Home / हिंदी सेक्स स्टोरीज / लंड ने दिलाया प्रमोशन 2

लंड ने दिलाया प्रमोशन 2

प्रेषक : प्रेम
हाय दोस्तों में आप को इस भाग में अपनी कहानी का दूसरा भाग बताऊंगा तो हुआ यूँ की मैने कह दिया की जगाना पड़ेगा उन्हे अबउसने मेरे हाथ पर हाथ रखते हुये कहा की एक काम करो आज मेरे यहा ही रुक जाओ परिवार को क्यों तंग करनामैने भी ठीक हे कहा ओर अपने ऑफिस बेग से अपने खड़े लंड को छुपाते हुये बाइक को बरामदे मे पार्क करने लगा बेग को आगे लटका कर बाइक पार्क करने मे दिक्कत हो रही थी जो प्रिया ने नोटीस कर लिया ओर उसने कहा की बेग मुझे पकड़ा दो मैने मना किया लेकिन फिर भी उसने बेग मुझसे ले लिया ओर जैसे ही बेग हटाया तो लाइट की रोशनी मे मेरा तने हुये लंड का तंबू उसे दिख गया ओर उसने झट से पूछा प्रेम ये क्या है मैने हँसते हुये कहा वही है जो रोज छुपाता हूँ ओर आज तुम ने पकड़ ही लिया.ओर उसने हँसते हुये कहा लल्लू अभी पकड़ा कहा है अभी तक तो हाथ भी नही लगाया. ओर मेरे पास आ कर मेरे कान में धीरे से बोली प्रेम मेरे ज़रा से चिपकने से तुम्हारा ये हाल है तो बाकी से क्या हाल होगा.
मैने उसकी कमर मे हाथ डाल कर उसे अपने पास खींचते हुये बोला की ट्राइ कर के देख लो क्या हाल होगाओर उसके होठों को चुमने लगा वो भी मेरा साथ दे रही थी ओर ज़ोर ज़ोर से होठों को चूस रही थी मेरा लंड तो पहले से ही खड़ा था वो उसकी टांगो के बीच मे उसकी चूत के ऊपर रगड़ रहा था जिससे वो ओर टाइट हो गया. मैने उसको घुमाया ओर उसकी गांड को बाइक पर टीका कर उसे चुमने लगा ओर उसके एक बोबे को अपने हाथो से दबाने लगा वो गर्म होने लगी थी ओर मुझे ओर ज़ोर से किस करने लगी थी ओर अपनी जीभ मेरे मुँह मे घुसेड़ने लगी ओर अपना हाथ मेरे हाथ पर रखकर अपने बोबे दबवाने लगी मुझे बहुत मज़ा आ रहा था ओर वो भी अपनी गांड हिलाने लगी थी लेकिन तभी दूर से आती एक गाड़ी की लाइट पड़ी तो हम अलग हो गये ओर वो रूम का लॉक खोलने लगी ओर में बाइक पार्क करके अंदर आ गया.
उसका रूम काफ़ी अच्छा था उसने ज़मीन पर ही अच्छे से बिस्तर लगा रखा था जो काफ़ी नरम था.अंदर आते ही वो सीधा बाथरूम मे चली गयी ओर मुझे अंदर से आवाज़ लगा कर कहा में  फ्रेश हो कर आती हूँ तुम भी तब तक बैठ जाओमुझे कहा आराम आना था मेरा तो डंडा खड़ा था ओर झटके मार रहा था मैने भी जल्दी से अपने कपड़े उतारे ओर केवल चड्डी मे बाथरूम के  पास गया ओर प्रिया को आवाज़ लगाई ओर कहा की मुझे भी मन कर रहा है नहाने का आ जाऊ. ओर उसने कोई जवाब नही दिया बस दरवाजा खोल दिया मैं भी झट से अंदर घुस गया ओर देखा वो सफेद पेन्टी ओर ब्रा मे शावर के नीचे खड़ी थी गर्म पानी के छीटे उस पर से हो कर मुझ पर गिर रहे थे पानी उसके सर से होता हुआ उसकी ब्रा मे उसके बोबो के बीच की धारी मे जा रहा था ओर सफेद रोशनी मे भीगी हुई क्या लग रही थी यार बता नही सकता उसने मुझसे कहा की मेरे बाहर आने तक का वेट नही हो रहा था जो अभी नहाना था.
 मेंने झट से उसे अपनी बाहों मे भर कर बिना कुछ कहे उसकी गर्दन पर किस करने लगा ओर चूसने लगा पानी उसकी गर्दन से बहता हुआ मेरे मुँह मे जा रहा था जो नमकीन सा लग रहा था वो भी मेरे बालो मे उंगलियां डाल कर सहला रही थी. मैने उसके होठों को चुमना शुरू कर दिया ओर वो भी ज़ोर ज़ोर से मेरे होठ चुसने लगी मैने उसकी पीठ पर हाथ फेरते हुये उसकी ब्रा का हुक खोल दिया ओर उसने जल्दी से अपनी ब्रा अपने कंधो से अलग कर दी ओर मेरेसामने उसके नंगे बोबे थे क्या चीज़ थी वो यार बिल्कुल तने हुये हार्ड थे ओर उस पर भूरे  कलर के निप्पल कमाल लग रहे थे मैने झट उन्हे मसलना शुरू कर दिया ओर अब वो आँहे भरने लगी अहह सस्स्स्स्स्सस्स की आवाज़े निकालने लगी.
मैने उसके निपल को मुँह मे लेकर चुसना शुरू कर दिया ओर वो पागल हो गयी अपने बोबो को मेरे मुँह मे ओर ज़ोर से दबाने लगी ओरअपनी चूत को मेरे लंड पे रगड़ने लगी. क्या सीन था दोस्तो में तो बस उसके रसीले बोबे चुखते ही उनको खा ही जाना चाहता था.मैने अब उसे बाथरूम की दीवार के सहारे खड़ा किया ओर अब दोनो हाथो से उसके बोबो को नींबू की तरह निचोड़ रहा था ओर वो आवाजे कर रही थी सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स अहह की आवाजे निकाल रही थी फिर मैने एक हाथ उसकी गांड पर फेरना शुरू कर दिया ओर पेन्टी में हाथ डाल कर उसकी गांड दबाने लगा ओर उसे अपनी तरफ खींच कर अपने लंड से उसकी चूत रगड़ने लगा वो भी मेरा साथ दे रही थी ओर अपनी चूत लंड पर रगड़ रही थी. मैने उसे पेन्टी उतारने को कहा उसने एक हाथ से पेन्टी नीचे की ओर की फिर टांगो से बाहर निकाल दी क्या चूत थी उसकी यार एक दम डबल रोटी के जैसी फूली हुई ओर एक भी बाल नही था पूरी क्लीन शेव थी मैने अपना हाथ उसके ऊपर फेरना शुरू किया तो वो काँप उठी ओर मेरे होठों को काटने लगी.
मैने उसकी चूत के अंदर उंगली डाल कर हिलाना शुरू कर दिया वो बिल्कुल टाइट थी ओर बहुत गर्म थी वो भी अपनी गांड हिला हिला कर उंगली अंदर ले रही थी ओर आह्ह्ह आह्ह्ह की आवाज़े निकाल रही थी मेरा लंड तो अब खड़े खड़े दर्द करने लगा था ओर शायद उसे ये पता लग गया उसने मुझे घुमा दिया ओर दीवार के साइड कर दिया ओर झट से नीचे झुक कर मेरा अंडरवेयर उतार कर मेरे लंड को हाथो मे ले कर सहलाने लगी ओर एक बार मेरी ओर देख कर उसे मुँह मे ले लिया ओर चूसने लगी. ओह माई गॉड क्या फीलिंग थी यार उसका गर्म गर्म थूक मेरे लंड पर चिकना सा लग रहा था उसके मुँह मे लंड आधा ही जा रहा था लेकिन वो उसे पूरा गले तक लेने की कोशिश कर रही थी में बता नही सकता यार की वो कितने अच्छे से लंड चूसती थी इसके आगे क्या हुआ वो में आप को अगले भाग में बताऊंगा।
आगे की कहानी अगले भाग में . . . 

धन्यवाद …