Home / घर में चुदाई का खेल / मै बनी तीन लंडो की रंडी ससुराल में

मै बनी तीन लंडो की रंडी ससुराल में

हैल्लो फ्रेंड्स.. मेरा नाम रेणु है और मेरी उम्र 24 साल है। में बहुत गोरी और सेक्सी फिगर की लड़की हूँ। मेरे बूब्स ज्यादा बड़े तो नहीं.. लेकिन में बहुत ज्यादा सेक्सी हूँ। मेरा फिगर 32-34-38 है। मेरी गांड को देखकर कई लोगों के लंड पानी छोड़ देते है और में राजस्थान के एक छोटे से शहर भीलवाड़ा की रहने वाली हूँ। दोस्तों आज में जिस कहानी को आप सभी के सामने लेकर आई हूँ.. यह कहानी नहीं.. मेरे साथ हुई एक सच्ची घटना है। जिसने मेरी पूरी जिन्दगी ही बदल कर रख दी। दोस्तों यह मेरी पहली कहानी है और अगर मुझसे इसमें कोई भी गलती हो तो प्लीज मुझे माफ़ करें। दोस्तों मेरे पिता बहुत ही ग़रीब है और मैंने अपनी पढ़ाई बहुत ही गरीबी की हालत में पूरी की है। में पढ़ाई और घर के सभी कामों में बहुत अच्छी हूँ। लेकिन वक्त से पहले ही दिखने वाले मेरे सेक्सी बदन की वजह से मेरे पापा ने एक साल पहले मेरी शादी पास ही के गावं के एक ज़मींदार के 30 साल के बेटे से करवा दी। अभी तो मैंने अच्छे से अपनी जिन्दगी के वो दिन भी नहीं देखे थे जिसमे मुझे कोई अपनी निगाह से घूरकर देखे।

मेरे सेक्सी बदन को देखकर शादी में ज़मींदार ने मेरे पिताजी से दहेज में कुछ भी नहीं लिया। बस यह कहा कि शादी के बाद लड़की कभी अपने बाप के घर नहीं जाएगी और फिर मेरी शादी एक आम शादी की तरह हुई.. लेकिन मुझे उनकी नजरें ठीक नहीं लगती थी। मेरे ससुराल में मेरी सास, ससुर मेरा पति और मेरा देवर रहते है। मेरे ससुर ठाकुर ज़मींदार 45 साल के है और मेरी सास 40 साल की और देवर की उम्र 25 साल है। वो मेरी शादी के बाद का घर में पहला दिन था और सभी मेहमानों के जाने के बाद में थोड़ा आराम करने लेट गई। तभी अचानक से मेरी सास कमरे में आई और बोली कि रंडी साली कुतिया तू अभी तक सोई पड़ी है.. चल उठ साली हरामजादी। तो में जल्दी से कांपती हुई उठकर खड़ी हो गई।
फिर सास बोली कि अभी तो तेरी मुहं दिखाई बाकी है और अब तू इस घर के कुछ नियम सीख ले.. घर पर तुझे सब रंडी या गालियाँ देकर ही बुलाएँगे और तुझे घर में एक नौकरानी की तरह बाकी नौकरो के साथ काम करना पड़ेगा। में जो कपड़े दूँगी तू वो ही पहनेगी और तू किसी भी काम के लिए कभी भी मना नहीं करेगी। फिर में यह सब बातें सुनकर बहुत डर गयी। तो फिर मेरी सास ने मुझे इसके आगे बताया कि तू इस घर की रंडी बनकर रहेगी। आज तेरा मुहं और चूत दिखाई होगी.. तू घर के सभी मर्दों को खुश और संतुष्ट करेगी। यह बात सुनकर तो में बहुत चकित रह गई और फिर उन्होंने अपने साथ लाए कपड़े मुझे दिए और कहा कि नहाकर यह कपड़े पहनकर अपने ससुर के कमरे में आ जाना और थोड़ा जल्दी.. वरना में तेरा बहुत बुरा हाल करूँगी कि तू जिन्दगी भर नहीं भूलेगी। तो में जल्दी से बाथरूम गई और फटाफट नहाकर बाहर आई और जब मैंने वो कपड़े देखे जो मेरी सास ने लाकर मुझे पहनने के लिए दिए थे तो में उन्हें देखकर बहुत हैरान हुई। उसमे सिर्फ़ लाल रंग की एक चोली और घाघरा था.. वो चोली भी बहुत छोटी और सिर्फ़ पीछे एक डोरी से बंधी हुई थी और उसमे से मेरे 32 साईज़ के बूब्स सब बाहर दिख रहे थे और घाघरा इतना छोटा कि मेरी नंगी जांघे दिख रही थी और उसके साथ एक जाली का दुपट्टा था जो कि कुछ भी छुपा नहीं रहा था। फिर मुझे अपने आपको ऐसे दिखाने में बहुत शरम आ रही थी और ऐसे ही मुझे अपने ससुर के सामने जाना था। मेरे ससुराल में सब कमरो के बीच में एक खुला आँगन है और जब में अपने कमरे से निकली तो घर के नौकर बंसी और रामू मुझे घूर घूरकर देख रहे थे और तभी इतने में मेरा देवर मेरे पास आया और बोला कि अरे रंडी भाभी तू क्या माल लग रही है? जब मेरा नंबर आएगा तो में तेरा वो हाल करूँगा कि तू सोच भी नहीं सकती.. चल अभी के लिए एक चुम्मा ही दे दे और यह कहकर वो ज़बरदस्ती मुझे चूमने लगा और मेरे बूब्स दबाने लगा और यह सब वो नौकरो के सामने ही कर रहा था। फिर वो बोला कि चल कुतिया अभी अपने ससुर को अपनी नई नवेली चूत दिखा और फिर उसने मुझे मेरे ससुर के कमरे के दरवाजे पर छोड़ा। तो अपने देवर के चूमने और मेरे बूब्स दबाने से मेरी चूत गीली हो गयी थी। फिर मैंने दरवाज़ा खटखटाया.. तभी मुझे अंदर से मेरी सास की आवाज़ आई कि रंडी अंदर आ जा और अपने घुटनों पर बैठकर कुतिया बन जा।
फिर मैंने दरवाजे से थोड़ा अंदर आकर देखा कि अंदर कमरे में बहुत रोशनी थी और मेरे ससुर कुर्सी पर बैठे थे और मेरी सास बिस्तर पर। तभी ससुर गुस्से में बोले कि साली रंडी हरामजादी तू कितनी देर में आई है चल अब यूँ ही घुटनों के बल बैठकर कुतिया जैसे चलकर मेरे पास आ और मेरे जूते चाट। फिर जब में घुटनों पर कुतिया बनने के लिए बैठी तो बिना ब्रा के मेरे दोनों बूब्स चोली के बाहर लटक गये और मेरी नंगी गांड दिखने लगी और मुझे बहुत शरम आ रही थी.. लेकिन मेरे पास और कोई रास्ता भी नहीं था। फिर में वैसे ही कुतिया की तरह अपने घुटनों के बल अपने ससुर के पास गयी और उनके जूते चाटने लगी.. मेरा मुहं नीचे अपने काम में लगा हुआ था और मेरी गांड के ऊपर मेरे ससुर अपना एक हाथ फिराकर दबा रहे थे। उन्होंने धोती कुर्ता पहना था। फिर वो मुझसे बोले कि अब तू अपने बूब्स मेरे पैरों पर रगड़ और अपने आपको गालियाँ दे और मेरा लंड माँग।

फिर मैंने अपने लटकते हुए बूब्स अपने ससुर के पैरों पर रगडे और गालियाँ देनी शुरू की.. मालिक में रंडी, हरामजादी कुतिया हूँ.. मालिक में आपके लंड की प्यासी हूँ.. मालिक मुझे आपका लंड चूसने दीजिए। मेरी चूत को आप जैसे चाहे मारो.. मालिक में आपकी रंडी हूँ। में ऐसे कह रही थी तभी उन्होंने अपना लंड धोती से निकाला और मेरे मुहं में डाल दिया और मेरे बाल पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगे.. उनका लंड मेरे गले तक आ रहा था और उन्होंने जल्दी ही मेरे मुहं में सारा वीर्य का पानी छोड़ दिया और यह सब देख रही मेरी सास भी गरम हो गयी थी और अपनी चूत में उंगली कर रही थी। तो मेरे ससुर ने कहा कि अब जा साली रंडी अपनी सास की चूत चाट.. मुझे लगा कि ससुर जी ने अब मुझे फ्री कर दिया और में वैसे की कुतिया बनकर बिस्तर पर सास के पास गयी। उन्होंने अपनी गीली चूत फैला दी और में उनकी चूत चाटने लगी। तभी मेरे ससुर पीछे से अपनी छड़ी लेकर आए और मेरी गांड में डाल दी में बहुत ज़ोर से चिल्लाई तो मेरी सास ने मुझे चार जोरदार थप्पड़ मारे और गालियाँ दी.. रंडी कमिनी लगता है पहली बार तेरी गांड मारी जा रही है। में चुप हो गयी और मेरी सास की चूत वापस चाटने लगी। तो मेरी सास अपनी चूत चटवाते हुए सिसकियाँ ले रही थी और मेरे बूब्स ज़ोर ज़ोर से दबा रही थी। तभी मेरे ससुर ने मेरी चूत में पीछे से ही अपना लंड डाल दिया और कुतिया की तरह चोदने लगे.. में बहुत गरम हो गयी थी और मेरी सास भी अब एक बार झड़ चुकी थी.. लेकिन में अभी भी आहह आह्ह्ह कर रही थी और कह रही थी और चोदो मुझे और चोदो मुझे.. 10 मिनट चोदने के बाद मेरे ससुर ने अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाला और वीर्य ज़मीन पर झाड़ दिया.. लेकिन में अभी तक एक बार भी झड़ी नहीं थी और चुदाई के लिए तड़प रही थी। तो यह देखकर मेरा ससुर बोला कि साली रंडी और चुदना चाहती है ना.. फिर मैंने कहा कि जी मालिक तो उन्होंने एक मोटी सी मोमबत्ती ली और मेरी चूत में डाल दी और कहा कि अब उछल साली हरामजादी कुतिया.. अब तू इस मोमबत्ती को और चूत को हाथ मत लगाना और सुबह तक तड़प। फिर मेरी सास बोली कि चल यह ज़मीन पर पड़ा वीर्य सब अपनी जीभ से चाटकर साफ कर। तू नहीं तो क्या तेरी माँ साफ करेगी कुतिया की औलाद और फिर अपने पति के कमरे में जा वो अभी सो रहा होगा.. तू उससे जगाना मत.. बस नंगी होकर और उसका लंड अपने मुहं में डालकर रखना और सुबह लंड चूसते हुए उसे उठा देना। उसे ऐसे ही सोने की आदत है बाकी का काम में तुझे कल सुबह चाय पर बताउंगी।

फिर मैंने सारा वीर्य ज़मीन से चाटकर साफ किया और अपने पति के कमरे में आई और मैंने देखा कि वो नंगा होकर अपने पैर फैलाए सो रहा था और जैसा मेरी सास ने कहा था। में अपनी घाघरा चोली उतारकर नंगी होकर अपनी चूत में मोमबत्ती डाले बिस्तर पर गयी और अपने पति का लंड मुहं में डालकर सो गयी। फिर रात को गहरी नींद में मेरा पति मेरे बूब्स अपने दोनों हाथों से मसल रहा था। दोस्तों इसके बाद मेरे पति ने मुझे तड़पा तड़पा कर चोदा और अब मेरा देवर मुझे अपनी रांड बनाकर चोदता है और मेरी सास मुझे बीच आँगन में नंगा करके नौकरो से चुदवाती है और सबके खाना खाते वक़्त में सबका लंड चूसती हूँ और घर के मर्द मेरे बूब्स को चूसते है और मेरे ससुर मुझे अपने कुत्ते के साथ कुतिया बनाकर बेल्ट से बाँधकर रखते है। घर में कोई भी कभी भी मेरी चूत में लंड डाल देता है और ख़ास मेहमनो के सामने मुझे नंगी होकर पहले खाना सर्व करना पड़ता है और फिर मुझे रंडी बनाते है। हर दिन मेरे जिस्म से नया खेल खेलते है। दोस्तों मेरी गीली चूत से आप सभी लोगों को सलाम ।।