Home / घर में चुदाई का खेल / जोशी की बीवी चोदी

जोशी की बीवी चोदी

प्रेषक : अमित …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अमित है और आज में आप लोगों को अपनी एक मेरे साथ हुई कहानी सुनाने जा रहा हूँ। दोस्तों में पूना में मेरे एक बहुत अच्छे दोस्त के साथ एक फ्लेट में किराए से रहता हूँ, हमारे सामने वाली मंजिल में एक कपल रहता है मिस्टर और मिस जोशी वो दोनों पिछले सात सालों से शादीशुदा है, लेकिन उन्हे अब तक कोई बच्चे का सुख नहीं मिल सका। दोस्तों मेरी और मिस्टर जोशी की बहुत अच्छी जान पहचान है इसलिए वो मुझे कभी कभी अपने घर पर चाय नाश्ते के लिए बुला लेते है। वैसे व्यहवार में मिस जोशी भी बहुत अच्छी है, वो हमेशा हमे बहुत सारे कामों में मदद किया करती है और वो दिखने में भी बहुत सुंदर है। उनके फिगर का साईज करीब 36-30-36 है।

दोस्तों में तो उन्हे हमेशा से ही बहुत चाहता था। मैंने जब पहली बार उन्हे देखा तो में तब से उन्हे मन ही मन चाहने लगा था। वो मुझे बहुत अच्छी लगी थी और फिर एक दिन मिस्टर जोशी अपने किसी जरुर काम के लिए दस दिन शहर से बाहर चले गये और ठीक उसी दिन मिस जोशी को अपने घर के किसी काम के लिए बाहर जाना था। तो उन्होंने मुझसे मदद के लिए पूछा तो मैंने झट से उन्हे हाँ कर दिया और फिर में उन्हे अपनी बाईक पर अपने साथ बैठकर ले गया और कुछ घंटो में काम खत्म होने के बाद मैंने उन्हे उनके घर पर छोड़ दिया और में वहां से जाने लगा, लेकिन तभी उन्होंने मुझे अपने घर के अंदर बुलाया। में उनके कहने पर अंदर चला गया। उन्होंने मुझसे कहा कि तुम थोड़ी देर बैठो में अभी अपने कपड़े बदलकर आती हूँ और फिर कपड़े बदलने दूसरे कमरे में चली गयी, लेकिन वो बहुत देर तक नहीं आई तो मैंने सोचा कि में जाकर देखता हूँ।

फिर जब मैंने बेडरूम के दरवाजे को धीरे से छुआ तो वो पहले से ही खुला हुआ था और मेरे हाथ लगाते ही आगे की तरफ सरकने लगा और जब मैंने अंदर की तरफ झांककर देखा तो में वो सब देखकर एकदम चकित रह गया। मैंने देखा कि मिस जोशी पूरी नंगी होकर बेड पर लेटी हुई थी और वो अपनी चूत को सहला रही थी। में यह सब कुछ देखकर बिल्कुल हैरान होकर वहीं पर मूर्ति बनकर खड़ा रहा। तभी मिस जोशी ने मेरी तरफ देखा और फिर बहुत प्यार से मुझसे कहा कि आओ ना अमित अंदर आ जाओ, तुम ऐसे बाहर क्यों खड़े हो? तो में बिना कुछ सोचे समझे अंदर चला गया और जाकर बेड पर बैठ गया, लेकिन अब में अपनी आखें उनके हॉट, सेक्सी बदन से हटा नहीं पा रहा था। तभी वो खुद उठकर मेरे पास आई और फिर मुझसे पूछा कि क्या तुमने इससे पहले कभी किसी औरत को नंगा नहीं देखा? तो मैंने धीरे से गर्दन को हिलाकर कहा कि नहीं और फिर वो तो मेरे मुहं से यह बात सुनकर ज़ोर से हंस पड़ी और उन्होंने एकदम से आगे बढकर मेरी पेंट के ऊपर से मेरे लंड को पकड़ लिया और तब तक मेरा लंड भी पूरा खड़ा हो गया था। वो मेरे लंड को छूकर महसूस करके मुझसे कहने लगी कि वाह तुम्हारा तो बहुत बड़ा है। फिर मैंने थोड़ी हिम्मत करके उनसे कहा कि में इस दिन का बहुत दिनों से इंतजार कर रहा हूँ, लेकिन मुझे बहुत डर लगता था और मुझे पता भी नहीं था कि आप भी मुझसे यह सब चाहती है। वो बोली कि फिर अब देर किस बात की? उसने मेरे सारे कपड़े एक एक करके उतार दिए और जल्दी से मुझे पूरा नंगा कर दिया। फिर वो मेरे लंड को हाथ में लेकर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी। में तो उनके यह सब काम देखकर बहुत हैरान था। मुझे नहीं पता था कि वो मेरे साथ अब यह सब करने वाली है। वो एक रांड की तरह मेरे साथ व्यहवार कर रही थी। में उनका पहली बार ऐसा रूप देखकर बहुत हैरान था, लेकिन वो अब कुछ भी मेरे साथ करें मुझे उससे क्या मतलब था? मुझे तो बस बिना कुछ कहे वो सब कुछ मिल रहा था जो में उनसे चाहता था। तभी उसने मेरा लंड मुहं में ले लिया और अब ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी में सिसकियाँ लेने लगा आहहह मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था और दस मिनट के बाद में उनके मुहं में झड़ गया। मैंने मेरा सारा गरम गरम पानी उन्हें पिला दिया। फिर में उन्हे किस करने लगा और वो भी अब मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी और में उनके बड़े बड़े बूब्स दबाने लगा तो वो बोली कि हाँ और ज़ोर से चूसो इन्हे उह्ह्हह्ह अहह्ह्ह्ह हाँ थोड़ा और ज़ोर से। में अब बच्चों की तरह उनके बूब्स को चूसने, दबाने लगा। वो ज़ोर से सिसकियाँ लेकर बोली कि हाँ उह्ह्हह्ह्ह्ह थोड़ा और उफ्फ्फ्फफ्फ्फ्फ़ ज़ोर से चूसो और उन्होंने मेरा सर उनके बूब्स पर दबा दिया और फिर ज़ोर से सिसकियाँ लेने लगी आह्ह्ह्हहहह हाँ अमित जानू हाँ ऐसे ही करो मुझे बहुत मज़ा आ रहा है और फिर कुछ देर बाद उन्होंने मुझे बिल्कुल नीचे आकर उनकी चूत चाटने को कहा तो मैंने नीचे सरककर उनकी चूत को देखा वो बिल्कुल साफ थी और थोड़ी उभरी हुई थी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब में उसकी कामुक चूत को चूसने लगा और में अपनी एक उंगली उनकी चूत में डालकर भी उसे चूसने लगा। तभी उन्होंने मेरा सर उनकी चूत पर दबा दिया और फिर कुछ ही सेकिंड बाद उन्होंने अपनी चूत का पानी मेरे मुहं पर छोड़ दिया। में वो सारा पानी पी गया और तब तक मेरा लंड एक बार फिर से खड़ा हो गया था। मैंने उनसे पूछा कि कंडोम कहाँ है? तो वो बोली कि नहीं, तुम आज मुझे बिना कंडोम के चोदो क्योंकि मेरे पति मुझे अपने बच्चे कभी भी नहीं दे सकते और आज के बाद वो सब बच्चे मुझे तुमसे चाहिए और इसलिए मेरे पति और मैंने यह सब प्लान किया था। में उनके मुहं से यह बात सुनकर एकदम चकित रह गया और उनसे पूछने लगा कि यह सब काम मिस्टर जोशी को पहले से ही पता है? तो वो बोली कि हाँ यह हमारा एक सोचा समझा प्लान था, जिसमे तुम्हे मेरे साथ यह सब करना था और अब आगे भी करना पड़ेगा। में उनके मुहं से पूरी बात सुनकर मन ही मन और भी खुश हो गया, क्योंकि मुझे अब किसी के पकड़े जाने की टेंशन नहीं थी।

फिर मैंने एक ही झटके में मेरा पूरा का पूरा 7 इंच का लंबा और 3 इंच मोटा लंड उनकी चूत में घुसा दिया जिसकी वजह से वो बहुत ज़ोर से चीख पड़ी अमित अहह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह तुमने तो मुझे आज मार ही डाला आहहहहह प्लीज थोड़ा धीरे करो हाँ उईईईईईई। में उन्हे अब बहुत धीरे धीरे धक्के देकर चोदने लगा और अब उन्हे बड़ा मज़ा आ रहा था वो भी अपनी गांड को उठा उठाकर मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी और फिर मैंने कुछ देर बाद अपनी स्पीड को बढ़ा दिया और अब में उन्हे ज़ोर ज़ोर से ताबड़तोड़ धक्कों के साथ चोदने लगा। तो वो बोली कि वाह मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है, हाँ जानू ऐसे ही चोदो मुझे, आज तुम मेरी प्यास को बुझा दो आहहहह्ह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह्ह्ह और इतना कहते कहते वो झड़ गई, लेकिन में अब तक चोदता रहा और वो इस चुदाई के बीच करीब दो बार झड़ गई थी। फिर 30 मिनट की उठा पटक के बाद में भी उनकी चूत में झड़ गया और पूरी तरह से थककर उनके ऊपर लेटा रहा। उसके अगले दस दिन तक हम दोनों ने दिन रात अलग अलग तरह से चुदाई की और अब तो मिस्टर जोशी के होते हुए भी हम उनके घर पर सेक्स का बहुत एंजाय करते है। मिस्टर जोशी भी कभी कभी हमारी चुदाई के मज़े लेते है। दोस्तों उनकी चुदाई में मुझे भी बड़ा मज़ा आता था। मैंने उनको बहुत दिनों तक चोदा और बहुत मज़े किए ।।

धन्यवाद