Home / हिंदी सेक्स स्टोरीज / 500 रुपये में दिल्ली की सर्दी

500 रुपये में दिल्ली की सर्दी

प्रेषक : अश्मी
हाय फ्रेंड्स, और सभी आंटी, और अंकल आप सभी को मेरा नमस्कार मेरा नाम अश्मी है (बदला हुआ नाम) मेरी उम्र 19 साल है. ये मेरी फर्स्ट स्टोरी है इस स्टोरी में कुछ बाते रियल नही है कोई गलती हो तो माफ़ करना.
मुझे क्रॉसड्रेसिंग पसंद है जब में छोटा था यानी की 8 साल का जब मेरे पड़ोस के अंकल ने मुझे छेड़ना स्टार्ट किया वो मेरे साथ उल्टी सीधी हरकते करते मुझे किस करते  जब मुझे कुछ पता भी नही था इन सब के बारे मे फिर वो मुझसे अपना लंड चुसवाते  जब मुझे ये सब पसंद भी नही था जब में 10 साल का हुआ तो उन्होने मुझे फक किया जब से लेकर आज तक वो मुझे फक करते है अब मुझे ये सब पसंद भी है वो मुझे हमेशा अलग अलग फीमेल ड्रेस देते है पहनने को.
ये स्टोरी अभी कुछ दिनो पहले की है में दिल्ली मे एक शादी की पार्टी मे केनोथ पेलेस आया हुआ थामें गुडगाँव मे रहता हूँ  पार्टी से आने मे मुझे देर हो गयी रात के 1 बज गये थे कोई बस भी नही मिल रही थी ना ही ऑटो काफ़ी देर बाद एक ऑटो मिला उसने कहा वो गुडगाँव  तक तो जा नही सकता लेकिन उसने कहा की वो मुझे शिवाजी स्टेडियम तक ले जायेगा वहा से मुझे बस मिल जायेगी मैने कहा ठीक है उसने मुझे वहा उतार दिया अब रात के 2 बज चुके थे ठंड भी बहुत थी मैं वहा बस का इन्तजार करने लगा. वहा पास मे होटल थी होटल मे कपल आ  रहे थे जा रहे थे  तो मैं वही खड़ा था वहा दो तीन लोग ओर थे थोड़ी देर बाद एक कपल आया   वो भी चले गये  अब में अकेला था स्टैंड पर ठंड बड़ती ही जा रही थी में कही ओर भी नही जा सकता था कुछ देर बाद वहा एक अंकल आया वो होटल की तरफ ही जा रहा था उसने मुझे देख कर एक अजीब सा इशारा किया. (चलता है क्या) में कुछ नही बोला.
 
अंकल- चलेगा क्या
मे- कहा
अंकल होटल मे
मे- पर मुझे गुडगाँव अपने घर जाना है.
अंकल इस टाइम यहा से कोई साधन नही मिलेगा सुबह तक
मे पर मेरे पास होटल के पैसे नही है
अंकल पैसे में दे दूंगा
मैने थोड़ी देर सोचा ठंड भी बहुत हो रही थी ओर मैने सोचा की अंकल कुछ करेंगे भी तो क्या मुझे तो पसंद ही है (ये बिल्कुल रियल बात है में स्टैंड पर खड़ा था तब उन्होने मुझे बुलाया था)
मे ठीक है
अंकल – चलो फिर मुझे होटल मे ले गये वहा सिर्फ़ कपल ही कपल थे, जो आ जा रहे थे अंकल मुझे रूम मे ले गये में रूम में गया.
मे – अंकल धन्यवाद
अंकल-  क्या
मे मुझे यहा लाने के लिये  में आपको इस रूम के पैसे भेज दूँगा
अंकल कोई बात नहीं डियर मैने तुम्हारी हेल्प की तुम मेरी हेल्प कर देना.
मे- ओके अंकल
फिर अंकल ने खाना मँगवाया हम दोनो ने साथ मे खाया और फिर हमने बाते की
अंकल – तुम बहुत सुन्दर हो.
मे धन्यवाद अंकल.
अंकल – क्या तुम मेरी एक इच्छा पूरी कर सकते हो
मे हाँ अंकल बोलो
अंकल –ने मुझे अपनी बेग मे से कुछ कपड़े दिये ओर कहा मेरे लिये तुम यह पहनो
में -मैने कहा अंकल यह तो लेडीस कपड़े है अंकल
अंकल – प्लीज मैने भी तो तुम्हारी हेल्प की है
में –मुझे भी मन ही मन मे अच्छा लग लगा रहा था लेकिन में मना कर रहा था
मे फिर मैने कहा ठीक है आपने मेरी मदद की है ना इसलिये.
अंकल लो बाथरूम मे चेंज करके आओ
 
में -में बाथरूम मे गया मुझे बहुत ही अच्छा फील हो रहा था ओर थोड़ा डर भी लग रहा था, उन कपड़ो मे 1 ब्रा, 1 पेंटी, और 1 वन पीस ड्रेस था, बहुत सेक्सी था मुझे तो ये सब पहनने की आदत थी ही पहले से में नहा के ब्रा पहनी, ब्रा मेरे फिट आती है क्योंकि मेरे हल्के हल्के छोटे छोटे बूब है फिर पेंटी और ड्रेस पहन कर बाहर आया अंकल मुझे देख रहे थे  मुझे बहुत ही अजीब सा ओर मज़ा आ रहा थाअंकल मेरे पास आये.
अंकल तुम बहुत ही प्यारे लग रहे हो मेरी जान, अंकल ने मुझे यहा वहा टच किया फिर मुझे गाल पर किस किया.
 
मे अंकल प्लीज़ ये मत करो मुझे अजीब लग रहा है.
अंकल बेबी वेट करो अभी ओर भी अजीब लगेगा अंकल मेरे बूब्स दबाने लगे.
अंकल- तुम्हारे बूब्स तो बिल्कुल लड़कियो के जैसे है.
मे—- ह्म्‍म्म्मम अहहा प्लीज मत करो.
अंकल ओर तेज तेज दबाने लग गये ओर मुझे मज़ा आने लग गया अंकल मेरे पीछे थे और मेरे बूब्स बहुत तेज दबा रहे थे मुझे थोड़ा दर्द भी हो रहा था और मज़ा भी आ रहा था अंकल मुझे बेड पर ले गयेमुझे किस करने लग गये में भी अब मना नहीं कर रहा था 5 मिनिट के बाद अंकल हटे ओर अपने कपड़े उतारने लग गये ओर में अपने लेडिस कपड़ो मे ही था अंकल ने अपना अंडरवेयर भी उतारा औरअपना लंड मेरे हाथ मे दिया.
अंकल- बेबी चूसो इसे
 
में -मेरा भी मन हो रहा था चूसने का, फिर भी मैने मना किया फिर अंकल ने मेरा फेस पकड़ के खुद ही मेरे मुँह मे डाल दिया ओर चूसने को कहा फिर में भी चूसने लगा मज़े से, में लंड एकदम लोलीपोप की तरह चूस रहा था अंकल को बहुत मज़ा आ रहा था अंकल आहा आहा आहहा बेबी. आवाज़ निकाल रहे थे में भी चूसता रहा फिर में बिल्कुल फॉर्म मे था अंकल लेट  गये, ओर में उनका लंड चूसता रहाऔर 10 मिनिट के बाद में हटा
मे- अंकल में ये कपड़े उतार दूँ
 
अंकल नही ओर मुझे बेड पर पटक कर मेरे उपर आ गये ओर मेरा वन पीस टॉप उपर करके मेरी गांड को दबाने लगे अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ने लगे में नीचे था अंकल मेरे बूब्स दबाते रहे ओर गांड को सहलाते रहे मुझे मज़ा आ रहा था अंकल ने मुझे फिर डॉगी स्टाइल मे किया और अपना लंड मेरे मुँह में डाल कर पूरा गीला करवा कर मेरी गांड मे डालने लग गये
मे -अंकल प्लीज़ धीरे से करना
अंकल- हाँ बेबी आराम से करूँगा
मेह्म्‍म्म्मम
 
अंकल -अंकल ने ज़ोर लगाया ओर धीरे से पूरा का पूरा लंड अंदर डाला ओर तेज तेज धक्के मारने लग गये में आहाहहाअ की आवाज़े निकाल रहा था में भी आगे पीछे हो कर मज़े ले रहा था अंकल ने मुझे10 मिनिट डॉगी स्टाइल मे मेरी गांड मारी.
 
फिर मुझे सीधा करके मेरी टाँगे उपर करके मेरे अन्दर अपना लंड डाला उस टाइम में आँखे बंद करके बिल्कुल ही अलग दुनिया मे था ओर मज़े ले रहा था अंकल तेज तेज धक्के मार रहे थे ओर अहाआआहहाहा की आवाज़े निकाल रहे थे हर धक्का मुझे अंदर महसूस हो रहा था ओर अलग ही फीलिंग आ रही थी उनका लंड मुझे अन्दर महसूस हो रहा था अंकल ने मुझे 15 मिनिट तक मेरी गांड मारी ओर फिर बाद मे आआआआआआआआआआाआआ करके मेरे अंदर ही डिसचार्ज हो गये ओर मुझे गले लगाते हुये मेरे उपर ही लेट गये. मैने उन्हे जोर से गले लगा लिया ओर वही सो गये.
 
सुबह उठे तो अंकल ने मुझे धन्यवाद कहा हमने अपने मोबाइल नंबर एक्सचेंज किये और मुझे 500 रुपये भी दिये. 
धन्यवाद..