बनाने लगा की आज कैसे भी करके माँ को चोदना है.फिर जब माँ वापस घर आई मैं सोया नहीं था.
माँ : मैं बिस्तर कर देती हूँ.
मे : माँ आज हवा बहुत मस्त चल रही है क्यों ना हम बाहर सो जाये.
माँ : ओके माँ ने बाहर एक पलंग पर बिस्तर बिछा लिये और हमने एक रज़ाई ले ली और हम सोने लगे.
 
माँ ने मेरे से दूसरी करवट ले ली पहले तो मुझे गुस्सा आया पर मैं डर रहा था कुछ करने के लिये कई देर हो गई थी ऐसे सोते हुये फिर थोड़ी देर बाद माँ ने सीधी करवट ली ओर वो गहरी नींद मैं थी. मैने थोड़ी हिम्मत की और एक हाथ माँ के बूब्स के उपर रख दिया माँ गहरी नींद मैं थी मैने धीरे से माँ के बूब्स को टच किया और एक पैर उनकी जांघ पर रख दी और उस पैर को धीरे धीरे हिलाने लगा जिससे मेरे पैर उनकी जांघ को रगड़ रहा था फिर मैने धीरे धीरे माँ के पेट पर हाथ घुमाने लगा और दूसरा हाथ बूब्स पर था.
 
फिर अचानक माँ ने मेरी तरफ करवट ले ली और एक हाथ मेरे उपर रख दिया और जो पैर मैने उन पर रखा था उसी पर उन्होने उनका दूसरा पैर रख दिया जिससे मेरा पैर उनकी चूत को टच कर रहा था तो मुझे ऐसा लगा की माँ जागी हुई है पर माँ की तरफ से कोई हलचल नहीं थी तो मैंने बिना डरे अपने पैर पर हाथ रखा जो हाथ माँ की चूत को टच हो रहा था उस कारण मेरा हाथ भी उनकी चूत को टच हो रहा था तो उन्होने एकदम से उन पैरों को हिलाया जिससे मेरे हाथ पूरी तरह से उनकी चूत पर हो गया मैं डर गया था इसलिये मैने एकदम हाथ पीछे खीच लिया और माँ जाग गई और दुबारा से दूसरी करवट ले ली फिर मैने दुबारा हिम्मत की और उनको चिपक कर सो गया. उसकी वजह से मेरा लंड उनकी गांड को टच हो रहा था माँ को भी धीरे धीरे सेक्स चड़ने लगा माँ अचानक उठ गई और मुझसे कहा.
 
माँ : बेटा अंदर चलते हैं यहाँ मच्छर ज्यादा है.
मे : ओके.
फिर हम अन्दर चले गये अंदर जाते ही हम रज़ाई मैं सो गये फिर मैने दुबारा माँ के बूब्स को मसलना शुरू किया. माँ ने मेरे मुँह की तहफ़ अपना चेहरा रख दिया मैं उत्तेजित हो कर माँ के लिप्स पर किस करने लगा और अचानक माँ ने भी मेरा चेहरा पकड़ कर किस देने लगी. मैं किस करते करते माँ के उपर चला गया.
फिर मैने माँ की साड़ी उतार दी ओर हम पागलो की तरह किस कर रहे थे मेरे होठ माँ के होठ पर थे एक हाथ माँ के बूब्स पर एक हाथ माँ की चूत पर अभी तक मैने माँ की ब्लाउज और पेटीकोट नही खोला था फिर माँ ने मुझे नीचे लिया ओर मेरी शर्ट को खोल दिया और पेन्ट की चेन भी खोल दी और मेरे लंड को निकाल कर देखने लगी.
 
माँ : वाउ ये इतना बड़ा हो गया है
मे : माँ प्लीज टेस्ट करो यह बहुत टेस्टी है (मैने पहले भी कहा था की मैं अपनी माँ को लंड टेस्ट करना चाहता हूँ) फिर माँ ने मेरे लंड को कई बार उपर नीचे किया ओर उसे मुँह मैं ले लिया ओर उसे चूसती रही 7-8 मिनिट चूसने के बाद मे चूत पर गया माँ ने मेरा लंड चाट कर उसे साफ कर दिया था मैने माँ को लेटा दिया और उनकी ब्लाउज के उपर से ही दबा रहा था फिर माँ ने कहा उतार दो इसे.
मे : अरे जान क्या जल्दी है और मैंने उनका ब्लाउज उतार दिया और उनकी ब्रा को धीरे धीरे उतारने लगा माँ ने कहा उतार दे इसे जल्दी और फिर पेटिकोट उतार कर मुझे जल्दी से चोद दे मैंने जल्दी से उनकी पेंटी उतार दी और अपने दातो से और उनकी शेव चूत पर अपनी जीभ  रख कर चूसने लगा माँ ने मुझे 10 मिनिट बाद धक्का दे कर मुझ से कहने लगी.
माँ : प्लीज अब बहुत हो गया जल्दी चोद मुझे पर मैने ऐसा नहीं किया मै धीरे धीरे माँ को तडपाने लगा उनकी चूत पर उंगली से खेल रहा था.
माँ : गुस्से से चिल्ला कर बोली जल्दी से चोद दे वरना मुझे इसे किसी सब्जी से शांत करना पड़ेगा और तू हिलता रह जायेगा
में : ये सुन कर मैं शॉक था और मैने देर ना करके माँ की चूत पर अपना लंड रख दिया और माँ की आवाज़ आ रही थी डीईईईववववववववव ज़ोर सीईईईई आज्ज्जज्ज्ज मौका हाइईईईय्ईयईईई कर ले जो जी  चाहे………और फिर ऐसा चलता रहा जब भी हमें मोका मिलता हम करते थे ।
 
धन्यवाद ..