Home / कॉलेज सेक्स / चलती बस में चूत चाटने का चस्का

चलती बस में चूत चाटने का चस्का

प्रेषक : साहिल

हाय ऑल रीडर्स मेरा नाम साहिल है मैं लखनऊ से हूँ और बिज़नसमेन हूँ अभी तक कुँवारा हूँ और काम के सिलसिले मे लगभग हर शहर मे जाता रहता हूँ मेरी सेक्स की भूख बहुत ज़्यादा है और मैं काफ़ी सेक्सी हूँ सेक्स का सबसे अच्छा तरीका मुझे चूत चाटना पसंद है खैर अब मैं अपनी स्टोरी पर आता हूँ ये बात 2 महीने पहले की है मैं लखनऊ से आगरा काम के सिलसिले मे जा रहा था ट्रेन की टिकट कन्फर्म नही मिली इसलिये मैने सोचा की बस से चला जाता हूँ जब मैं बस स्टैंड पहुँचा तो आगरा की बस खड़ी थी मैं उसमे चड़ गया भीड़ ज़्यादा थी इस वजह से मुझे सीट नही मिली पर काम पर जाना ज़रूरी था इसलिये मैं बस मे खड़ा हो गया जिस सीट के पास मे खड़ा था उस सीट पर एक परिवार बैठा हुआ था मिया-बीवी और शायद उनकी मम्मी भी थी खैर बस वहा से चल दी.

थोड़ी देर बाद मैने ध्यान दिया की उस आदमी की बीवी जो की बुरखे मे थी मुझे बार बार देख रही थी वो विंडो सीट पर बैठी हुई थी और उसका शौहर जिस तरफ मैं खड़ा था उस तरफ बैठा था और उनकी मम्मी बीच मे थी खैर जब मैने देखा की वो मुझे देख रही है तो मैने भी उसे देखना शुरू कर दिया और उसको इशारा किया की एक बार वो बुरखा हटा कर अपना चेहरा दिखाये तो उसने पानी पीने के बहाने अपना नकाब हटाया कसम से यार क्या चेहरा था लिप्स तो ऐसे थे की मेरा लंड खड़ा हो गया मन तो कर रहा था की अभी उसके पास जाकर और उसके लिप्स का सारा रस पी जाऊं पर ये नही हो सकता था.

फिर मैने उसे हवा मे किस का इशारा किया तो उसने अपने नीचे के होठ को काटा मैं समझ गया की ये भाभी काफ़ी गर्म है खैर ऐसे ही देखने देखने मे और एक घंटा निकल गया वो बार बार मेरे लंड की तरफ देख रही थी तो मैंने अपने हाथ से अपने लंड को मसल दिया जिसकी वजह से उसको मेरे लंड का साइज़ दिख गया वो तो पागल सी हो गयी और हम दोनो मौका देखने लगे की कैसे इस रात को रंगीन बनाया जाये और शायद मेरी किस्मत अच्छी थी 2-3 मिनिट के बाद उसके पति को उल्टी होने लगी और वो अपनी बीवी से बोला की उसको विंडो सीट पर आने दे ताकि वो उल्टी कर सके उसकी बीवी तो इसी इंतज़ार मे थी !

वो फ़ौरन उठी और मेरी साइड पर आकर बैठ गयी जिस तरफ मैं खड़ा था अब तो हम इंतज़ार मे थे की कब उसका शौहर सो जाये खैर ऐसे ही करते करते एक घंटा गुज़र गया और लगभग बस के सभी लोग सो गये थे बस मैं और उसकी बीवी जिसका नाम मैं नही लूँगा जाग रही थी मैने धीरे धीरे अपने लंड को उसके कंधे से टच करना चालू कर दिया जिससे मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया तो फिर मैने उसको इशारा किया की मेरा लंड चूसो जिसके लिये वो मान गयी और अपना नकाब मेरे लंड के पास ले आई मैने भी फ़ौरन अपने लंड को बाहर निकाला और उसके नकाब के अंदर डाल दिया जैसे ही उसके नाज़ुक होंठ मेरे लंड से लगे मैं तो पागल ही हो गया और वो भी पागलों की तरह मेरे लंड को मुँह मे लेकर चूसने लगी उउउंम पूच्छ अह्ह्ह और सिसकारी भी ले रही थी.

फिर मैने एक हाथ उसकी चूची पर रखा इतनी मस्त टाइट चूची मैने आज तक नही पकड़ी थी और चूचीयो को मसलने लगा और वो मचलने लगी अब मुझसे रहा नही जा रहा था जैसा की मैने आप लोगो को बताया की मुझे चूत चाटना बहुत पसंद है तो मैने खड़े खड़े थकने का बहाना किया और उसके पैरों के पास बैठ गया उसने बुरखे के नीचे पेटीकोट पहना था मैने धीरे धीरे उसकी टाँगों को फैला दिया और एक हाथ से उसके पैरों को सहलाते सहलाते उसकी चूत पर ले गया दोस्तों क्या बताऊं उसने चड्डी भी नही पहनी थी और उसकी चूत आग की भट्टी की तरह तप रही थी मैं तो उसको टच करते ही पागल हो गया और उसको इशारा किया की मैं उसकी चूत चाटना चाहता हूँ उसने अपना होठ काटा तो मैं समझ गया की ये भी तैयार है तो मैने चारो तरफ देखा सब सो रहे थे.

मैने धीरे से उसके बुरखे के अंदर अपना चेहरा घुसाया और उसकी चूत पर अपने लिप्स रख दिये मैं तो पागल ही हो गया शायद वो भी पागल सी हो गयी उसने अपने हाथ से मेरे फेस को उसकी चूत मे दबा दिया और मेरे कान के पास आकर बोली आआहह मेरी जान आज इस चूत की सारी आग बुझा दो मैं तुम्हारी एहसान मंद रहूंगी मेरी चूत निगोडी मुझे कितने सालों से तडपा रही है आज तक तुम्हारे जैसा कोई मिला ही नही जो इसकी प्यास बुझा सके और इसको मार मार कर इसका कचूमर निकाल सके मेरे राजा आज इसको मत छोड़ना कोई रहम मत करना आज के लिये ये तुम्हारी गुलाम है इसको इतना मारो की ये शांत हो जाये उसके मुँह से ये बात सुनते ही मैं भी पागल हो गया और उसको बोला हाँ मेरी रानी आज मैं तुम्हारी चूत को इतना चूसूंगा की इसकी सारी खुजली मिटा दूँगा.

वो बोली अह्ह्ह्ह मेरे राजा अब नही सहा जाता चूसो आआअहह ह्म्‍म्म्मम और मैं उसकी चूत को पागलों के जैसे चूसने लगा और वो तड़प रही थी आअहह और जोर से एम्म्म आहह हाअ…न या मम्मी अयाया ऊऊफ्फ… हाआआ और ज़ोर से खा जाओ आहह ह्म्‍म्म्म और मैं एक घंटे तक उसकी चूत चाट रहा था जब तक उसकी चूत ने पानी नही छोड़ दिया जब वो पूरी तरह शांत हो गयी तब मैने अपना चेहरा उसके बुरखे से बाहर निकाला उसने अपना नकाब हटा दिया था वो मेरे पास आकर बोली मेरे राजा आज जो सुख तुमने मुझे दिया है मैं इसके लिये कई सालों से तड़प रही थी.

अब मैं तुम्हारी हुई तुम जब चाहो मुझे चोद सकते हो अभी तो मेरी आधी प्यास बुझी है पूरी प्यास कब बुझाओगे तो मैं बोला जान अभी तो मुमकिन नही है पर मैने उसको अपना नम्बर दिया और कहा वो जब मुझे बुलाना चाहे मैं आकर उसकी प्यास बुझा दूँगा और उसकी चूत और गांड को ढीला कर दूँगा इतना चोदूंगा तो वो खुश हो गयी और मेरा नम्बर लेकर मुझे एक लिप पर लिप किस किया और नकाब पहन कर सही से अपनी सीट पर बैठ गयी मैने भी अपने कपड़े सही किये और वापस अपनी जगह पर खड़ा हो गया एक घंटे बाद हम आगरा पहुँच गये और वो अपनी जगह और मैं अपनी जगह चला गया काम ख़त्म होने के बाद मैं वापस लखनऊ आ गया और ठीक एक हफ्ते बाद उसका कॉल आया की वो भी वापस लखनऊ अपने घर आ गयी है और मुझसे मिलना चाहती है तो मैने उसे अमीना बाग मे मिलने को बुलाया वहा वो अपनी ननद के साथ आई थी क्या माल थी उसकी ननद भी कयामत थी.

फिर मैने कैसे उसकी ननद और उसको चोदा मैं अपनी अगली स्टोरी मैं लिखूंगा आप लोगो को मेरी ज़िंदेगी की ये सच्चाई कैसी लगी ज़रूर बताना मैं इंतज़ार करूँगा अगले हफ्ते मैं उनके घर गया और मैने उसकी चूत का भोसड़ा कैसे बनाया और बाद मैं उसकी गांड को कैसे चोद चोद कर ढीला किया वो पागलों की तरह चीख रही थी हाय जान और ज़ोर से चोदो ना जान आज छोड़ना मत इसको और ज़ोर से करो ना आआहह अम्म्म्मिईीईईई ह्म ऊओफफफ्फ़ और कैसे उसकी ननद की नरम और टाइट चूत चोदी वो भी लिखूंगा, अभी में बस इतनी ही स्टोरी लिख पाया हूँ, अब तक के लिये मुझे इजाज़त दीजिए आपका साहिल …..

धन्यवाद ..

15 comments

  1. Chut chat lo koi meri…..faad do chat chat ke,

  2. Sonal apna no do meta whtsaap 8353907718 h

  3. Apna.nambar.do

  4. madarchod duniya ko tum log bewakuf samjhte ho. real story aur fek story me bahut antar hota he. are sidhe likho k aap k manoranjan k like ye. bhosadi k an mat likhna real.