Home / आंटी की चुदाई / भांजे के साथ सेक्स किया – Bhanje ke sath sex kia

भांजे के साथ सेक्स किया – Bhanje ke sath sex kia

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम समीना है और मेरी उम्र 36 साल है। में इस साईट की बहुत बड़ी फैन हूँ। में कॉलेज के टाईम से ही बहुत हॉट और खूबसुरत रही हूँ और में कॉलेज टाईम में मिस यूनिवर्सिटी और बहुत सारे दूसरे ब्यूटी प्रतियोगिता जीत चुकी हूँ। मेरी हाईट 5 फुट 9 इंच है और मेरी टाँगें बहुत लंबी हैं और मेरी शादी 21 साल की उम्र में ही हो गई थी, लेकिन 6 महीने बाद ही मेरा तलाक हो गया और तब से लेकर अब तक मैंने कभी शादी नहीं की। में अभी तक अपनी सेक्स की प्यास बुझाने के लिए अलग-अलग आदमियों का सहारा लेती आई हूँ, मगर मुश्किल से और बहुत कम की मदद ली है। मेरी बॉडी फिगर 38-26-37 है और मेरी पूरी बॉडी क्लीन शेव और एकदम चिकनी है।

में बहुत मॉडर्न औरत हूँ और मुझे सिर्फ शॉर्ट्स में रहना ही पसंद है। ये बात पिछले साल की है, जब मेरी बड़ी बहिन के बेटे का एड्मिशन मेरी सिटी के मेडिकल कॉलेज में हुआ, क्योंकि में अपने घर में अकेली रहती हूँ, इसलिए मेरा भांजा मेरे यहाँ ही रुकने आ रहा था। मेरे भांजे की उम्र 19 साल है और में उससे आखरी बार 4 साल पहले मिली थी, तब वो बहुत छोटा था। फिर रविवार के दिन मेरे घर की घंटी बजी तो में गेट खोलने गयी। फिर मैंने देखा कि मेरा भांजा जिसका नाम शाहज़ैब है, वो खड़ा हुआ था। उसने एक टी-शर्ट और जीन्स पहन रखी थी तो मे उसे देखकर दंग ही रह गई, वो एकदम पूरा का पूरा बदल चुका था। उसकी हाईट और बॉडी दोनों ही बहुत बड़ी हो गयी थी। उसकी हाईट 6 फुट से भी ज़्यादा थी।

फिर मैंने उसको अंदर बुलाया और उसका रूम उसको दिखाया और कहा कि चेंज कर लो और फ्रेश हो जाओ और में तब तक खाना लगाती हूँ, वो फ्रेश होने चला गया। फिर हम लोगों के 2 दिन तो नॉर्मल तरीके से बहुत अच्छे से निकल गये और तीसरे दिन जब में बाथरूम में नहा रही थी, क्योंकि में घर में अकेली ही रहती हूँ तो में बाथरूम की कुण्डी नहीं लगाती और सिर्फ़ दरवाज़े को फेर देती हूँ। उस दिन भी दरवाज़ा बंद नहीं था और फिर एकदम से मेरा भांजा जो कि सिर्फ़ अपने शॉर्ट्स में था और गलती से बाथरूम में आ गया। में पूरी नंगी गीले बदन के साथ वहाँ खड़ी हुई थी और वो भी सिर्फ़ शॉर्ट्स में था, में एकदम से डर गयी और वो भी डर गया, लेकिन उसने मुझे ऊपर से लेकर नीचे तक देखा और फिर वो जल्दी से बाहर चला गया। फिर में नहाकर बाहर आई तो वो मुझसे नज़रे चुरा रहा था और में भी उससे नज़रे नहीं मिला रही थी। फिर उस रात को में उसके कमरे के बाहर से जा रही थी तो मुझे कुछ आवाज़ आई। फिर मैंने उसके कमरे में देखा तो वो मुठ मार रहा था और उसके हाथ में मेरी पेंटी थी।

में तो ये देखकर एकदम पागल ही हो गयी कि उसकी पूरी बॉडी शानदार थी और उसका लंड भी बहुत बड़ा था। मुझे उसके साथ तुरंत सेक्स करने की चाहत होने लगी, लेकिन में अपने कमरे में जाकर सो गयी और अपनी उंगली डालकर ही काम चलाया। फिर अगले दिन जब वो नाश्ता करने आया तो में बहुत टाईट और छोटे वाले शॉर्ट्स पहने हुई थी और ऊपर से एक बड़े गले वाली टी-शर्ट बिना ब्रा के जिसमे से मेरे बूब्स एकदम सॉफ दिख रहे थे। वो तिरछी नज़र से मुझे देख रहा था और में भी उसको बार-बार टच कर रही थी और अपने बूब्स की झलक दिखा रही थी। फिर में उसको नाश्ते देने के बहाने उसके सामने झुककर खड़ी हो गयी और अपने बूब्स को एकदम उसके मुँह से लगा दिया। उसके बाद वो कॉलेज चला गया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

उस दिन रात में जब वो अपने कमरे में गया तो उसके कमरे का ए.सी. खराब हो गया था और उसने मुझे बताया। फिर मैंने उससे कहा कि आज रात मेरे रूम में ही सो जाओ, कल सुबह ए.सी. ठीक करवा दूँगी। फिर वो मेरे कमरे में सोने आ गया, उसने सिर्फ़ अपना पजामा (शॉर्ट्स) पहन रखा था और ऊपर कुछ भी नहीं था, वो बहुत हॉट दिख रहा था। फिर मैंने भी जल्दी से कपड़े चेंज कर लिए थे और मैंने सिर्फ़ एक छोटी सी निकर और ऊपर से स्लीव टी-शर्ट पहन ली थी और फिर में लेट गयी। वो भी मेरे बराबर में आकर लेट गया और हम दोनों सो गये और मैंने उसकी तरफ करवट ले रखी थी, मतलब मेरी पीठ उसकी साईड थी और वो मेरी पीठ की तरफ मुँह करके लेटा था। फिर रात को मुझे अपनी पीठ पर उसका हाथ महसूस हुआ, लेकिन में चुपचाप लेटी रही और कुछ रिएक्ट नहीं किया। फिर थोड़ी देर बाद उसका हाथ मेरी टी-शर्ट के अंदर जाने लगा और उसने अपना पैर मेरी गांड पर रख दिया और में अभी भी चुपचाप लेटी थी। फिर थोड़ी देर में उसका हाथ मेरे बूब्स तक आ गया और अब वो उनके साथ खेल रहा था। मैंने अब सिसकारियाँ भरनी शुरू कर दी थी और वो भी समझ गया था कि मुझे मज़ा आ रहा है।

फिर मैंने अब उसकी तरफ मुँह कर लिया और उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी। अब वो पागलों की तरह मेरे बूब्स को चूसने लगा और में मज़े ले रही थी, उसके बाद हम दोनों ने एक दूसरे को किस करना शुरू कर दिया और हम एक दूसरे को बहुत टाईट से पकड़े हुए थे और लगभग आधे घंटे तक हम किस करते रहे। अब उसने अपना बड़ा सा लंड मुझे दिया और चूसने को कहा। मैंने कभी भी इतना बड़ा लंड नहीं देखा था तो में थोड़ा घबरा रही थी। उसका लंड 9 इंच लंबा और 4 इंच मोटा था। फिर मैंने उसके लंड को चूसना शुरू किया और जब तक उसका पानी नहीं निकल गया, तब तक चूसती रही। उसके बाद उसने मेरी दोनों टाँगें खोल दी और अपनी ज़बान डालकर मेरी चूत को चाटने लगा, श्श्शश्श्श में बता नहीं सकती, कितने दिनों के बाद मुझे इतना शानदार एहसास हो रहा था, वो मेरी चूत को चाटता रहा और फिर में थोड़ी देर बाद झड़ गयी।

फिर इस बार उसने मेरे दोनों बूब्स को एक साथ पकड़ा और उनके बीच में अपना बड़ा लंड डालकर रगड़ने लगा। मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा था, मगर मेरी उसके लंड से चुदने की प्यास अब बहुत बड़ गयी थी। अब उसने मुझे पकड़ा और मेरी चूत के छेद पर अपना लंड रख दिया और उसको धीरे-धीरे सहलाने लगा, मेरी तो मानो जान ही निकल गयी। फिर मैंने उससे बोला कि शाहज़ैब मुझे अब और मत तड़पाओं और मुझे चोद डालो। आज से में तुम्हारी हुई और मेरे साथ जो चाहो वो करो। फिर इतना सुनते ही उसके हौसले बुलंद हो गये और उसने मुझसे कहा कि समीना मौसी आप फ़िक्र ना करे, आपकी सालो की प्यास को अब में बुझाऊंगा, आपका भांजा अब आपकी चूत को शांत करेगा और आपको खुश रखेगा। फिर उसने धक्के से अपना लंड एक बार में ही चूत के अंदर डाल दिया, मेरी तो जैसे चीख ही निकल गयी। मैंने इतना बड़ा लंड कभी अंदर नहीं लिया था। अब में बिस्तर पर लेट गयी थी और वो मेरे ऊपर था और बहुत तेज़ मेरी चूत में लंड अंदर बाहर कर रहा था, मेरे मुँह से आआअहह ऊऊहह आअहह आअहह हाअआआआ ऊओह की आवाज़ें निकल रही थी।

फिर थोड़ी देर के बाद उसने कहा कि उसका पानी निकलने वाला है। फिर मैंने कहा कि इसे अंदर ही छोड़ दो। अब हम लोग थोड़ी देर तक लेटे रहे और एक दूसरे के बदन को सहलाते रहे। फिर उसने मुझे खड़ा होने को कहा और वो खुद भी खड़ा होकर उठ गया। फिर उसने मुझे अब गोद में उठा लिया और अपने हाथों से मुझे ऊपर हवा में उठा लिया। फिर उसने मुझसे कहा कि अब वो मेरी गांड मारना चाहता है तो मैंने कहा ठीक है जान, आज जो करना है वो करो। फिर उसने मुझे ऊपर उठाये हुए ही मेरी गांड में अपना लंड घुसा दिया और में इतनी ज़ोर से चीखी कि मेरी आवाज़ बाहर पड़ोसियो तक पहुँच गई होगी। फिर उसने मुझे हवा में ही उठाये रखा और गोद में उठाकर ही मुझको चोदने लगा। में बहुत ज़ोर ज़ोर से सिसकारियां भर रही थी और चीख रही थी।

ये मेरी ज़िंदगी में पहली बार था, जब किसी ने मेरी गांड में लंड डाला हो और लगभग आधे घंटे तक चोदने के बाद हम दोनों साथ में ही झड़ गये और फिर उसने मुझे नीचे उतार दिया। अब हम दोनों फिर से लेट गये। फिर उसने मुझसे कहा कि समीना मैंने तुम जैसी लड़की आज तक नहीं देखी तो उसने मुझे बताया कि उसने बहुत सारी लड़कियों को चोदा है, लेकिन मेरी जैसी कोई नहीं थी। ऐसे उसने मुझे उस रात 5 बार चोदा और ये मेरी जिंदगी की सबसे शानदार रात थी। फिर हम दोनों बार-बार एक दूसरे को किस करते और फिर चुदाई करते और पूरी रात में चिल्लाती रही और सिसकारियां भरती रही और उसके बाद से आज तक हमें पूरा एक साल हो गया है और हम दोनों अब बहुत सेक्स करते हैं, लगभग हर रोज़ और बिल्कुल मिया-बीवी की तरह रहते है, वो तो मुझको कपड़े भी नहीं पहनने देता है और अब हम खूब मजे करते है ।।

धन्यवाद …

One comment

  1. apke likhne ke tarike se aisa nahi lagta ki aisa hua hoga but kahani ek dum zakkasssss hai matlab sandar hai